Saturday , November 17 2018

पेन बनाने का व्यापार शुरू कैसे करें | How to start Ball Pen making business in hindi

How to start Ball Pen making business in hindi पेन हर समय काम आने वाली चीज़ों में से एक है. घर से स्कूल और स्कूल से दफ्तर हर जगह इसकी आवश्यकता होती है. इसका व्यापार बहुत कम पैसे में शुरू किया जा सकता हैं. ख़ास कर बॉल पेन का इस्तेमाल हर क्षेत्र के लोगों में बहुत पसंद किया जाता है. बॉल पेन की सबसे ख़ास बात ये होती है कि इसकी स्याही जल्द से जल्द सूख जाती है. इन दिनों ‘यूज़ एंड थ्रो’ पेन का भी खूब इस्तेमाल किया जा रहा है. यूज एंड थ्रो पेन या बॉल पेन का उद्योग बहुत आसानी से अपने घर में शुरू किया जा सकता है.

Ball Pen

पेन बनाने का व्यापार शुरू कैसे करें

How to start Ball Pen making business in hindi

पेन बनाने के लिए आवश्यक सामग्रियाँ (Ball Pen making raw material list)

बॉल पेन बनाने के लिए निम्नलिखित सामग्रियों की आवश्यकता होती है.  

  • बैरल – बैरल पेन का वह हिस्सा होता है, जिसमे स्याही भरी जाती है. यह आपको 140 रूपये प्रति 250 पीस में मिल सकता है.
  • एडाप्टर – एडाप्टर बैरल और टिप के बीच का हिस्सा होता है. जोकि 4.5 रूपये प्रति 144 पीस मिल सकता है.
  • टिप – टिप पेन का वह हिस्सा होता है, जहाँ से लिखते समय स्याही नियमित रूप से बाहर आती है. यह आपको 28 से 35 रूपये प्रति 144 पीस में मिल सकता है.
  • ढक्कन – यह पेन को ढ़कने के लिए उपयोग किया जाता है. इसके ढक्कन की कीमत 25 रूपये प्रति 100 पीस है.
  • स्याही – यह पेन के लिए सबसे महत्वपूर्ण सामग्री है जोकि 120 से 400 रूपये प्रति लीटर में मिल सकती है.

पेन बनाने के लिए आवश्यक सामग्रियाँ कहाँ से ख़रीदें (Ball Pen making raw material)  

पेन बनाने की चीज़े किसी बड़े होल सेल मार्किट में मिल सकती हैं. या इन्हें ऑनलाइन भी पाया जा सकता है, जो ये सारी चीज़े आप के घर तक पहुंचा देंगे. इसे ऑनलाइन मंगाने के लिए नीचे दिए गये वेबसाइट पर जायें.

  • बैरल के लिए https://dir.indiamart.com/search.mp?ss=pen+barrel&source=autosuggest वेबसाईट पर जायें.
  • एडाप्टर के लिए https://dir.indiamart.com/search.mp?ss=pen+adapter वेबसाईट पर जायें.
  • टिप के लिए https://dir.indiamart.com/search.mp?ss=pen+tip वेबसाईट पर जायें.
  • ढ़क्कन के लिए https://dir.indiamart.com/search.mp?ss=pen+caps&source=autosuggest पर जायें.
  • स्याही के लिए https://dir.indiamart.com/search.mp?ss=ink+ पर जायें.

पेन बनाने के लिए मशीनें (Ball Pen making machines)

यह उद्योग शुरू करने के लिए कम से कम 200 वर्ग फिट जगह की आवश्यकता होती है. इस जगह में लगभग पांच मशीनें बैठाई जाती हैं. नीचे पांचों मशीनों के विषय में दिया जा रहा है.

  • पंचिंग मशीन : पंचिंग मशीन वह मशीन होती है जिससे बैरल में एडाप्टर सेट किया जाता है.
  • इंक फिलिंग मशीन : इंक फिलिंग मशीन की सहायता से बैरल में स्याही भरी जाती है.
  • टिप फिक्सिंग मशीन : टिप फिक्सिंग मशीन की सहायता से पेन के एडाप्टर में टिप लगाया जाता है, जो लिखने में सहायक है.
  • सेण्ट्रीफ्यूगिंग मशीन : इसकी सहायत से पेन के अन्दर स्याही भरते हुए रह गये अतिरिक्त हवा को पेन से निकाला जाता है.

पेन बनाने के व्यापार के लिए कुल लागत (Ball Pen making business cost)

आम तौर पर सस्ते मशीन की कीमत 25,000 रूपए हैं, ये मशीनें छोटा व्यापार शुरू करने के लिए ठीक है. इसे कई बड़ी हार्डवेयर दूकानें बेचती हैं. इसे ऑनलाइन मंगाने के लिए निम्न वेबसाइट देख सकते हैं :

https://dir.indiamart.com/impcat/ball-pen-making-machine.html   

उपरोक्त सभी चीज़ों को लेकर पहली बार पेन बनाने के व्यापार को स्थापित करने के लिए 30 से 40 हज़ार रूपए तक लग सकते हैं. इन 40 हज़ार रुपये में 25 हज़ार सिर्फ मशीन के हैं. अतः ये अनुमान लगाया जा सकता है कि यदि एक बार मशीन बैठा लिया जाए तो, कम से कम पैसे लगा कर यह व्यापार चलाया जा सकता है. इसके अलावा यदि आप बड़ा व्यापार शुरू करना चाहते हैं तो इसके लिए ऑटोमेटिक मशीन की आवश्यकता होती है जोकि आपको 4 लाख रूपये तक मिल सकती है. इसके लिए कुल लागत इससे ज्यादा भी हो सकती है.

पेन बनाने की प्रक्रिया (Ball Pen making process)

पेन बनाने की प्रक्रिया आसान और अल्प सामायिक है. यहाँ इस प्रक्रिया का पूर्ण विवरण दिया जा रहा है.

  • सबसे पहले बैरल को पंचिंग मशीन में लगाना होता है. इस मशीन में पहले से एडाप्टर लगे हुए होते हैं. बैरल एडाप्टर को देखते हुए सही जगह लगाकर पंच करते ही बैरल में एडाप्टर सेट हो जाता है.
  • एडाप्टर सेट हो जाने के बाद बैरल में स्याही भरने की प्रक्रिया आती है. स्याही भरने के लिए इंक फिलिंग मशीन का इस्तेमाल होता है. इंक फिलिंग मशीन में पहले से स्याही भरी हुई होती है. स्याही भरते समय इस बात का ध्यान रखना ज़रूरी है कि स्याही बैरल की साइज़ के अनुसार भरी जाए. अधिक स्याही भरने से वह बाहर भी आ सकती है जिससे पेन की क्वालिटी पर भी असर पड़ सकता है.
  • इसके बाद बैरल की ऊपरी छेद पर हाथ लगाकर रखें, फिर उसे टिप फिक्सिंग मशीन में लगाया जाता है. इस मशीन की सहायता से स्याही भरे बैरल में टिप लगाया जाता है. इसके बाद ये बैरल पेन में बदल जाता है.
  • इसके बाद इस पैन को सेंट्रीफ्यूगिंग मशीन में डाला जाता है जिससे इसके अंदर की अतिरिक्त हवा बाहर निकल जाए.
  • अब इस पेन का इस्तेमाल लिखने के लिए आराम से किया जा सकता है. इसी तरह आप मशीनों की मदद से अधिक संख्या में पेन बना सकते हैं और अपने ब्रांड का पेन बाज़ार में उतार सकते हैं.

पेन बनाने के व्यापार की मार्केटिंग (Ball Pen making business marketing)         

बाज़ार में कई छोटी बड़ी कंपनियां पेन का व्यापार कर रही हैं, ऐसे में अपने व्यापार को बढाने के लिए कुछ विशेष क़दम उठाने की ज़रुरत होती है. पेन की क्वालिटी बेहतर रखना मार्केटिंग की पहली शर्त है. क्वालिटी बनाये रखने के लिए सर्वप्रथम पेन की स्याही को बेहतर क्वालिटी का रखना होगा. इसके साथ ही एक और बड़ी आवश्यकता टिप की क्वालिटी भी अच्छी होनी चाहिए ताकि लिखावट अच्छी हो सके. अपने ब्रांड को प्रमोट करने के लिए छोटे बड़े पोस्टर्स और होर्डिंग का इस्तेमाल कर सकते हैं. शहर के उन्नत जगहों पर अपने ब्रांड की होल्डिंग लगवाएं ताकि अधिक से अधिक लोगों की नज़र आपके ब्रांड पर पड़ सके.

पेन की पैकेजिंग कैसे करें (Ball Pen packaging)

पैकिंग करते हुए ऐसे पैकेट्स तैयार करें, जो आकर्षक दिखाई दे. तात्पर्य यह है कि, पांच पेन की कीमत पर एक अधिक पेन ऑफर के तौर पर पैकेट में डाल दें. इससे ग्राहक आपके ब्रांड की तरफ आकर्षित होंगे. आम तौर पर पेन बेचने के लिए 5 या 10 पीस के पैकेट्स बनाए जा सकते हैं. इसे आप खुल्ला भी बेच सकते हैं.

पेन बनाने के व्यापार का पंजीकरण (Ball Pen making business registration)

सबसे पहले व्यापार शुरू करें और व्यापार जब तेज़ गति से चलने लगे तो अपने ब्रांड का पंजीकरण करा लें. आप अपनी कंपनी का पंजीकरण LLP, OPC या PVT. LTD के अंतर्गत करा सकते हैं. आपको अपने लोकल अथॉरिटी से ट्रेड लाइसेंस लेने की आवश्यकता होती है. कंपनी के नाम का करंट बैंक अकाउंट और पैन कार्ड होना भी ज़रूरी है. इसमें ‘पोल्यूशन कंट्रोल बोर्ड’ के लाइसेंस की ज़रुरत नहीं पड़ती है. यह बड़े व्यापार को शुरू करने के लिए बहुत जरुरी है.

अन्य पढ़ें –

8 comments

  1. Thanks for pen making business

    But iska ro material kha milega in Bihar ye bta dijiye bus sar please sar

  2. पेन टोटल खर्चा और कितनी लागत आती है बनाने में और कितना पर्सेंट पैसा बचता है

  3. Main yeh Jaanna chahta hu ki USE AND THROW k atirkt bhi jo pen plastic body k ander refill waale aate hain .unka baaki mattirial hame kaha se milega .ya uski koi machine ya dye aati..aur reffil ka ca cover,cap,back side waali dot hum kaise prapt karein..
    Plz reply me.

  4. sir muje ball. pen making business krna hai..
    PR eski machine aur raw material Maharashtra m kha milegi pls batayiye…
    bahut din se ye business krne ka soch RHA hu..pls co. me sir

  5. Sir machine kahan milegi aur iska raw metrial kahan milega im from hyderabad telangana

  6. Aap ka business idea bahut pasand sabhi dozen
    K ball pen choti machine s banjayega

  7. Pen banane me kitna kharch aata hai or profit kitna hota hai ek pic me kitna kharch aayega or ye 20 ya 25 wali masin ek din me kitna pen banati hai

  8. Gajibaksh MD.hanif sannate

    Please menssion your contact no. And address.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *