मैरिज [बैंक्वेट] हॉल बिज़नेस कैसे करें | Banquet Hall Business in Hindi

मैरिज हॉल बिज़नेस, बैंक्वेट हॉल, प्लान डिज़ाइन, लाइसेंस, प्रॉफिट (Banquet Hall Business Plan Rental, Profitable, Insurance, Sale in Hindi)

बैंक्वेट हॉल जिसे मैरिज हॉल भी कहते हैं यह आज के समय में सबसे ज्यादा कमाई वाला बिज़नेस बन चूका है. आपने अक्सर देखा होगा कि लोगों को शादी, पार्टी, सालगिरह, रिसेप्शन, जन्मदिन पार्टी आदि का आयोजन करना होता हैं तो वे उसके लिए एक बड़े से हॉल या लॉन को बुक करते हैं. जिसमें 500 से 1000 लोग एक साथ आ सकें. और आज के समय में विभिन्न समारोहों, उत्सवों एवं पार्टियों को बड़े स्तर में आयोजित करने का चलन भी बहुत अधिक हो गया है. ऐसे में यदि आपके पास पूंजी या जमीन की कमी नहीं है तो आप एक बैंक्वेट हॉल या मैरिज हॉल का निर्माण कर उसे खोल सकते हैं. इस बिज़नेस को करने में आपकी बहुत ज्यादा अर्निंग हो सकती हैं. इसके लिए क्या जरुरी चीजें हैं यह समझने के लिए हमारे इस लेख को पूरा पढ़ें. 

banquet hall business

बैंक्वेट हॉल बिज़नेस शुरू करने के लिए कुछ आवश्यकताएं (Requirements)

  • निवेश :- चुकी यह बिज़नेस एक बड़े लेवल वाला बिज़नेस हैं इसलिए आपको सबसे पहले तो निवेश के बारे में सोचना चाहिये, क्योकि इसमें निवेश ज्यादा करना होता है. लेकिन यदि आप किसी रेजिडेंशियल काम्प्लेक्स आदि में उपलब्ध जगह को किराएँ पर लेकर यह बिज़नेस करते हैं तो इसमें आपको कम निवेश की आवश्यकता होगी.    
  • डेकोरेशन :- आपके बैंक्वेट हॉल को बहुत ही खूबसूरती के साथ सजाया जाना चाहिए. एवं इसमें सभी प्रकार की सुविधा भी होनी आवश्यक है. और आपका हॉल इतना बड़ा होना चाहिये कि 500 से 1000 लोग एक साथ वहां आ सकें. इसके अलावा 2 से ज्यादा फ्लोर हो तो लिफ्ट की सुविधा भी होनी चाहिए.
  • लोकेशन :- आपका बैंक्वेट हॉल एक ऐसे स्थान पर होना चाहिये, जहाँ पहुँचाना आसान हो एवं पार्किंग की सुविधा भी हो.
  • अन्य आवश्यक चीजें :- इसके साथ – साथ आपके बैंक्वेट हॉल में एसी, कुर्सी, टेबल, पर्दे, कार्पेट, कम से 5 से 10 कमरे, वाईफाई सुविधा, बिजली के साथ ही जनरेटर की सुविधा, सीसीटीवी कैमरा, बच्चों के लिए इंडोर गेम एवं प्ले एरिया, डांस फ्लोर, म्यूजिक डीजे की सुविधा, मंच, बेहतर खाने का मैनू आदि होना आवश्यक है. इसके अलावा कॉर्पोरेट मीटिंग के लिए कॉन्फ्रेंस टेबल एवं प्रोजेक्टर की सुविधा भी होनी आवश्यक है.

फोटो एडिटिंग बिज़नेस करके महीने के 20 से 40 हजार रूपये बिना निवेश के कमा सकते हैं, जानें कैसे

बैंक्वेट हॉल बिज़नेस की मांग (Scope)  

आम तौर पर बैंक्वेट हॉल को लोग न सिर्फ शादी पार्टीयों के लिए बुक करते हैं बल्कि यहां कॉर्पोरेट पार्टी जैसे मीटिंग, ट्रेनिंग, किसी प्रोडक्ट की लौन्चिंग, सवर्द सेरेमनी, प्रोडक्ट प्रमोशन एवं ट्रेड फियर आदि के लिए भी करते हैं. कुछ लोग व्यक्तिगत इवेंट जैसे फ्रेशर एवं फेयरवल पार्टी आदि में भी करते हैं. आपको बता दें कि आज के समय में आय दिन इस तरह के आयोजन होते ही रहते हैं. ऐसे में लोगों के बीच बैंक्वेट हॉल की मांग भी ज्यादा होती हैं. और भारत में ऐसे करोड़ों हॉल का निर्माण किया जा चूका है इसलिए इसमें आपके प्रतिस्पर्धी भी बहुत होंगे. आप उनसे सम्पर्क करके यह देख लें कि उनके द्वारा लोगों को क्या – क्या सुविधाएँ दी जा रही हैं. इसके बाद आप उससे अच्छी सुविधा देने की कोशिश करें. अतः यदि आप इस बिज़नेस को शुरू करने के बारे में सोच रहे हैं, जो जरुर शुरू करिए इससे आपकी अर्निंग बहुत ज्यादा होगी. इसके लिए आपका प्रतिस्पर्धी, मार्केटिंग रणनीति एवं बेहतर सुविधायें प्रदान करना सबसे ज्यादा जरूरी है.

बैंक्वेट हॉल बिज़नेस में पूंजी की व्यवस्था (Funding)

चुकी इसमें कई सारी चीजों की आवश्यकता होती हैं इसलिए इसमें निवेश भी ज्यादा करना होता है. यदि उद्यमी के पास इस बिज़नेस को करने के लिए बेहतर फंडिंग हैं तो ठीक है, और अगर नहीं है तो वे सरकार द्वारा चलाई जा रही हैं विभिन्न योजनाओं के तहत बैंक या फाइनेंस कंपनियों से लोन ले सकते हैं. इस तरह से आपकी पूंजी की व्यवस्था ही जाएगी.

बैंक्वेट हॉल बिज़नेस शुरू करने में पूंजी की व्यवस्था के लिए सरकार की मुद्रा लोन योजना का लाभ उठा कर 10 लाख रुपये तक का लोन ले सकते हैं.

बैंक्वेट हॉल बिज़नेस में अच्छी लोकेशन का चुनाव (Choose Location)

बैंक्वेट हॉल के लिए सबसे जरुरी चीज होती हैं बेहतर लोकेशन की, जोकि इसकी सफलता एवं असफलता सुनिश्चित करती है. इसलिए बैंक्वेट हॉल का बिज़नेस करने के लिए लोकेशन का चुनाव यह देखते हुये करें कि वह ऐसे स्थान पर हो जहाँ का प्रवेश द्वार चौड़ा हो, सड़क चौड़ी हो, मेहमानों के लिए पार्किंग सुविधा हो. इसके साथ ही वहां बिजली की व्यवस्था बहुत अच्छी हो.

बैंक्वेट हॉल का कंस्ट्रक्शन (Construction)

बैंक्वेट हॉल में कंस्ट्रक्शन का कार्य करने के लिए इंटीरियर डेकोरेटर की मदद लेना आवश्यक है. वे उन्हें इसके लिए बेहतर सलाह दे सकते हैं. क्योकि उद्यमियों को इसके बारे में उनकी तुलना में नॉलेज कम होता है. आप एक अच्छे इंटीरियर डेकोरेटर से बात करें उन्हें अपनी सभी आवश्यकताएं बताएं और उसके अनुसार आपके लिए बैंक्वेट हॉल का कंस्ट्रक्शन करें. आपको इसके लिए उन्हें कुछ फीस देनी होगी.

हॉस्टल या पीजी का व्यवसाय करने से प्रतिमाह कमा सकते हैं 1 से 2 लाख रूपये तक.

बैंक्वेट हॉल की सजावट (Decoration)

बैंक्वेट हॉल का निर्माण करने के बाद ज्यादा ध्यान देने वाली बात यह है कि आप अपने बैंक्वेट हॉल को किस तरह से आकर्षक बनाएं ताकि वह आपके प्रतिस्पर्धियों से अलग दिखे और लोगों को पसंद भी आये. आप इसकी सजावट जितने ज्यादा अच्छे ढंग से करेंगे उतना ज्यादा आपको फायदा मिलेगा. इसमें आप वो सभी सुविधायें भी देना न भूलें जोकि आवश्यक हैं. यदि किसी ग्राहक को थीम पार्टी रखना है तो उसके प्रबंध की भी सभी चीजें करें. 

बैंक्वेट हॉल में कर्मचारियों की नियुक्ति (Staff)

बैंक्वेट हॉल में पार्टीयों के आयोजन एवं अन्य चीजों के लिए कर्मचारियों की नियुक्ति करना आवश्यक है. इसके लिए कर्मचारी का कौशल एवं प्रशिक्षित होना आवश्यक है. ताकि वे ग्राहकों की सभी इच्छाओं को पूरा करने में मदद कर सके. कर्मचारियों का समझदार होना भी आवश्यक होता है.

प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत भी पैसे कमा सकते हैं, जानें क्या करना होगा.

बैंक्वेट हॉल बिज़नेस में मेनू एवं टैरिफ निर्धारण (Menu and Tariff)

इस बिज़नेस में मेनू एवं टैरिफ का निर्धारण करना भी आवश्यक है. इसके लिए आप ये देखें कि किस तरह एक लोग ज्यादातर वहां आते हैं एवं उन्हें किस तरह का खाना पसंद है. क्योकि यदि साउथ के लोग आते हैं तो उन्हें साउथ इंडियन खाना पसंद होता है. इसी तरह से अन्य क्षेत्र के लोगों के लिए विभिन्न तरह के खाने की व्यवस्था मेनू एवं टैरिफ प्लान का निर्धारित करके कर सकते हैं.

बैंक्वेट हॉल बिज़नेस में लाइसेंस एवं रजिस्ट्रेशन (License and Registration)

  • सबसे पहले प्रोप्राइटरशिप, पार्टनरशिप, प्राइवेट लिमिटेड एवं लिमिटेड आदि में किसी एक का चुनाव करें.
  • इसके बाद अपने बिज़नेस के नाम से एक चालू खाता एवं टैक्स पंजीकरण करना न भूलें.
  • अपने बिज़नेस को उद्योग आधार में रजिस्टर कराएं. इससे विभिन्न सरकारी योजनाओं का लाभ उठा सकेंगे.
  • यदि आप कर्मचारियों को रखते हैं और उनकी संख्या 10 या 10 से अधिक है और तो पीएफया ईएसआई रजिस्ट्रेशन कराना आवश्यकता है.
  • आपको एक TAN नंबर की भी आवश्यकता होगी, जोकि कर्मचारियों के वेतन से टैक्स डिडक्ट करने के लिए होती है. 
  • यदि आप अपने ग्राहकों को फ़ूड सुविधा देते हैं तो आपको इसके लिए एफएसएसएआई लाइसेंस प्राप्त करना होगा.
  • आपको फायर डिपार्टमेंट से नो ऑब्जेक्शन सर्टिफिकेट यानि एनओसी भी प्राप्त करनी होगी.

अपने बिज़नेस के लिए जीएसटी के तहत रजिस्ट्रेशन कराएँ, जानें यहाँ आवेदन की पूरी प्रक्रिया.

बैंक्वेट हॉल बिज़नेस में लाभ (Profit)

बैंक्वेट हॉल के बिज़नेस में कोई शक की बात नहीं है कि आपका इसमें प्रॉफिट होगा या नहीं क्योंकि यह बिज़नेस ऐसा है जिसमें आपको लाभ होना ही है. आय दिन होने वाले विभिन्न समारोह का आयोजन करने के लिए लोगों द्वारा बैंक्वेट हॉल बुक किये जाते हैं एक बार में आप उनसे 1 लाख रूपये तक किराया ले सकते हैं. इसका किराया आगे जाकर आपकी करोड़ों की कमाई करा सकता है. अतः इससे आपको लाखों में सबसे ज्यादा अर्निंग होगी.

तो ये था बैंक्वेट हॉल बिज़नेस शुरू करके सबसे ज्यादा अर्निंग करने का महत्वपूर्ण मौका. इस बिज़नेस को करने में आपको एक बार बस निवेश करना है इसके बाद इससे आपको फायदा ही फायदा होता जायेगा.

FAQ

Q : बैंक्वेट हॉल क्या है ?

Ans : जहां किसी सेमीनार, शादी या पार्टी का आयोजन किया जाता है वह जगह बैंक्वेट हॉल कहलाती है.

Q : बैंक्वेट हॉल बनाने में कितना खर्च आता है ?

Ans : 1 हजार स्क्वेयर फुट की जगह में लगभग 40 से 50 लाख रूपये खर्च आता है.

Q : बैंक्वेट हॉल बिज़नेस प्रॉफिटेबल है ?

Ans : हां, क्योंकि आज के समय में बहुत सी छोटी बड़ी पार्टियों का आयोजन या कोई सेमीनार का आयोजन बैंक्वेट हॉल में ही किया जाता है.

Q : बैंक्वेट हॉल का एवरेज साइज़ क्या होना चाहिए ?

Ans : 10 से 20 स्क्वेयर फीट.

Q : बैंक्वेट हॉल की मार्केटिंग कैसे करें ?

Ans : न्यूज़पेपर एवं सोशल मीडिया के जरिये.

अन्य पढ़ें –

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *