Most Demanding Business : बाजार में सबसे ज्यादा मांग हैं इस बिज़नेस की, होती हैं जबदस्त कमाई और निवेश न के बराबर

पढ़ाई करते समय हर व्यक्ति अपना करियर बनाने के बारे में सोचता है. और इसके लिए काफी प्रयास भी करता है. लेकिन जब वे अपने करियर के बारे में सोचते हैं, तो वे उसका चुनाव करने में काफी कन्फ्यूज्ड हो जाते हैं. ऐसे में वे करियर काउंसेलर के पास जाते हैं, जोकि उनकी इस कार्य में मदद करते हैं. ऐसा आवश्यक नहीं है कि पढ़ाई करने वाले एक स्टूडेंट को ही करियर काउंसेलर की आवश्यकता होती है बल्कि जो लोग पढ़ाई के बाद किसी काम में जुड़े हुए हैं या अनुभवी होने के बावजूद भी बेरोजगार हैं उन्हें भी करियर काउंसेलर की आवश्यकता होती है. यदि आप इस कार्य में विशेषज्ञ हैं तो आप इस बिज़नेस की शुरुआत करके अच्छा पैसा कमा सकते हैं इस बिज़नेस की मार्केट में मांग बहुत ज्यादा होती है. आइये इस बिज़नेस के बारे में कुछ बात विस्तार से करते हैं.

career counseller

करियर काउंसलिंग क्या होती है

करियर काउंसेलर बनने से पहले आपका यह जानना जरुरी है कि आखिर करियर काउंसलिंग क्या होती है. तो हम आपको बता दें कि करियर काउंसलिंग एक तरह की सर्विस होती है, जो लोगों को उनका करियर चुनने में मदद करती है. इसे आप करियर कोचिंग या करियर डेवलपमेंट भी कह सकते हैं. इसके लिए लोग अपने लक्ष्यों को पूरा करने के लिए ध्यान केंद्रित करते हैं. इस सेवा के साथ वह व्यक्ति जो अपने पसंद के अनुसार करियर के शुरूआती सीढ़ी में हो या फिर कुछ सीढ़ी चढ़ने के बाद दोबारा से शुरुआत करने की सोच रहे हैं शामिल हो सकता है. कुछ वे लोग भी इसमें शामिल हो सकते हैं जो अपने करियर में शुरूआती चरण में हैं और आगे बढने के बारे में निर्णय लेना चाह रहे हैं.

कोचिंग सेंटर की स्थापना करके कर सकते हैं लाखों की कमाई.

करियर काउंसलिंग बिज़नेस की मांग

आजकल की जनरेशन ऐसी है जोकि अपने करियर को लेकर काफी अधिक कन्फ्यूज्ड रहती हैं और उन्हें काउंसेलर की मदद चाहिये होती हैं. इसलिए इस समय करियर का चुनाव करने में मदद करने वाले करियर काउंसेलर की मांग बाजार में बहुत अधिक है. यू समझ लीजिये कि यह इस समय सबसे ज्यादा मांग वाला बिज़नेस बन चूका है. यदि आप एक बहुत अच्छे सलाहकार हैं, तो इस बिज़नेस को शुरू करके न सिर्फ आप लोगों की मदद करते हैं, साथ ही खुद की अच्छी अर्निंग भी कर सकते हैं.

करियर काउंसलिंग के फायदे

करियर के चयन में चुकी हर व्यक्ति कन्फ्यूज्ड होता है ऐसे में करियर काउंसेलर बहुत ही महत्वपूर्ण रोल निभाते हैं. पहले के समय में ज्यादा करियर बनाने के विकल्प नहीं हुआ करते थे, किन्तु आधुनिक समय में विभिन्न तरह की फील्ड मौजूद हैं जहाँ पर लोग अपना करियर बना सकते हैं. इसमें लोगों की मदद करियर काउंसलिंग द्वारा ही होती है जिसके अनेकों फायदे हैं जोकि इस प्रकार हैं –

  • करियर काउंसेलर समयनुसार छात्रों का एप्टीटयूट टेस्ट लेते हैं. जिससे छात्रों को यह पता चलता हैं कि उनकी बैद्धिक क्षमता कितनी है. और वे किस तरह के करियर का चुनाव करने के लिए तैयार हैं. यानि कि छात्र को अपने करियर का आंकलन करने में मदद मिलती है.
  • पढ़ाई पूरी करने के बाद कुछ लोग ये नहीं समझ पाते कि वे क्या करें. ऐसा इसलिए होता हैं क्योकि करियर का चुनाव करने का यह सही वक्त नहीं होता है. यहां तक कि वे अपने रुचि के अनुसार करियर का चुनाव कर पाने में भी सफल नहीं हो पाते हैं. लेकिन करियर काउन्सलर उनके ज्ञान एवं रुचि की पहचान करवाकर उनके करियर के चुनाव के लिए उन्हें प्रोत्साहित करता है. उनमें एकग्रता लाते हुए उन्हें दृढ़ बनाता है.
  • करियर काउन्सलर छात्रों के सलाहकार बनकर उनकी मदद एवं उनका मार्ग प्रशस्त करते हैं. करियर काउन्सलर का यह काम होता है कि वह छात्रों को निष्पक्ष होकर एवं उनकी करियर के लिए जो अच्छा है उसका चुनाव करवाएं, क्योकि जरुरी नहीं होता हैं कि डॉक्टर का बेटा या बेटी डॉक्टर ही बने. इसलिए बच्चों को उनकी रुचि के अनुसार करियर चुनने में मदद करना करियर काउन्सलर का मुख्य काम होता है.
  • इनकी सहायता से लोग अपने करियर के प्रति स्पष्ट हो पाते हैं. और उनकी सोच स्पष्ट होने के कारण वे विकास की ओर अग्रसर हो सकते हैं. जैसे कि लोगों को लिखने का शौक हैं तो वे लेखन संबंधित क्षेत्र में करियर ढूंढ सकते हैं.
  • काउंसेलर के पास जाने से लोगों का भावनात्मक सपोर्ट एवं मोटिवेशन बढ़ता है. यदि छात्रों के आगे बढने में कोई कमी रह जाती हैं तो समय रहते इसमें सुधार करने में भी उनकी मदद करता है.
  • लोगों को अपनी वीकनेस एवं स्ट्रेग्थ के बारे में पहचान करने में भी करियर काउंसेलर मदद करते हैं. इससे उन्हें अपने लक्ष्यों को पूरा करने में मदद मिलती है.

अबेकस की क्लास शुरू करके बेहतर कमाई साधन बनाएं.

करियर काउंसलर की आवश्यकता कब पड़ती है

हमने आपको पहले ही बताया कि पढ़ाई पूरी करने के बाद बच्चों के मन में सवाल उठते हैं कि वे क्या करें. किस क्षेत्र में अपना करियर बनायें. ऐसी स्थिति में उन्हें करियर काउंसेलर की मदद की आवश्यकता होती है. इसे निम्न परिस्थिति के अनुसार आप समझ सकते हैं.

  • जब आप पढ़ाई पूरी करने के बाद कई जगह अपना रिज्यूमे दे देते हैं. लेकिन फिर भी आपके पास कोई भी इंटरव्यू के लिए कॉल नहीं करता है. तब आप काउंसेलर के पास जा सकते हैं.
  • जब आप कई समय से एक जॉब कर रहे हैं और उसे छोड़े काफी लंबा समय हो गया हो और आप अब जॉब से कोषों दूर हो गये हो, तो ऐसे में दोबारा से किसी करियर की शुरुआत करने के लिए आपको पहले काउंसेलर की मदद चाहिए होती है.
  • यदि आप अपने करियर को एक नई दिशा में ले जाकर उसे विकसित करने के बारे में सोच रहे हैं, तो ऐसा करने से पहले भी आपको काउंसेलर की सलाह लेना चाहिये.

करियर काउंसलिंग बिज़नेस में कमाई

करियर काउंसेलर की कमाई की बात करें तो इस बिज़नेस की मांग ज्यादा होने के कारण इसमें उनकी अच्छी खासी अर्निंग हो जाती हैं. इस बिज़नेस को करके वे लाखों की कमाई कर सकते हैं. बड़े शहरों में यह बिज़नेस काफी फायदेमंद साबित हो सकता है.

स्टूडेंट्स के लिए पढ़ाई के अलावा बिज़नेस करने के बेहतरीन अवसर कौन से हैं जानने के लिए यहाँ क्लिक करें.

अतः इस तरह से आप बच्चों के सलाहकार बनकर लाखों की कमाई कर सकते हैं. यह काम घर बैठे भी किया जा सकता है. इसलिए इसमें आपको निवेश की भी आवश्यकता नहीं है.

अन्य पढ़ें –

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *