Sunday , November 18 2018

चिक्की और लड्डू बनाने का व्यापार कैसे शुरू करें | How to start chikki and laddu making business in hindi

चिक्की और लड्डू बनाने का व्यापार कैसे शुरू करें | How to start chikki and laddu making business plan in hindi

चिक्की और लड्डू ऐसी मिठाईयाँ हैं, जो अक्सर देश के विभिन्न राज्यों के लोगों द्वारा पसंद किया जाता है. उत्तर भारत के लगभग सभी घर में लड्डू की मांग काफी अधिक रहती है. इन क्षेत्रों में विभिन्न प्रकार के लड्डू पाए जाते हैं. दुकानों में मोतीचूर, बेसन आड़ू के लड्डू काफी अधिक मात्रा में बिकते हैं. चिक्की को स्वास्थ्य के लिए लाभ दायक बनाने के लिए इसमें विभिन्न तरह के ड्राई फ्रूट्स, मेवा आदि डाले जाते हैं, जिससे चिक्की की पौष्टिकता बढ़ जाती है.

चिक्की और लड्डू बनाने में आवश्यक कच्ची सामग्री (raw material required for chikki and laddu making)

चिक्की और लड्डू बनाने के लिए कई प्रकार के कच्ची सामग्री की जरुरत होती हैं. यहाँ पर मुख्य स्तर पर बिकने वाले लड्डूओं के रॉ मटेरियल का वर्णन किया जा रहा है.

मूंगफलीरू 70 प्रति किलोग्राम
गुड़रू 70 प्रति किलोग्राम
चीनीरू 45 प्रति किलोग्राम
नारियलरू 8
राजगीरारू 100
तिलरू 200 प्रति किलोग्राम
मुरमुरेरू 31 प्रति किलोग्राम
लाइरू 80 प्रति किलोग्राम
चनारू 78 प्रति किलोग्राम

इन सभी कच्ची सामग्री में से गुड़ बनाने का व्यापार भी आप स्वयं शुरू कर सकते है.

आवश्यक बर्तन (required Utensils)

लड्डू अथवा चिक्की बनाने के लिए बड़ी कढ़ाई, चम्मच, कलछी, आयताकार लकड़ी की पाट, जिस पर चिक्की बना के रखा जा सके आदि की आवश्यकता होती है.

chikki laddu business

लड्डू और चिक्की बनाने के व्यापार के लिए आवश्यक स्थान (required place for laddu and chikki making business)

  • घरेलू स्तर पर: यदि आप यह व्यापार घरेलू स्तर पर बिना मशीन के स्थापित करना हैं, तो आपको चिक्की और लड्डू के उत्पादन के लिए 200 वर्ग मीटर से 250 वर्ग मीटर का स्थान आवश्यक होता है.
  • मशीन की स्थापना: इस व्यापार के आवश्यक मशीन लगाने के लिए लगभग 300 वर्ग मीटर स्थान की जरुरत होती है. इसके बाद बने सामग्री की पैकेजिंग के लिए 75 से 85 मीटर स्थान की आवश्यकता होती है. अतः प्लांट बिठाने के लिए लगभग 400 से 450 वर्ग मीटर स्थान का होना आनिवार्य है.

कच्ची सामग्रियां कहाँ से खरीदें (where to buy raw materials)

समस्त कच्ची सामग्रियां नीचे दिए गए लिंक से प्राप्त की जा सकती हैं.

  • http://baniyababu.com/
  • https://www.indiamart.com/
  • https://www.alibaba.com/
  • https://www.bigbasket.com/

लड्डू और चिक्की बनाने के लिए मशीन की कीमत (Automatic laddu and chikki making machine price)

उपरोक्त दिए गये चिक्की बनाने के प्लांट को बैठाने में कुल रू 2.4 लाख रुपए की आवश्यकता होती है. इसके साथ यदि आप लड्डू बनाने की मॉल्ड भी खरीदना चाहते हैं तो इसके लिए आपको रू 50,000 खर्च करने की आवश्यकता होती है. इन दो मशीन की सहायता से आपके पास चिक्की और लड्डू बनाने का पूरा सेटअप तैयार हो जाता है.

मशीन कहाँ से खरीदें (where to buy machinery)

  • https://dir.indiamart.com/
  • https://www.alibaba.com/
  • http://www.alfamnc.com/
  • http://www.alfa.bz/

घर में चिक्की अथवा लड्डू कैसे बनाएं (How to make chikki or laddu at home in hindi)

लड्डू और चिक्की दोनों ही घर में सरलता से बनाए जा सकते हैं. इस समय इसे बनाने के लिए विभिन्न तरह की मशीनें भी आ गयी हैं.

  1. घर में लड्डू बनाने की विधि (how to make laddu at home)
  • लड्डू बनाने के लिए 700 ग्राम ड्राई फ्रूट्स, एक किलो मूंगफली, एक किलो चना, एक किलो तिल, 1 किलो मुरमुरे के साथ लगभग 1 किलो लाई और राजगीरा की आवश्यकता होती है.
  • सर्वप्रथम आपको चूल्हे पर एक कढ़ाई रखने की आवश्यकता होती है. इसमें आवश्यकतानुसार साफ पानी गर्म होने दें.
  • जब एक बार पानी गर्म होना शुरू हो जाए तो आपको इसमें गुड़ डालना होता है. गर्म पानी में गुड़ आसानी से पिघलता है. इसके बाद आपको गुड़ मिश्रित जल को अलग बर्तन में छानने की आवश्यकता होती है.
  • इसके उपरान्त छाने गये गुड़ मिश्रित जल को ऊंचे आंच में चढ़ाने की आवश्यकता होती है, ताकि इसकी चाशनी बनायी जा सके. इसमें आपको मेवा, मूंगफली, ड्राई फ्रूट आदि मिलाना होता है.
  • आप एक किलो गुड़ की चाशनी में लगभग 700 ग्राम आवश्यक ड्राई फ्रूट मिला सकते हैं. उपरोक्त सामग्री मिलाने के बाद आप मिश्रण को हाथ में लेकर गोल गोल आकार का बनाए और अलग स्थान पर रखते जायें. इस तरह से आपके हाथ का लड्डू बन जायेगा.
  1. घर में चिक्की बनाने की विधि (chikki recipe at home)
  • चिक्की बनाते समय भी चाशनी बनाने की प्रक्रिया ठीक उसी तरह की है, जैसा कि लड्डू बनाते समय बताया गया था. इसमें भी गुड़ को साफ गर्म पानी में पिघलाना पड़ता है.
  • इसके उपरान्त आपको चाशनी में आवश्यक मात्रा में ड्राई फ्रूट्स मिलाने की आवश्यकता होती है. एक किलोग्राम गुड़ की चाशनी में लगभग 5 किलोग्राम ड्राई फ्रूट्स मिलाने की जरूरत होगी.
  • आप चाहें तो इसमें केवल 5 किलोग्राम मूंगफली अथवा विभिन्न तरह के ड्राई फ्रूट्स मिला कर भी 1.5 किलोग्राम की मात्रा को पूरी कर सकते हैं. इससे चिक्की में आवश्यक ड्राई फ्रूट्स की आवश्यक मात्रा पूरी हो जाती है.
  • इसके उपरान्त मिश्रण को एक सपाट लकड़ी पर सावधानीपूर्वक फैला दें. लकड़ी के पाट पर बिछे हुए चिक्की को एक धारदार चाकू से नियमित आकार में काट कर सूखने के लिए छोड़ दें.

मशीन की सहायता से चिक्की और लड्डू कैसे बनाएं (chikki and laddu making by machine)

आप यदि कम समय में अधिक संख्या में लड्डू अथवा चिक्की बनाना चाहते हैं, तो मशीन का प्रयोग करें. इससे कम समय में अधिक उत्पादन के साथ अच्छा व्यापार कर सकते है. मशीन की सहायता से चिक्की बनाने के लिए आपको विभिन्न तरह के मशीनों की आवश्यकता होती है.

1.ग्राउंड नट रोस्टर मशीन
2.स्कीन रीमूविंग मशीन
3.ग्राउंड नट जगेरी मिक्सिंग मशीन
4.शीटिंग और कटिंग मशीन
5.पैकिंग मशीन

इन पांच मशीनों को मिलाकर चिक्की बनाने के प्लांट की स्थापना होती है.

चिक्की बनाने के लिए (chikki manufacturing process)

  • सबसे पहले ग्राउंड नट रोस्टर मशीन में मूंगफली डालने की आवश्यकता होती है, जहाँ पर 180 डिग्री तक गर्म कर मूँगफली को पकाया जाता है. इस समय मूँगफली पक के लाल तथा सख्त हो जाती है.
  • इसके उपरान्त पके हुए मूंगफली से छिलके निकालने होते हैं. इसके लिए स्किन रिमूविंग मशीन का इस्तेमाल करते है. इस मशीन की सहायता से एक बार में अधिक मात्रा में मूंगफली छीली जा सकती है.
  • इसके बाद मशीन की सहायता से गुड़ और मूँगफली को मिलाया जाता है. इसके लिए एक विशेष तरह की मिक्सिंग मशीन का प्रयोग करते है.
  • इस मिश्रण को एक ट्रे में आवश्यक मात्रा में फैलाकर एक निश्चित मोटाई देने के लिए विशेष तरह के मशीन का प्रयोग करते है. इसकी सहायता से आप चिक्की की आवश्यकता के अनुसार मोटाई प्रदान कर सकते हैं.
  • इसके तुरंत बाद इसे कटिंग मशीन से लगाना पड़ता है. यहाँ पर मशीन आपके द्वारा तय आकार में चिक्की काट कर तैयार कर देती है. इसके बाद यह चिक्की पैकिंग के लिये तैयार की जाती है.
  • इस मशीन की सहायता से एक बार में5 किलोग्राम तक चिक्की बना कर तैयार किया जा सकता है. अतः मशीन की सहायता से चिक्की कम समय में अधिक मात्रा में तैयार हो जाता है.

लड्डू बनाने के लिए मशीन (laddu making machine)

  • लड्डू बनाने के लिए मूंगफली और गुड़ मिलाने की प्रक्रिया ठीक उसी तरह से होती है, जैसा कि चिक्की बनाते समय जानकारी दी गयी है.
  • इसके बाद आप या तो हाथ की सहायता से अथवा लड्डू बनाने की मॉल्ड का उपयोग करके गोल गोल आकार के लड्डू तैयार कर सकते हैं. जो कि आसानी से बाजार में बेचने को दिए जाते है.
  • एक विशेष तरह की मशीन भी आती है, जिससे लड्डू का आकार गोल बनाया जाता है. इस मशीन की सहायता से लड्डू बेहद आसानी से गोल गोल तैयार हो जाते हैं.

चिक्की और लड्डू बनाते समय सावधानियां (laddu and chikki making Precautions)

  • चिक्की और लड्डू का व्यापार करने के लिए आपको विभिन्न तरह की सावधानियाँ बरतनी पड़ती है. आपको नियमित तौर पर अपने बनाए प्रोडक्ट की क्वालिटी की जांच करते रहने की आवश्यकता होती है. अगर आप हाथ से निर्मित लड्डू बनाना चाहें तो, ध्यान रहे आपके द्वारा बनाए जा रहे सभी लड्डूओं का आकार एक जैसा हो, अर्थात छोटा बड़ा न हो. इसी तरह से चिक्की की मोटाई और आकार का भी ध्यान रखना पड़ता है.
  • मशीन की सहायता से चिक्की बनाते समय ग्राउंड नट रोस्टिंग मशीन का तापमान संतुलित रखना होता है. तापमान ज्यादा हो जाने पर मूंगफली जल भी सकती है. इन दो प्रोडक्ट्स को तैयार करते समय आपको साफ सफाई का विशेष तौर से अपना ध्यान देने की आवश्यकता है, क्योंकि गुड़ की चाशनी चिपचिपी होने के कारण इसमें कूड़े आदि जा सकते हैं.

लड्डू और चिक्की की पैकिंग कैसे करें (how to do packaging for laddu and chikki)

आपको लड्डू तथा चिक्की बेचने के लिए इसकी पैकिंग का विशेष ध्यान रखना होता है. चिक्की के लिए आप अच्छी गुणवत्ता की पन्नी का प्रयोग कर सकते हैं, लड्डू पैक करने के लिए आपको छोटे छोटे कार्टून की आवश्यकता होती है. आप ये पैकेट चिक्की तथा लड्डू की मात्रा के मुताबिक बना सकते हैं. पैकेजिंग में आप चिक्की के पैकेट 100 ग्राम से आरम्भ कर सकते हैं. इसी तरह आप लड्डू के लिए न्यूनतम 250 ग्राम के पैकेट बना सकते हैं. बाजार में आम तौर पर ऐसी मिठाइयाँ अधिकतम 500 ग्राम के पैकेट तक बिक जाती हैं.

लड्डू और चिक्की बनाने के व्यापार की मार्केटिंग (chikki and laddu making business marketing)

अन्य व्यापारों की तरह इस व्यापार की सफलता के लिए भी आपको एक अच्छी मार्केटिंग योजना तैयार करनी होती है. आप अपने बनाए गये लड्डू अथवा चिक्की किराना दुकानों के लिए होलसेल पर बेच सकते हैं. आप चाहे स्नैक्स आदि के दुकानों में भी इसकी मार्केटिंग का प्रयास कर सकते हैं. इस लड्डू और चिक्की के व्यापार की मार्केटिंग मिठाई दुकानों में जाकर भी आसानी से हो सकती है. मंदिर तथा अन्य धार्मिक स्थलों पर भी कई लड्डू होते हैं, जो कि प्रसाद फूल आदि बेचने का कार्य करते हैं. आप अपने लड्डू इन दुकानों पर भी बेचने के लिए दे सकते हैं. आप अपने ब्रांड का प्रचार पोस्टर, होर्डिंग, अखबारों में विज्ञापन आदि के माध्यम से भी कर सकते हैं.

चिक्की एवं लड्डू बनाने के व्यापार स्थापित करने की कुल लागत (chikki and laddu making business cost)

चिक्की एवं लड्डू का व्यापार स्थापित के लिये कुल लागत की जानकारी नीचे दी जा रही है.

  • छोटे (घरेलू) स्तर पर: यह व्यापार घरेलू स्तर पर आसानी से प्रारम्भ कर सकते है. घरेलू स्तर पर इस व्यापार को स्थापित करने के लिए रू 35,000 से रू 45,000 की लागत आती है.
  • प्लांट स्थापना करने पर: बड़े पैमाने पर लड्डू और चिक्की के व्यापार को करने के लिए आपको प्लांट बैठाने की आवश्यकता होती है. प्लांट स्थापना करने के लिए 5 लाख रुपए से 4 लाख रुपए के अंदर ही खर्च करना होता है.

लड्डू और चिक्की के व्यापार में लाभ (chikki and laddu making business profit)

यदि यह व्यापार घरेलू स्तर पर करें, तो प्रति महीने कुल 15,000 रुपए से 20,000 रूपए तक कमाया जा सकता है. वहीँ दूसरी तरफ यदि आप इस व्यापार के लिए प्लांट की स्थापना करते हैं तो हर महीने एक उच्च मात्रा में व्यापार करके कुल 1 लाख रु तक की कमाई कर लेते हैं. ध्यान दें कि आपके द्वारा बनाया गया प्रोडक्ट जितना उत्कृष्ट क्वालिटी का होगा लाभ कमाना सीधे तौर पर प्रोडक्ट की गुणवत्ता से संबंधित है.

भारत में लड्डू और चिक्की बनाने के व्यापार के लिए लाइसेंस (licence for chikki and laddu making business in india)

इस व्यापार को सर्वप्रथम उद्योग आधार तथा एमएसएमई द्वारा पंजीकृत कराना होता है. यदि आप प्लांट स्थापित करना चाहते हैं, फिर इसके लिए आपको फर्म का पंजीकरण पार्टनरशिप अथवा प्रोप्रिएटोरशिप के अनुसार कराना होता है. इसके अलावा फर्म का चालू बचत खाता (करंट बैंक अकाउंट), पैन कार्ड आदि प्राप्त करना होता है.

देश में इस समय जीएसटी टैक्स प्रणाली का प्रयोग किया जा रहा है. अतः फर्म का पंजीकरण जीएसटी के अनुसार भी कराना जरूरी हो गया है.

एक खाद्य पदार्थ होने की वजह से निर्मित लड्डू और चिक्की की जांच FSSAI से करा कर खाद्य विभाग से लाइसेंस प्राप्त करना होता है.

अन्य पढ़े:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *