कंप्यूटर और लैपटॉप रिपेयरिंग व्यवसाय कैसे शुरू करें | How to Start Computer and Laptop Repairing Business in Hindi

कंप्यूटर और लैपटॉप रिपेयरिंग व्यवसाय कैसे शुरू करें (How to Start Computer and Laptop Repairing Business in Hindi)

आप कंप्यूटर एवं लैपटॉप रिपेयर करने का व्यवसाय शुरू करने का सोच रहे हैं, तो आप हमारे इस लेख पर एक नजर डालें. यह कैसे शुरू किया जा सकता है और इसके लिए क्या – क्या जरूरी आवश्कताएं हैं. यह सभी जानकारी यहाँ उपलब्ध हैं.  

Computer and laptop repairing business

कंप्यूटर रिपेयरिंग व्यवसाय क्या है ? (What is Computer Repairing Business)

आज कंप्यूटर एवं लैपटॉप लोगों की आवश्यकता बन गया है. ऑफिस हो या घर लोगों को अपने कई काम कंप्यूटर या लैपटॉप के माध्यम से करना होता है. ऐसे में जाहिर सी बात है कि ज्यादा उपयोग में लाये जाने वाले कंप्यूटर एवं लैपटॉप में कुछ परेशानी या खराबी हो सकती है. ऐसे में लोग अपने कंप्यूटर या लैपटॉप को किसी कंप्यूटर विशेषज्ञ के पास लेकर जाते हैं और इसे रिपेयर कराते हैं. इसलिए आज कंप्यूटर रिपेयर करने वालों की मांग काफी अधिक बढ़ गई है. ऐसे में यदि इसका व्यवसाय शुरू किया जाए तो यह अच्छा विकल्प हो सकता है.  

कंप्यूटर और लैपटॉप रिपेयरिंग आवश्यक कौशल (Skill Required for Computer and Laptop Repairing Business)

कंप्यूटर रिपेयरिंग व्यवसाय शुरू करने के लिए आपके पास कंप्यूटर कौशल होना चाहिये, और सॉफ्टवेयर एवं हार्डवेयर दोनों का ज्ञान होना चाहिए. विभिन्न सिस्टम कॉन्फिगरेशन एवं विनिर्देश आपको ज्ञात होना चाहिए. आपको अपने कंप्यूटर कौशल को अन्य लोगों, विशेष रूप से ग्राहकों को प्रदर्शित करने में सक्षम होना चाहिए, इससे पहले कि वे अपना कंप्यूटर आपको सौंपें. इस व्यवसाय को शुरु करने से पहले आपको कंप्यूटर रिपेयरिंग के बारे में सभी तरह का ज्ञान अर्जित करने की आवश्यकता है. इसके अलावा आप जब इस व्यवसाय को शुरू करें, तो आपको अपने ज्ञान को नियमित रूप से अपडेट भी रखना होगा.

कहाँ से सीखें ? (Where to Learn Repairing)

आज के समय में किसी भी चीज को सीखने के लिए कहीं बाहर जाने की आवश्यकता नहीं होती है, सब कुछ आप इंटरनेट के माध्यम से सीख सकते हैं. आप इंटरनेट के माध्यम से प्रशिक्षण प्राप्त करने के लिए CNet.com और ZDNet.com जैसी वेबसाइट का उपयोग कर सकते हैं. ये ऐसी वेबसाइट हैं, जो कंप्यूटर रिपेयरिंग का काम करती हैं. आप यहाँ से यह काम सीख सकते हैं. इसके अलावा आप यूट्यूब वीडियोज से भी यह प्रशिक्षण ले सकते हैं. यदि आप किसी इंस्टिट्यूट में जाकर प्रशिक्षण लेना चाहते हैं, तो यह भी बेहतर विकल्प है आजकल कई स्थानीय संस्थान हैं जो इस तरह के काम में प्रशिक्षण प्रदान करते हैं. इन सब के अलावा आप टेक्निशियन की भी मदद ले सकते हैं, जोकि घर – घर जाकर यह सेवा प्रदान करते हैं. यह एक सबसे अच्छा विकल्प साबित हो सकता है क्योकि वे आपको थ्योरेटिकल ज्ञान के बजाय प्रैक्टिकल ज्ञान प्रदान करते हैं.        

व्यापार के लिए स्थान (Location for Business Store)

सबसे पहले तो आपको यह विचार करना होगा कि आप स्टोर खोलना चाहते हैं या घर से ही व्यवसाय करना चाहते हैं. यदि आप स्टोर खोलकर यह व्यवसाय शुरू करते हैं, तो इसमें आय की संभावना बहुत अधिक हो सकती है. लेकिन यह फायदेमंद भी हो सकता है. हालाँकि इसमें कुछ जिम्मेदारी और रिस्क भी हो सकते हैं. दूसरी तरफ आपके घर से काम करने वाला व्यवसाय एक अधिक लचीला और कम लागत वाला व्यवसाय हो सकता है, और यह आपके व्यवसाय को नियंत्रित भी करता है. लेकिन यह कम आय क्षमता वाला व्यवसाय तो है, पर इसमें आपके ग्राहकों को आप तक पहुँचने में अधिक कठिनाई हो सकती है. अतः यदि आप स्टोर का चयन करते हैं, तो आपको ऐसी जगह का चयन करना चाहिए, जहाँ आपके ग्राहक आसानी से पहुँच सकें. इसके अलावा आपको यह भी देखना होगा कि, आपके आसपास आपके समान ही कोई अन्य व्यवसाय न हो या अधिक न हों. ताकि ग्राहक आपके स्टोर की ओर आकर्षित हों.    

नोट :- आप अपने कंप्यूटर रिपेयरिंग व्यवसाय स्टोर को उस स्थान पर खोले, जहाँ आसपास कंप्यूटर स्टोर्स हों. आप ऐसे स्थान पर भी स्टोर खोल सकते हैं जहाँ छोटे व्यवसायों की अच्छी एकाग्रता हैं. 

आवश्यक उपकरण (Equipment Required)

यदि आप स्टोर खोलने की योजना बना रहे हैं, तो बिक्री और कंप्यूटर कंपोनेंट्स के लिए एक सूची तैयार करें. ग्राहकों को सेवा की आवश्यकता तुरंत होती है और ऐसे में आपके पास सभी तरह के यानि सॉफ्टवेयर एवं हार्डवेयर से सम्बंधित उपकरण मौजूद होने चाहिए. आपके पास कुछ महत्वपूर्ण उपकरण जैसे मदरबोर्ड, सीपीयू (प्रोसेसर), रैम (मेमोरी), हार्ड ड्राइव (आईडीई और एसएएसए दोनों), सीडी / डीवीडी ड्राइव, वीडियो कार्ड, साउंड कार्ड और नेटवर्क कार्ड आदि ये कुछ उपकरण हैं, जिसे आप अपनी सूची में शामिल कर सकते हैं. ये कंप्यूटर के प्राथमिक कॉम्पोनेन्ट हैं. कुछ अन्य उपकरण की सूची नीचे प्रदर्शित की गई है –

क्र. म.केटेगरीउपकरण
1.आवश्यक कंप्यूटर टूल्सईएसडी स्ट्राप या अन्य ईएसडी प्रोटेक्शन डिवाइस, सभी प्रकार के स्क्रूड्राइवर, फ्लैशलाइट आदि
2.कंप्यूटर हार्डवेयर रिप्लेसमेंट एवं रिपेयरिंग टूल्सएंटीस्टेटिक मैट, प्रिसिशन स्क्रूड्राइवर सेट, कंप्रेस्ड एयर, मल्टीमीटर, पॉवर केबल, नेटवर्क केबल, कीबोर्ड, माउस, एम्प्टी एंटीस्टेटिक बैग्स, लिंट फ्री क्लॉथ, लो – वेटेज सोल्डरिंग आयरन, विक्क, रील, वायर कटर, स्टिपर, पोस्ट कार्ड, टेम्परेचर गन, हीट गन आदि. 
3.कंप्यूटर सॉफ्टवेयर से जुड़े टूल्सयूएसबी ड्राइव, यूबीसीडी एवं डेटा स्टोर करने के लिए खाली सीडी’स आदि
4.अन्य सहायक कंप्यूटर टूल्सएए और एएए बैटरीज (वायरलेस माउस और कीबोर्ड के लिए), क्रिम्पिंग टूल्स आदि
5.कंप्यूटर क्लीनिंग टूल्सक्लॉथ, वाटर या रबिंग एल्कोहल, पोर्टेबल वैक्यूम क्लीनर, कॉटन स्वब्स एवं फोम स्वब्स आदि

इसमें इंटरनल एवं एक्सटर्नल दोनों ही कॉम्पोनेन्ट शामिल है. अतः आपके पास जितने अधिक उपकरण होंगे, ग्राहक को उनके कंप्यूटर रिपेयरिंग सेवा प्रदान करने में उतना ही कम समय लगेगा एवं ग्राहकों को ज्यादा देर प्रतीक्षा भी नहीं करनी होगी.

व्यवसाय रजिस्ट्रेशन एवं लाइसेंस (Business Registration and License)

अपने व्यवसाय की वैधता साबित करने के लिए इसका रजिस्ट्रेशन करना आवश्यक है. इसके लिए सबसे पहले आप ऐसे नाम के बारे में सोचें जिस नाम का पहले रजिस्ट्रेशन नहीं हुआ है, नहीं तो आपके व्यवसाय का नाम स्वीकृत नहीं होगा. आपको दो व्यवसायिक नाम सोचना चाहिए, और यह कॉर्पोरेट आयोग के साथ सर्च उपलब्धता के समान होना चाहिए. एक बार खोज पूरी हो गई, तो उपयोग के लिए एक नाम की पुष्टि हो जाती है. आवेदन पत्र में इस नाम का उपयोग व्यावसायिक नाम के रूप में किया जाता है. यदि दोनों नाम स्वीकृत नहीं है तो आपको प्रक्रिया को तब तक दोहराना होगा, जब तक व्यवसाय का नाम स्वीकृत न हो जाये. यदि आपको सही नाम ढूंढने में कठिनाई हो रही है, तो आप व्यवसाय नाम जनरेटर का उपयोग भी कर सकते हैं. एक बार आपके व्यवसाय का नाम एवं स्ट्रक्चर फाइनल हो जाये, इसके बाद आपको अपने व्यवसाय का लाइसेंस प्राप्त करना होगा. इसके लिए आप ऑनलाइन रोजगार कार्यालय में जाकर अपने व्यवसाय का रजिस्ट्रेशन कराएँ और वहां अपने व्यवसाय से जुड़ी सभी जानकारी देकर व्यवसाय लाइसेंस प्राप्त करें.         

निवेश एवं लाभ (Investment and Profit)

चूंकि इस व्यवसाय में कई तरह के उपकरण की आवश्यकता होगी, जोकि आपके व्यवसाय के लिए सबसे जरूरी भी हैं. साथ ही खुद का स्टोर खोलने के लिए भी पैसे चाहिए होंगे. इसलिए आपको यह शुरू करने के लिए शुरुआत में कम से कम 10 से 15 लाख रूपये तक का निवेश करना पड़ सकता है. किन्तु जब आपका व्यवसाय पूरी तरह से व्यवस्थित हो जाये, तो यही व्यवसाय आपके लिए बेहतर आय का साधन बन जायेगा. अपनी सेवाएं देकर आप अपने ग्राहकों से उतना चार्ज करें, कि वह उनके लिए सस्ता भी हो और आपके व्यवसाय को आगे बढ़ाने के लिए पर्याप्त भी हो. आपको उनसे कितना चार्ज करना है, इसकी जानकारी आप अपने अन्य प्रतिस्पर्धी से ले सकते हैं. अतः जितने ज्यादा ग्राहक आपके इस व्यवसाय से जुड़ेंगे आपको इससे उतना ही अधिक लाभ मिलेगा.  

सरकारी लोन की जानकारी (Govt. Loan Info)

यदि आपने अपना खुद का व्यवसाय शुरू करने का फैसला किया है. और आपके पास पर्याप्त धन नहीं है, तो आप सरकारी बैंक से लोन भी ले सकते हैं. आज के समय में सरकार द्वारा व्यवसाय एवं रोजगार से जुड़े कई तरह से लोन प्रदान किये जा रहे हैं. आप व्यवसाय एवं रोजगार लोन के लिए आवेदन देकर लोन प्राप्त कर अपना व्यवसाय शुरू करें. 

ग्राहकों को ऑफर की जाने वाली सेवाएं (Services that can be Offered to Customers)

  • कंप्यूटर रिपेयर :- कंप्यूटर रिपेयरिंग का काम आपके व्यवसाय को शुरू करने का मुख्य कारण है. आप ऑन – साइट रिपेयर से शुरू करते हैं, तो आप अपने घर से ही इस व्यापार को चला सकते हैं. लेकिन यदि आपके पास दुकान है तो आप इसे वहां ले जाकर यह काम कर सकते हैं. बस आपको अपने साथ हमेशा पोर्टेबल टूल्स रखने चाहिए.
  • सॉफ्टवेयर सपोर्ट :- हार्डवेयर प्रदान करने के अलावा आपको सॉफ्टवेयर सपोर्ट भी प्रदान करने में सक्षम होना चाहिए. सॉफ्टवेयर सेवाओं में सॉफ्टवेयर के साथ ऑपरेटिंग सिस्टम की कम्पेटिबिलिटी का परीक्षण और ऐसे सॉफ्टवेयर की स्थापना शामिल है.
  • प्रशिक्षण :- वर्तमान समय में सभी कंप्यूटर को जानना चाहते हैं. आप कंप्यूटर में कुछ प्रोग्राम का उपयोग करने के तरीके पर प्रशिक्षण दे सकते हैं. यदि आप कुछ ट्रेनिंग प्रोग्राम जैसे माइक्रोसॉफ्ट ऑफिस, वर्ड, एक्सेल, पॉवरपॉइंट आदि में विशेषज्ञ हैं तो यह आपको एक अतिरिक्त लाभ दे सकता है. यदि आपको एकाउंटिंग सॉफ्टवेयर के बारे में भी अच्छा ज्ञान है तो इसका प्रशिक्षण देते हुए इसके लिए आप अधिक चार्ज भी कर सकते हैं.
  • नेटवर्किंग :- छोटे व्यवसाय हो या बड़े कारपोरेशन हो दोनों के पास एफिशिएंसी और जानकारी शेयर करने के लिए अपना खुद का लोकल एरिया नेटवर्क (लेन) है जो वायरलेस के केबल के माध्यम से हो सकता है. आप ये सेवा भी प्रदान कर सकते हैं.
  • सॉफ्टवेयर अपग्रेड :- इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी को हमेशा अपडेट किया जाता है. सॉफ्टवेयर निर्माता नियमित आधार पर नये अपडेट के साथ आते रहे हैं. सॉफ्टवेयर अपग्रेड की भी सेवा आप अपने ग्राहकों को प्रदान कर सकते हैं.
  • एंटी – वायरस :- प्रत्येक कंप्यूटर उपयोगकर्ता वायरस के हमलों से डरता है और उससे बचाने के लिए उन्हें एंटी – वायरस सॉफ्टवेयर अपने कंप्यूटर में डालने की आवश्यकता होती है. ग्राहकों को उनके सिस्टम में एंटी – वायरस इंस्टाल एवं अपडेट दोनों के साथ यह सुविधा प्रदान की जा सकती है.
  • बैकअप्स :- ग्राहकों के कंप्यूटर में भले ही एंटी – वायरस इनस्टॉल कर दिया गया हो, लेकिन डेटा को सुरक्षित रखने के लिए उसका बैकअप होना आवश्यक है. आप अपने ग्राहकों को उनके कंप्यूटर में बैकअप सेवा भी प्रदान कर सकते हैं.
  • हार्डवेयर सप्लाइज :- चूंकि आप यह व्यवसाय कर रहे हैं. तो आपके सामने कई ऐसे उदाहरण आएंगे, जहाँ लोग कंप्यूटर की सप्लाई के लिए आपसे परामर्श करेंगे. वे आप पर विश्वास करते हैं क्योकि उन्हें पता है कि आप उन्हें सही विनिर्देश देंगे. आप कंप्यूटर को अच्छी कीमत पर खरीद कर अपने लाभ मार्जिन के साथ इसे बेच भी सकते हैं.   

ये सभी सुविधा एवं चीजें आपको अतिरिक्त पैसा कमाने में काम आ सकती हैं, और साथ ही आपके ग्राहकों को बांध कर रखने में भी यह बहुत अच्छे विकल्प हो सकते हैं. 

व्यापार की ताकत एवं कमजोरी (Business Strengths and Weaknesses)

कंप्यूटर रिपेयरिंग व्यवसाय शुरू करने के लिए आपको अपनी ताकत एवं कमजोरी को जानना होगा. एक तरफ जहाँ अच्छा प्रैक्टिकल ज्ञान, अच्छी प्रतिष्ठा, अच्छी गुणवत्ता वाली सेवा, विभिन्न सेवायें, ग्राहकों के प्रति वफादारी, कंप्यूटर के पार्ट्स और सहायक उपकरण तक पहुँच एवं उपयुक्त कंप्यूटर विक्रेताओं के साथ जुड़ना आदि आपके व्यवसाय की ताकत हो सकती है. तो दूसरी तरफ इनमें से कुछ आपकी कमजोरी भी बन सकती है. यदि आपको लगता हैं कि आप इनमे से कुछ में कमजोर हैं तो आपको उस पर काम करना चाहिए.

यह व्यवसाय आपको एक पेशेवर तरीके से शुरू करना चाहिये, और यह आप एक स्टोर के माध्यम से कर सकते हैं. जहाँ लोगों को आप तक पहुँचने में परेशानी न हो. क्योंकि बड़े – बड़े कॉर्पोरेट संगठन उन कंप्यूटर रिपेयर कंपनियों के साथ काम करना पसंद करते हैं जोकि उसी जगह पर एक अधिकारिक पते पर स्थापित होती हैं.

इन सब के अलावा आपके पास एक बहुत ही अच्छा टेक्निकल बैकग्राउंड हो सकता है, लेकिन आपको व्यवसाय के बारे में ज्यादा ज्ञान होना आवश्यक है. अपने व्यवसाय को सफल बनाने के लिए आपके पास व्यवसाय, तकनीकी और मजबूत सोशल कौशल का अच्छा संतुलन होना चाहिये, ताकि आप अपने ग्राहकों की आवश्यकताओं को पूरा कर सकें, और लंबे समय तक उनसे संबंध बना सकें.

इस तरह आप अपनी कमजोरी पर काम करते हुए अपने व्यवसाय की कमजोरी को ताकत में बदल सकते हैं.

व्यापार की मार्केटिंग (Marketing of The Business)

आप अपने कंप्यूटर रिपेयरिंग व्यवसाय में कुशल हो सकते हैं लेकिन यदि आपने इसकी मार्केटिंग नहीं की, तो आपके पास रिपेयरिंग के लिए कोई नहीं पहुँच सकेगा. इसलिए जरुरी हैं कि आप अपने व्यापार की मार्केटिंग करें. यह बहुत ही चुनौतीपूर्ण काम है खासकर यदि आप इसे अपने घर से शुरू करना चाहते हैं. फ्लायर या पैमप्लेट प्रिंट करा कर इसे अपने इलाके में वितरित करें. आपको अपने ग्राहक बनाने में शुरुआत में थोड़ा समय लग सकता है. लेकिन यह असंभव नहीं है. आप इस व्यवसाय को शुरूआत में साइड व्यापार के रूप में शुरू कर सकते हैं. और एक बार जब यह व्यवस्थित हो जाये तो आप इसे पूरी तरह से स्थापित कर बेहतर बना सकते हैं.

व्यापार में जोखिम (Business Risk)

इस व्यवसाय में कुछ जोखिमों का सामना भी आपको करना पड़ सकता है क्योंकि यदि आपके पास कंप्यूटर का सही – सही ज्ञान एवं पर्याप्त कंप्यूटर कौशल नहीं है और आप अपने ग्राहकों के सिस्टम को रिपेयर करने में असमर्थ हो जाते हैं, और इसे सुधारने के बजाय इसे और ख़राब या नष्ट कर देते हैं, तो इससे आपके ग्राहकों का भरोसा आप पर से उठ सकता है. इस नुकसान का जिम्मेदार आपको ठहराया जायेगा. अतः आप अपने ग्राहकों को खो भी सकते हैं. इसलिए इस व्यवसाय में किसी भी प्रकार का जोखिम न हो, इसके लिए आपको अपने कौशल हो हमेशा अपडेट रखना होगा.

यदि आप कंप्यूटर रिपेयर सेवा के बारे में अच्छे से जान चुके हैं और अपने काम के बारे में आश्वस्त हैं तो अवसर का लाभ उठायें और अपना नया व्यवसाय शुरू करने में समय व्यतीत न करें.

अन्य पढ़े:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *