कॉपीराइटिंग से पैसे कमायें | How to Make Money Copywriting in Hindi

कॉपीराइटिंग से पैसे कमायें, क्या है, कॉपीराइटर, कार्य, कंपनियां, मुनाफा [How to Make Money Copywriting in Hindi] (Copyrighter, Work, Companies, Profit)

दोस्तों वर्तमान समय में लोग बेरोजगारी के कारण बहुत ही ज्यादा परेशान है और एक पढ़े लिखे इंसान से लेकर अशिक्षित व्यक्ति भी अपने आर्थिक स्थिति को सुधारने के लिए और कुछ पैसे कमाने के लिए कुछ ना कुछ जरूर कार्य करना चाहता है। ऐसे में दोस्तों अगर आप थोड़े बहुत पढ़े लिखे हैं और आपके अंदर लिखने की कला है और आप लिखने के शौकीन हैं, तो आप बड़ी ही आसानी से कॉपीराइटिंग का काम शुरू कर सकते हैं और घर बैठे अच्छा पैसा कमा सकते हैं। दोस्तों आजकल फ्रीलांसिंग के क्षेत्र में बहुत सारे कार्य घर बैठे ही कर सकते हैं और उन कार्यों में कॉपीराइटिंग का भी कार्य फ्रीलांसिंग के अंतर्गत ही आता है।वर्तमान समय में एक कॉपी राइटर की मांग बहुत ज्यादा है और यदि आप कॉपीराइटिंग का काम शुरू करना चाहते है, तो आज के हमारे इस लेख को अंतिम तक अवश्य पढ़ें। आज के इस लेख में हम आप सभी लोगों को कॉपीराइटिंग क्या है और कॉपीराइटिंग के रूप में पैसे कैसे कमाए, इस विषय पर विस्तार पूर्वक जानकारी प्रदान कर रहे हैं।

copy writing business in hindi

कॉपीराइटिंग क्या है

इसे आप हिंदी में विज्ञापन या फिर वित्त लेखन का कार्य भी कह सकते हैं। यह एक प्रकार की लिखने से संबंधित कला होती है और इसके अंतर्गत विज्ञापन, मार्केटिंग या सेल्स के लिए स्क्रिप्ट को टेक्स्ट के रूप में लिखने का कार्य किया जाता है। वेबसाइट के लिए लिखे गए आर्टिकल को भी हम एक कॉपीराइटिंग के कार्य के अंतर्गत जोड़ सकते हैं। एक ऐसा कॉपीराइटर जो कंटेंट लिखता है, उसे कॉपी या फिर सेल्स कॉपी कहते हैं। एक सेल्स कॉपी का कॉपी राइटर किसी भी प्रोडक्ट या फिर कंपनी के जुड़े हुए कुछ अन्य कार्यों के प्रमोशन के लिए या उसके अवेयरनेस के लिए लोगों के बीच में उसकी जानकारी को पहुंचाने के लिए एक टेक्स्ट स्क्रिप्ट तैयार करता है। जब किसी भी प्रोडक्ट का प्रमोशन एक टेक्स्ट स्क्रिप्ट के अंतर्गत ऑनलाइन या फिर ऑफलाइन बैनर पोस्टर के माध्यम से किया जाता है, तब स्वाभाविक है, कि उस प्रोडक्ट की सेल में वृद्धि होती है और इससे कंपनी को मुनाफा होता है। ऐसे में प्रोडक्ट की जानकारी और उसके प्रमोशन के लिए लिखा गया टेक्स्ट विज्ञापन कॉपीराइटिंग के अंतर्गत आता है। ऐसे कार्यों को करवाने के लिए बड़ी-बड़ी कंपनियां एक प्रोफेशनल को हायर करती है और वे प्रोफेशनल आर्टिकल, वेब पेज एड्स या फिर किसी भी प्रकार का प्रमोशनल मैटेरियल जिसके अंतर्गत टेक्स्ट शामिल होता है, उसे तैयार करता है और फिर कंपनी को प्रमोशनल के लिए फॉरवर्ड करता है।

कॉपीराइटर क्या होते हैं

एक ऐसा प्रोफेशनल राइडर जिसके अंदर टेक्स्ट बेस्ड आर्टिकल, वेब पेज, एड्स या फिर प्रोफेशनल मटेरियल लिखने का कार्य करता है, वही एक प्रोफेशनल कॉपीराइटर कहलाता है।

कॉपीराइटर और कॉपीराइट में क्या अंतर है

जैसे कई सारे लोग कॉपीराइटर को कॉपीराइट समझ लेते हैं, परंतु दोस्तों इन दोनों का अलग-अलग डेफिनेशन होता है। कॉपीराइटर एक प्रोफेशनल वर्किंग प्रोफेशन है और वहीं पर कॉपीराइट एक्ट एक्शन होता है। सभी कॉपीराइटेड एडवरटाइजर की श्रेणी में नहीं आते हैं। आप इसकी डेफिनेशन को पढ़कर बिल्कुल भी कंफ्यूज ना हो। मेडिकल कॉपीराइटर्स अपने आप में ही एक Niche है और इसीलिए वह रेगुलर कॉपीराइटिंग में नहीं आते हैं।

कॉपीराइटर के अंतर्गत आने वाले कार्य

एक कॉपीराइटर अनेकों प्रकार के कार्य को कर सकता है और उसके कार्य श्रेणी में कई तरह के कार्य आते हैं और उनकी जानकारी इस प्रकार से नीचे निम्नलिखित बताइए।

  • एक कॉपीराइटर टेक्स्ट बेस मटेरियल लिख सकता है।
  • एक कॉपीराइटर टॉपिक रिसर्च कर सकता है और उस पर गहन चिंतन करता है।
  • एक कॉपीराइटर प्रूफ रीडिंग करने का कार्य भी करता है।
  • एक प्रोफेशनल कॉपीराइटर एडिटिंग करने का कार्य करता है।
  • एक प्रोफेशनल कॉपीराइटर इंटरव्यू ले सकता है।
  • एक कॉपीराइटर प्रोजेक्ट को मैनेज करने का कार्य कर सकता है।
  • एक प्रोफेशनल कॉपीराइटर मार्केटिंग कैंपेन को प्लान करने के साथ-साथ उसे एग्जीक्यूट कर सकता है
  • और अंतिम में सभी कामों के इंपैक्ट को इवेलुएट करने का भी कार्य कर सकता है।

एक प्रोफेशनल कॉपीराइटर के अंतर्गत इन कार्यों के अलावा भी कई सारे कार्य आ सकते हैं और आप खुद सोचिए कि इतने कार्यों को करने के लिए क्वालिटीज और एलिजिबिलिटी होनी भी आवश्यक है।

कॉपीराइटर क्वालिटी

एक कॉपी राइटर बनने के लिए आपके पास ढेरों सारी क्वालिटी होनी चाहिए और साथ ही में आपके अंदर उसे एग्जीक्यूट करने की एलिजिबिलिटी भी होनी आवश्यक है। चलिए दोस्तों आगे हम आपको ढेरों सारी कॉपीराइटर की क्वालिटी में से 5 इंपॉर्टेंट क्वालिटी के बारे में बताते हैं और उसकी जानकारी इस प्रकार के नीचे निम्नलिखित रुप में विस्तार से बताई गई है।

कार्य क्षेत्र और भाषा के अनुसार ग्रामर में पकड़ :-

अगर आप एक कॉपीराइटर बनना चाहते हैं और आप वेबसाइट के लिए कंटेंट राइटिंग कर रहे हैं तो सबसे पहले आपके अंदर एक ऐसी राइटिंग स्किल होनी चाहिए, जिससे कोई भी रीडर आपके द्वारा लिखे गए कंटेंट को पड़े तो उसे आसानी से समझ सके और साथ ही में उसी रीडर को दोबारा से अपनी ओर आकर्षित करने में कामयाब भी रहे। इसके लिए आपको माइनर टाइप्स आफ मिस्टेक और साथ ही में आपके पास आपकी भाषा में ग्रामर में बहुत अच्छी पकड़ होनी आवश्यक है। अगर आप ग्रामर मिस्टेक करेंगे तो कभी भी एक अच्छा कॉपीराइटर नहीं बन सकते हैं। आप अपने लिए प्रूफ रीडिंग का कार्य करने के साथ साथ आप दूसरों के लिए प्रूफ रीड कर सकते हैं और इससे भी अच्छा पैसा कमा सकते हैं।

सर्च इंजन और यूनिक कांसेप्ट तैयार करने की क्षमता :-

अगर आप अपने प्रोफेशनल से संबंधित किसी भी प्रकार की सामग्री तैयार कर रहे हैं तो सबसे पहले हमें इस सर्च इंजन के लायक ऑप्टिमाइज भी करना आना चाहिए, और साथ में हम लोगों के सामने जो भी कांसेप्ट प्रजेंट करने वाले हैं, उसे एक यूनिक तरीके से और डिफरेंट तरीके से प्रजेंट करना आना चाहिए। ऐसा करके आप अपने कंटेंट को एक अच्छी क्वालिटी देने के साथ उसे अच्छा ऑप्टिमाइजेशन भी प्रदान करते हैं और साथ ही में हम अपनी क्वालिटी ऑफ स्किल को भी इंप्रूव करते हैं और इससे हम अपनी डिमांड को भी बढ़ा सकते हैं और साथ में अच्छा पैसा भी कमा सकते हैं।

ऑनलाइन सीएमएस प्लेटफार्म में कार्य करने की क्षमता और योग्यता :-

अब आप सोच रहे होंगे कि आखिर सीएमएस प्लेटफार्म क्या है, दोस्तों इसे आप कंटेंट मैनेजमेंट सिस्टम कहते हैं। इसके अंतर्गत वर्डप्रेस, जुमला, मीडियम और कई सारे ब्लॉगिंग प्लेटफॉर्म आ जाते हैं और इसी को आप सीएमएस प्लेटफॉर्म कह सकते हैं। आपको ऐसे कई सारे प्लेटफार्म पर कार्य करना आना चाहिए और साथ ही में इसे इस्तेमाल करने से संबंधित सभी बेसिक जानकारी भी आनी चाहिए। इसके बाद आपको कंटेंट को कैसे ऐसे प्लेटफार्म पर ऑप्टिमाइज करना है और कैसे पब्लिशिंग योग्य बनाना है, इससे संबंधित भी ज्ञान होना अनिवार्य है।

क्लाइंट प्रोडक्ट से संबंधित मटेरियल तैयार करने की योग्यता :-

दोस्तों हमारा जो क्लाइंट हमें प्रोजेक्ट देता है, वह उसके रीडर या फिर उसके द्वारा टारगेट किए गए ऑडियंस के अंतर्गत तैयार किया हुआ होता है। ऐसे में हमें अपने क्लाइंट के हिसाब से भी सोचना है और साथ में उसकी टारगेट ऑडियंस के बारे में भी सोचकर कंटेंट को लिखने के साथ-साथ ऑप्टिमाइज करना है। आप ऐसे कार्य अपने कार्य अनुभव और कंटेंट क्रिएटिंग स्कूल के माध्यम से कर सकते हैं और इसीलिए हमें इस चित्र में स्ट्रांग होना बहुत ही आवश्यक है और तभी हमारे डिमांड को क्लाइंट समझेगा और हमें ढेर सारा प्रोजेक्ट देगा, जिससे आप अच्छा पैसा कमा सकते हैं।

कॉपीराइटिंग आवश्यक पात्रता मापदंड

  • दोस्तों कॉपीराइटिंग के क्षेत्र में करियर बनाने के लिए आपके पास लेखन विषय से संबंधित किसी भी मान्यता प्राप्त बैचलर की डिग्री होनी अति आवश्यक है।
  • इसके अतिरिक्त आपके पास आपका खुद का पोर्टफोलियो होना भी बहुत जरूरी है। इस क्षेत्र में आपको क्वालिफिकेशन और ट्रेनिंग से ज्यादा आपका पोर्टफोलियो आपकी सहायता करेगा। इसीलिए आपको अपना खुद का पोर्टफोलियो बनाना है या फिर किसी से बनवा लेना है।
  • आपके पोर्टफोलियो के अंदर आपके कॉपीराइटिंग से संबंधित सभी प्रकार के कार्य प्रोजेक्ट या एड की पूरी जानकारी अच्छे से विस्तृत रूप में होनी चाहिए ताकि कोई कंपनी आपको हायर करना चाहे और आपके पोर्टफोलियो को देखें तो उसे आपके क्रिएटिविटी और क्षमता के बारे में पता चल सके और वह आपको काम करने के लिए हायर कर ले।

कॉपीराइटिंग में नौकरियां देने वाली कंपनियां

दोस्तों अब तक हमने इस लेख में आप लोगों को कॉपीराइटिंग क्या है और इससे जुड़ी हुई अन्य महत्वपूर्ण जानकारियां आपको प्रदान कर दी है और हमें उम्मीद है, कि आपको अब तक बताई गई जानकारी पूरी तरीके से समझ में आ गई होगी और अब आगे आपके अंदर सवाल उठ रहा होगा, कि आखिर कौन-कौन सी कंपनियां कॉपीराइटिंग का काम प्रदान करती है, तो दोस्तों इसके लिए नीचे दी गई जानकारी को विस्तार पूर्वक से पढ़ें।

  1. Times of India
  2. Indian express
  3. Reddifusion
  4. O & M
  5. P & G
  6. Lowe Lintas

इसके अतिरिक्त और भी बहुत सारी कंपनियां हैं, जो अपनी क्वायरी को पूरा करने के लिए क्रिएटिव और प्रोफेशनल कॉपीराइटर को हायर करते हैं।

कॉपीराइटिंग क्षेत्र में नौकरी के लिए प्लेटफार्म

अगर आप खुद ब खुद अपने लिए अपने लायक कॉपीराइटिंग के क्षेत्र में नौकरी तलाश ना चाहते हैं, तो नीचे कुछ प्लेटफार्म है जिनका इस्तेमाल करके आप अपने लायक बड़ी ही आसानी से नौकरी तलाश कर सकते हैं और वह भी कॉपीराइटिंग के क्षेत्र में।

  1. Upwork
  2. Freelance
  3. Naukri.com
  4. Fiverr
  5. Evento studio
  6. Simply hired

दोस्तों इन प्लेटफार्म पर आप अपनी प्रोफाइल बना सकते हैं और उसके बाद अपने योगिता और प्रोफेशनल के हिसाब से नौकरी तलाशने के लिए ऐड दे सकते हैं या फिर क्वेरी पर कमेंट के जरिए और कांटेक्ट डिटेल का इस्तेमाल करते हुए कंपनी को रिक्वेस्ट सेंड कर सकते हैं।

कॉपीराइटिंग में कमाई एवं फायदा

कॉपीराइटिंग का बिज़नेस या उसकी नौकरी करने वाले लोगों की हर महीने कम से कम 20 से 50 हजार रुपये तक की शुरूआती कमाई हो सकती है. यह आगे जाकर लाखों में हो सकती है जोकि काम पर निर्भर करता है. यदि ऑनलाइन आप अपने घर बैठे यह कार्य करते हैं तो आप घर बैठे ही 50 हजार रूपये तक की कमाई कर सकते हैं.  

दोस्तों आज के समय में कॉपीराइटिंग के क्षेत्र में काफी ज्यादा सुनहरे अवसर हैं और कई सारे प्रोफेशनल इसी प्रकार से घर बैठे ऑनलाइन इंटरनेट का इस्तेमाल करते हुए कार्य कर रहे हैं और अच्छा पैसा भी कमा रहे हैं। अगर आप भी इस क्षेत्र में करियर बनाना चाहते हैं, तो हमें उम्मीद है, कि आज का यह लेख आपके लिए इस विषय पर पूरी तरीके से सहायक सिद्ध होगा।

FAQ

Q : कॉपीराइटिंग क्या है ?

Ans : इसमें आप किसी कंपनी या फिर वेबसाइट के साथ जुड़कर कंटेंट राइटिंग का काम करते हैं.

Q : कॉपीराइटिंग करने के लिए क्या क्वालिटी होना आवश्यक है ?

Ans : आपको राइटिंग स्किल बेहतर होनी चाहिए.

Q : कॉपीराइटिंग करने से कितना कमा सकते हैं ?

Ans : लाखों रूपये प्रतिमाह.

Q : कॉपीराइटिंग के काम में कितना मुनाफा है ?

Ans : आपको इसमें लागत कुछ नहीं लगनी है केवल मेहनत लगनी है इसलिए आप इसमें मुनाफा ही कमा रहे हैं.

अन्य पढ़ें –

Latest articles

Similar articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here