पफ़ बनाने का व्यापार कैसे शुरू करे | How to start Corn Puff Making Business Plan in India in hindi

पफ़ बनाने का व्यापार कैसे शुरू करे ( How to start Puffed snacks or Corn puff making Business, Machine Price in India in hindi)

आज के समय में हर बच्चा पफ़ जैसे स्नैक्स का शौकीन है, इसलिए इसका भारत में बहुत बड़ा मार्केट है, और इस व्यापार में बहुत संभावनाए है. इस व्यापार में आप 4-5 लाख रुपय का इनवेस्टमेंट करके महीने में लगभग 1 लाख और उससे अधिक रुपय कमा सकते है, बस आपको इस व्यापार का संपूर्ण ज्ञान होना आवश्यक है, अपने इस आर्टिकल के माध्यम से हम आपको इस व्यापार में लगने वाला रॉ-मटेरियल, इसमें लगने वाली मशीनरी, इसे बनाने की विधि और इसकी  पैकेजिंग आदि जानकारी उपलब्ध कराएंगे, ताकि अगर आप इस व्यापार को शुरू करने का सोच रहें है, तो आपको यहाँ से उचित जानकारी मिल पाए.

Puff Making Business

मार्केट रिसर्च (Market Research) 

किसी भी व्यापार के लिए मार्केट रिसर्च बहुत ही महत्वपूर्ण चीज है और अगर आप अपने व्यापार को शुरू करने से पहले अच्छे से मार्केट रिसर्च कर लेते है, तो इसमे जोखिम की संभावनाए काफी कम हो जाती है.

आपको इस व्यापार को शुरू करने से पहले निम्न बिन्दुओं के बारे में सोचना होगा.

  • टार्गेट कस्टमर (Target Customer) – अगर आप पफ़ मेकिंग का व्यापार शुरू कर रहें है, तो आपके टार्गेट कस्टमर निश्चित ही बच्चे होंगे, इसलिए आपको अपने प्रॉडक्ट का प्रचार और सप्लाइ ऐसे एरिया में करना होगा, जहां बच्चो की अधीकता हो.
  • कच्चा माल (Raw Material)– आपको किसी भी व्यापार को शुरू करने से पहले इसमें लगने वाले कच्चे माल के संबंध में जानकारी एकत्रित करना आवश्यक है. इसके अलावा आपको इस बात का पता भी करना होगा, की आपको यह कच्चा माल कहाँ से सबसे कम कीमत में और आपकी अपेक्षित क्वालिटी में मिलेगा.
  • कॉमपीटीटर (Competitor) – आपको यह पता करना बहुत आवश्यक है, कि आपके एरिया में आपके अतिरिक्त और कितने लोग है, जो इस तरह का व्यापार चलाते है. और अगर आप अपने एरिया के अकेले ऐसे व्यक्ति है, जो इस व्यापार में है, तो आपके पास अपना प्रॉडक्ट बेचने के लिए बहुत बड़ा मार्केट होगा.
  • मशीनरी – इस व्यापार के लिए आपको पफ़ बनाने की मशीन और पैकिंग की मशीन दो तरीको कि मशीन्स की आवश्यकता पड़ेगी. आपको विभिन्न ऑनलाइन और ऑफलाइन मार्केट में जाकर इसकी कीमतों का पता करना होगा और सही विकल्प का चयन करना होगा.

इसके अतिरिक्त भी अपनी प्रॉडक्ट क्वालिटी, मार्केटिंग टेक्निक और आपके कारखाने में काम करने वाले वर्कर्स आदि के संबंध में आपको जानकारी एकत्रित करना अनिवार्य है वरना आगे आपको परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है.

आवश्यक योग्यता (Skill Required) –

इस व्यापार को चलाने के लिए आपके पास कुछ खास योग्यता होना आवश्यक नहीं है. क्योंकि इसमें उपयोग में आने वाली मशीन पूर्णतः स्वचालित होती है, इसलिए आपको खुद कुछ विशेष करने कि आवश्यकता नहीं होती. बस आपको 2 ऐसे कारीगर चाहिये होंगे, जो आपकी मशीन को अच्छे से संचालित कर पाए. इसके अतिरिक्त आपको मार्केटिंग के तरीको का ज्ञान होना भी आवश्यक है, ताकि आप अपने व्यापार का विस्तार कर लाभ कमा पाए.

पफ़ बनाने का व्यापार के लिए रजिस्ट्रेशन और लाईसेंस (Registration and License for Puff Making Business) –

आपको किसी भी प्रकार के बिज़नस में आने के लिए कुछ लाईसेंस की आवश्यकता पड़ती है, पफ़ बनाने के व्यापार में लगने वाले लाईसेंस निम्न होंगे.

  • एफ़एसएसएआई लाईसेंसयदि आप किसी भी प्रकार के खाद्य पदार्थ से संबंधित व्यापार शुरू करते है, तो आपके पास यह लाईसेंस होना अनिवार्य है. आप इस लाइसेंस के लिए ऑनलाइन भी अप्लाई कर सकते है.
  • जीएसटी रजिस्ट्रेशनयदि आप भारत में कोई भी प्रकार का समान खरीदते या बेचते है या आप किसी भी प्रकार की सर्विस प्रदान करते है, तो आपके पास अपने   होना अनिवार्य है.
  • ट्रेडमार्क रजिस्ट्रेशन – अगर आप एक विशेष पैकिंग में और एक विशेष नाम के साथ अपना प्रॉडक्ट बेचते है, तो आपके पास यह रजिस्ट्रेशन होना आवश्यक है. आपको इसके लिए पहले अपने प्रॉडक्ट का नाम सोचकर और उसे चेक करवाकर उसकी पर्मिशन लेनी होगी, तभी आप अपने प्रॉडक्ट पर इस नाम का उपयोग कर सकते है.
  • अन्य आवश्यक फोर्मेलिटि – इसके अलावा आपको लोकल डिपार्टमेंटस में जाकर भी पर्मिशन लेनी होगी, इसमे जगह से संबंधित पर्मिशन, स्वच्छता विभाग द्वारा पर्मिशन, पानी से संबंधित पर्मिशन आदि शामिल होगी.

पफ़ बनाने का व्यापार के लिए कच्चा-माल (Raw-material for Puff Making Business) –

इस व्यापार को शुरू करने के लिए आपको बहुत ही सीमित चीजों की आवश्यकता होती है, इसलिए इसके लिए कच्चा-माल जुटाना बहुत ही आसान काम होगा. इस व्यापार में लगने वाला कच्चा माल निम्न है-

  • मक्का – पफ़ बनाने के लिए सबसे महत्वपूर्ण चीज मक्का है, इसी के द्वारा पफ़ बनता है. आपको इसे बनाने के लिए क्रश किये हुये मक्के की आवश्यकता होगी, परंतु इसके लिए आपको चिंता करने की कोई आवश्यकता नहीं है, क्योंकि क्रश मक्का आसानी से मार्केट में मिल जाता है.
  • तेल – पफ़ बनाते समय और इसमें फ्लेवर मिलाते समय दोनों ही वक़्त आपको तेल की आवश्यकता पड़ती है, इसलिए आपको इसका प्रबंध करना होगा.
  • मसाले – पफ़ बनकर तैयार होने के बाद इसमे फ्लेवर दिया जाता है, इसलिए मसालो की आवश्यकता होती है. यह मसाले तैयार ही मार्केट में उपलब्ध है.
  • नाइट्रोजन सिलेंडर – पफ़ बनकर तैयार होने के बाद उसे पैक किया जाता है. और जब इनकी पैकिंग होती है तो इनके पैकीट में नाइट्रोजन गैस भरी जाती है ताकि यह फ्रेश बने रहें. इसलिए आपको नाइट्रोजन सिलेंडर का प्रबंध भी करना होगा.

पफ़ बनाने का व्यापार के लिए मशीनरी (Machinery and Machine price for Puff Making Business) – 

इस व्यापार के लिए आपको दो मशीनों की आवश्यकता होगी, एक पफ़ बनाने कि मशीन और दूसरी पैकिंग मशीन. इन मशनों के संबंध में जानकारी इस प्रकार है-

  • पफ़ बनाने की मशीन – पफ़ बनाने की मशीन पूर्ण रूप से स्वचालित मशीन है, और इसकी कीमत 2 लाख से लेकर 3 लाख रुपय है. और एक मशीन के जरिये आप कई तरह के पफ़ बना सकते है, इसी के साथ जब पफ़ बनकर तैयार हो जाता है तो इसमें फ्लेवर मिक्स करने के लिए भी एक मशीन की जरूरत होती है. यह पूरा एक सेट होता है, जो आपको आसानी से ऑनलाइन उपलब्ध होगा.

आप इस मशीन के संबंध में संपूर्ण जानकारी निम्न लिंक पर जाकर चेक कर सकते है-

  1. https://www.indiamart.com/proddetail/corn-puffs-making-plant-html
  2. https://www.indiamart.com/proddetail/puff-snack-processing-line-html
  • पैकिंग मशीन – जब आपका माल बनकर तैयार होगा, आपको पैकिंग के लिए भी मशीन की आवश्यकता होगी. इस ऑटोमैटिक पैकिंग मशीन की कीमत 1 लाख रुपय से चालू होकर इसकी दक्षता के हिसाब से बढ़ती जाती है. आप अपने बजट के हिसाब से मशीन का चयन कर सकते है.

नीचे दी गई लिंक में कुछ पैकिंग मशीनों की जानकारी दी गई है, आप इसमे से अपनी मशीन का चयन कर सकते है.

  1. https://www.indiamart.com/proddetail/puffs-packing-machines-html
  2. https://www.kartikaysinternational.com/snacks-pouch-packing-machine.html

पफ़ बनाने की विधि (Process Of Puff Making) –

वैसे तो पफ़ बनाने की मशीन में यह बहुत ही आसानी से बन जाता है, परंतु इसे बनाने के लिए एक प्रक्रिया का पालन करना होता है, जो इस प्रकार है –

  • सर्वप्रथम क्रश की गई मक्का में तेल और पानी मिलाकर उसमे नमी दी जाती है. इसमे मिलाया गया पानी तो अंदाजन होता है, परंतु इसमे तेल संपूर्ण मक्का का 2 प्रतिशत होता है. इसके अतिरिक्त इसमे स्वाद के लिए थोड़ा सा नमक भी मिलाया जाता है.
  • इसके बाद इस तैयार मिश्रण को मशीन में उपलब्ध कंटेनर में डाला जाता है. इसके बाद मशीन के चालू होते ही, इसमे प्रोसैस होकर पफ़ बाहर आने लगते है. इसमे आप अपनी इच्छा अनुसार किसी भी आकृति का पफ़ बना सकते है, इसके लिए आपको बस इसमें लगी प्लेट बदलनी होगी.
  • इसके बाद जब पफ़ तैयार हो जाते है, इसमे फ्लेवर मिक्स किया जाता है. इसके लिए आपको तैयार पफ़ को कंटेनर में डालना होता है और इसमे चलनी की सहायता से मसाले छिड़के जाते है और तेल का स्प्रे किया जाता है, और साथ में यह कंटेनर घूमता है, जिससे पफ़ में मसाले मिक्स हो जाते है, फ्लेवर चढ़ जाता है.
  • अंत में पैकिंग मशीन की सहायता से इसे पैक किया जाता है. इसके लिए तैयार फ्लेवर्ड पफ़ को पैकिंग मशीन में डाला जाता है और मशीन की सेटिंग की जाती है. अब आपकी सेटिंग के अनुसार 10, 25 या 100 की लड़ियों में पैकीट बनकर तैयार हो जाते है.

जगह (Place to Required) –  

किसी भी व्यापार के लिए जगह बहुत महत्वपूर्ण चीज है, इसलिए आपको सही जगह का चयन करना होगा. इस व्यापार में उपयोग की गई मशीनो को आप किसी भी जगह पर बहुत छोटे से एरिया में भी शिफ्ट कर सकते है. परंतु आपको अपने तैयार माल को स्टोर करने के लिए भी जगह का प्रबंध करना होगा. इसलिए आपको इसके लिए लगभग 2000 से 25000 स्क्वेयर फीट एरिया की जरूरत होगी, ताकि आप प्रॉडक्शन के बाद तैयार माल को ठीक से स्टोर कर पाए. आप इसके लिए अपने शहर में अपने बजट के हिसाब से एरिया का चयन कर सकते है.

मार्केटिंग स्ट्रेटजी (Marketing Strategy) –  

आपके प्रॉडक्ट को ग्राहको तक पंहुचाकर उसे उनकी पहली पसंद बनाने के लिए मार्केटिंग बहुत ही जरूरी चीज है. इस व्यापार के लिए काम में आने वाली मार्केटिंग स्ट्रेटजी निम्न है –

  • प्राइसिंग (Pricing) – इस प्रकार के पैकीट बच्चो द्वारा ज्यादा खरीदे जाते है इसलिए अगर आप इसे कम कीमत में उपलब्ध कराते है तो बच्चे इसे ज्यादा खरीदेंगे. इसलिए आपको इसके कम मटेरियल के और छोटे पैकेट बनाना होंगे.
  • ब्रांडिंग (Branding) – आजकल के ग्राहक ब्रांड युक्त बढ़िया माल ही खाना पसंद करते है, बिना पैकिंग का खुला माल कम लोग ही खरीदते है. इसलिए आपको अपने प्रॉडक्ट की ब्रांडिंग करवाना और इसके लिए आवश्यक लाईसेंस लेना अनिवार्य है.
  • सुंदर पैकिंग (Packing)- आज के समय में जो दिखता है, वही बिकता है, इसलिए अगर आप अपने माल की अच्छी पैकिंग करवाएँगे, तो आपके ग्राहक इसकी और आकर्षित होकर आपका माल पहले खरीदेंगे, और आपका व्यापार बढ़ेगा.
  • एडवर्टाइजिंग (Advertising) – आपके लिए यह बहुत ही आवश्यक है, कि आप अपने प्रॉडक्ट की एडवर्टाइजिंग करे, ताकि लोगो को इसके बारे में पता चले . आप एडवर्टाइजिंग के लिए लोकल न्यूज़ पेपर, लोकल टीवी चेनल और रेडियो का उपयोग कर सकते है.
  • फ्री सेंपलिंग – आपके प्रॉडक्ट की मार्केटिंग के लिए फ्री सेंपलिंग बहुत ही अच्छा तरीका है. इससे लोगों को आपके प्रॉडक्ट के टैस्ट और क्वालिटी के बारे में पता चलेगा और वे दूसरी बार इसे स्वयं खरीदकर खाएँगे.

पफ़ बनाने का व्यापार लागत और मुनाफा (Investment and Profit for Puff Making Busines) –

यह एक कम निवेश का व्यापार है, आप इसमें मात्र 4 से 5 लाख रुपय का इनवेस्टमेंट करके 1 से 1.5 लाख रुपय महिना तक कमा सकते है. परंतु इस कमाई तक पंहुचने के लिए आपको अपने प्रॉडक्ट की अच्छे से मार्केटिंग करके उसे लोगों तक पंहुचाना होगा, तब ही आप अच्छी कमाई कर सकते है.

इस प्रकार यह व्यापार एक बहुत ही अच्छा और सरल व्यापार है. अगर आप भी इसे शुरू करना चाहते है, तो आप इस बारे में सोच सकते है और इसे शुरू कर अच्छा मुनाफा कमा सकतें है.

अन्य पढ़े:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!