Sunday , November 18 2018

दाल बनाने के मिल की स्थापना कैसे करें | How to Start Dal Making Mill Business in hindi

दाल बनाने के मिल की स्थापना कैसे करें | How to Start Dal Making Mill Business Plan in hindi

भारत के लोग में दाल का उपयोग भोजन में काफी किया करते है. इसका प्रयोग भोजन के लिए विभिन्न तरीके से किया जा रहा है. दाल का प्रयोग मुख्यतौर पर रोटी व चावल के साथ खाने के लिए करते है. बाजार में कई लोग खुदरे तौर पर और कई कम्पनियां ब्रांडिंग करके दाल का व्यापार कर रही हैं. आप भी दाल मिल बैठा कर दाल का व्यापार कर सकते हैं, और प्रति महीने बेहतर लाभ कमा सकते हैं. चपाती या रोटी बनाने का व्यापार के बारे में यहाँ पढ़ें.

दाल मिल के व्यापार के लिए मशीनरी (Dal Mill Machinery)

दाल का मिल बैठाने के लिए एक विशेष तरह की मशीनरी की आवश्यकता होती है. इस मशीनरी की सहायता से तुअर दाल, मूंग दाल, मसूर दाल, उरद दाल, चने की दाल आदि निकाल सकते हैं. 

दाल की मशीन की कीमत (Price of Dal machine): मशीन की कीमत मशीन के एचपी के अनुसार बदलती है. मशीन न्यूनतम 1 एचपी की आती है. इसके अलावा 6 एचपी और 7 एचपी की मशीनें भी आती हैं. 3 एचपी की मशीन की कीमत 70,000 रुपए की होती है. 6 एचपी की मशीन की कीमत 1 लाख 75 हजार रुपए की होती है.

दाल बनाने की मशीन कहाँ से ख़रीदें (Place to buy Dal Making machine) :

  • https://www.indiamart.com/
  • Dal making machine seller contact details – 
    1.)Rising Industries Address – 

    Teghoria, Loknath Mandir, Jhowtala
    Rajarhat
    Kolkata – 700157 West Bengal, India

    Contact – 08071683325
    2.) Kamdhenu Agro Machinery Address – 
    Plot No. 6, Near Power House, Wathoda Road

    Wathoda Layout Nagpur – 440035 Maharashtra, India

    Contact – 08048762202

दाल मिल के व्यापार के लिए रॉ मटेरियल (Dal Mill Raw Material)

आप जिस दाल का व्यापार करना चाहते हैं, उसकी फसल ही इसके रॉ मटेरियल के रूप में काम में आती है.   

dal mill business 

दाल मिल में दाल बनाने की प्रक्रिया (Dal Making Process in Dal Mill in hindi)

  • इस कार्य में प्रयोग होने वाली मशीन पूर्णतया स्वचालित होती है, अतः इसे चलाना आसान होता है. कल्पना कीजिये आप चने की दाल निकालना चाहते हैं. इस प्रक्रिया को समझने पर आपको अन्य दाल निकालने की प्रक्रिया भी समझ आ जायेगी.
  • चने से चने की दाल निकालने के लिए सर्वप्रथम चने को भिगो कर रखने की आवश्यकता होती है.
  • इसके बाद भिगोए गये चने को मशीन में डाल दिया जाता है. इस मशीन का ऊपरी हिस्सा इस तरह का बना हुआ होता है, जहाँ पर दाल डाले जा सकते हैं.
  • इसके बाद मशीन की दूसरी तरफ से दाल निकलने लगती है. नई दाल को पूरे एक दिन तक सुखाने की आवश्यकता होती है.
  • इसके बाद एक बार और इसे मशीन में डाल कर निकाला जाता है, जिससे दाल पूरी तरह से बन कर अच्छे से तैयार हो जाती है. यह दाल एक नंबर दाल होती है.
  • इस तरह से दाल बनाने पर प्रति घंटे 100 किलो फसल से 25 किलो तक की दाल निकलती है.

दाल बनाने की मशीन के लिए आवश्यक स्थान (Dal Making Machine Required Place)

दाल मिल की मशीन बड़े आकार की होती है. इसके लिए कम से कम 25/ 30 स्कुअर फिट के आकार के स्थान की आवश्यकता होती है.

दाल मिल के व्यापार के लिए लागत (Dal Mill Business Cost)

यदि स्थान आपका निजी हो और आप 3 एचपी की मशीन से व्यापार की शुरुआत करना चाहते हैं, तो इसमें कुल लागत रू लगभग 4 लाख की होती है, जबकि 6 एचपी की मशीन होने पर यह लागत दुगुनी यानि कुल 8 लाख रुपये की हो सकती है.

दाल मिल के व्यापार से लाभ (Dal Mill Business Profit)

यदि कोई व्यक्ति छोटे पैमाने पर यह व्यापार करता है, तो 3 एचपी की मशीन की सहायता से व्यापार आरम्भ कर सकता है. इस मशीन की सहायता से प्रति घंटे 100 किलो दाल बन सकती है. एक किलो दाल पर आम तौर पर 2 रुपए का लाभ होता है. इस वजह से इस मशीन को आठ घंटे चला कर 800 किलो दाल बनाकर 1600 रुपये तक कमाया जा सकता है, इस तरह एक दिन में 1600 रुपए प्राप्त होते हैं.

यदि आप 6 एचपी की मशीन का प्रयोग करते हैं, तो प्रति घंटे 300 किलो दाल बनाई जा सकती है, जिसके अनुसार 4,800 रुपए का लाभ प्राप्त होता है.

दाल मिल की मार्केटिंग (Dal Mill Marketing)

इस मिल से उत्पन्न दाल को आप होलसेल मार्केट में आसानी से बेच सकते हैं. शहरों और गाँव में एक बड़ी संख्या में किराना स्टोर होते हैं. यदि कोई नागरिक छोटे पैमाने पर यह व्यापार शुरू करता है. इसमें हालांकि अधिक मुनाफा प्राप्त हो सकता है. इन किराना स्टोर पर भी आप अपने मिल में बनाए गये दाल को बेच सकते हैं. इन स्थानों पर आप अपनी दाल बेच कर काफी लाभ कमा सकते हैं.

दाल मिल के व्यापार के लिए लाइसेंस (Dal Mill Business License)

दाल मिल बैठाने के लिए आपको सबसे पहले अपने फर्म को पंजीकृत कराने की आवश्यकता होती है. आप चाहे तो अपने फर्म का उद्योग आधार अथवा एमएसएमई की सहायता से लाइसेंस पाने के लिए अप्लाई कर सकते है. यदि आप अपनी प्रोडक्ट की ब्रांडिंग खुद से ही करते है, इसके लिए आपको खाद्य मंत्रालय(fssai) से लाइसेंस की अनुमति लेनी होगी. आपको खुद के फर्म के लिए एक पैन कार्ड तथा एक करंट अकाउंट बनवाना बहुत जरुरी है. व्यापार का सारा स्थान्तरण इसी चालू खाते की सहायता से होता है.

दाल की पैकेजिंग (Dal Packing)

यदि आप अपने ब्रांड की सहायता से दाल विक्रय बढ़ाना चाहते हैं, तो आपको अपने प्रोडक्ट के लिए पैकेजिंग हेतु विशेष कंसन्ट्रेट करना चाहिए. आप अपने पैकेट में अपने ब्रांड का ट्रेडमार्क का उपयोग कर लेते है. इससे आपके ब्रांड का प्रचार भी होता है, और आपके दाल की मार्केटिंग भी आसानी से हो पाती है. बाजार में डाल पैक करने की बोरी आसानी से प्राप्त हो जाती है, जिसे आप खरीद कर डाल की पैकेजिंग कर सकते हैं..

अन्य पढ़े:

3 comments

  1. Please sent project report I. Wel see this machine working near Bijapur district Karnataka state send your Mobil number

  2. Sir muje Dal mill Ki surwat karni Hai esliye Maine PMEGP ke madaym se DIC me apply Kiya Hai. Muje es business ke liye bank loan chahiye Kay O mill Sakata Hai plz muje gaidance Karo.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *