दलिया बनाने का बिज़नेस शुरू करें | Dalia Manufacturing Unit in Hindi

दलिया बनाने का बिज़नेस शुरू करें, निवेश, लाभ, मार्केटिंग, मशीन, प्लांट (Dalia Manufacturing Unit in Hindi) (How to Start Daliya Making Business, Machine, Plant, Marketing, Profit, Investment, Cost)

अगर आप किसी ऐसे बिजनेस की शुरुआत करना चाहते हैं जिसे शुरू करने पर आपकी तगड़ी कमाई हो, तो आज हम आपको एक बेस्ट बिजनेस आइडिया प्रदान कर रहे हैं, जिसकी शुरुआत करने पर आप दूसरे महीने से लेकर के तीसरे महीने में ही अच्छी इनकम प्राप्त करना चालू कर देंगे। हम जिस बिजनेस के बारे में आपको बता रहे हैं उसकी डिमांड गांव से लेकर के शहरी इलाके तक में भारी मात्रा में है। बिजनेस का नाम है दलिया मैन्युफैक्चरिंग यूनिट अर्थात दलिया बनाने का बिजनेस, जिसे आप कम इन्वेस्टमेंट में आसानी से शुरू कर सकते हैं। स्वास्थ्य के नजरिए से दलिया काफी पौष्टिक आहार होता है। इसमें कार्बोहाइड्रेट के साथ-साथ प्रोटीन भी उपलब्ध होता है। इसलिए मिड डे मील में भी इसका वितरण किया जाता है। आइए जानते हैं कि “दलिया बनाने का बिजनेस क्या है” और “दलिया बनाने का बिजनेस कैसे शुरू करें।”

dalia manufacturing business in hindi

Table of Contents

दलिया बनाने का बिजनेस क्या है (Dalia Manufacturing Business)

दलिया का निर्माण गेहूं के छोटे-छोटे टुकड़े के द्वारा किया जाता है। खासतौर पर हमारे देश में शहरी और ग्रामीण इलाकों में चलने वाले गवर्नमेंट स्कूलों में मिड डे मील के तौर पर भी इसका वितरण किया जाता है। इसके अलावा गर्भवती महिलाओं को प्रेगनेंसी के पश्चात भी दलिया खाने की सलाह दी जाती है। अगर आप दलिया बनाने का बिजनेस शुरू करते हैं और आप किसी सरकारी कंपनी के साथ पार्टनरशिप कर लेते हैं तो फिर इस बिजनेस के द्वारा आप तगड़ा मुनाफा कमा सकते हैं, क्योंकि इस बात से आप भली-भांति परिचित हैं कि सरकार के साथ काम करना कितना फायदेमंद साबित होता है।

दलिया बनाने का बिजनेस कैसे शुरू करें (How to Start Dalia Making Business)

किसी भी बिजनेस की शुरुआत सोच समझकर करनी चाहिए। बिना सोचे समझे बिजनेस में अक्सर व्यक्ति को घाटा उठाना पड़ता है। बात करें अगर दलिया बिजनेस की तो इस बिजनेस में आपको लगने वाला इन्वेस्टमेंट, लोकेशन, मार्केटिंग, पैकेजिंग, लाइसेंस इत्यादि बातों पर ध्यान देने की आवश्यकता होती है, ताकि आप बिना किसी समस्या के अपना बिजनेस चला सके और अपने बिजनेस से मोटा मुनाफा कमा सकें। खैर अगर आप पहली बार दलिया बनाने का बिजनेस शुरू करने जा रहे हैं तो यह आवश्यक है कि आपको इसकी जानकारी नहीं होगी। इसलिए इस आर्टिकल में आपको दलिया मैन्युफैक्चरिंग बिजनेस के बारे में पूरी जानकारी प्राप्त होगी।

पैसे का प्रबंध करें (Investment)

प्रधानमंत्री ग्रामोद्योग रोजगार योजना के द्वारा तैयार की गई दलिया मैन्युफैक्चरिंग प्रोजेक्ट रिपोर्ट के अनुसार दलिया का बिजनेस शुरू करने के लिए व्यक्ति के पास ₹1,00,000 से लेकर ₹1,50,000 होने की आवश्यकता है। इतने रुपए में आप दलिया बनाने का बिजनेस छोटे स्तर पर आसानी से शुरू कर लेंगे। ₹1,00,000 के अंदर दलिया बनाने का बिजनेस शुरू करने के लिए जरूरी सामग्री, मशीन और अन्य चीजें आपको प्राप्त हो जाएंगी।

हालांकि कुल प्रोजेक्ट कॉस्ट के बारे में बात करें तो खर्चा तकरीबन ₹2,50,000 के आसपास में आ सकता है। अगर आप चीजें सेकंड हैंड लाते हैं तो आपका खर्चा कम भी हो सकता है। इसलिए सबसे पहले बिजनेस को शुरू करने के लिए पैसे की व्यवस्था करें। अगर आपके पास पैसे कम पड़ रहे हैं तो आप प्रधानमंत्री मुद्रा लोन योजना के तहत लोन प्राप्त कर सकते हैं या फिर अपनी बैंक से भी बिजनेस लोन के लिए आवेदन कर सकते हैं।

जगह की व्यवस्था करें (Location)

इस बिजनेस की शुरुआत करने के लिए आपके बिजनेस के लेवल के हिसाब से ही आपको जगह की व्यवस्था करनी पड़ेगी। अगर आप छोटी उत्पादन कैपेसिटी वाला प्लांट लगाना चाहते हैं तो आपको कम जगह और बड़ी कैपेसिटी वाला प्लांट लगाना चाहते हैं तो आपको उससे अधिक जगह की आवश्यकता होगी। एक औसत उत्पादन क्षमता वाले प्लांट को स्थापित करने के लिए 300 से लेकर 400 स्क्वायर फुट की जगह सही मानी जाती है।

हालांकि आप अपनी आवश्यकता के हिसाब से जगह में कमी अथवा बढ़ोतरी भी कर सकते हैं। आप इस बिजनेस की शुरुआत करने के लिए अपनी ही जमीन का इस्तेमाल कर सकते हैं। अगर आपके पास अपनी खुद की जमीन नहीं है तो आप दूसरे व्यक्ति की जमीन को किराए पर ले सकते हैं। हालांकि किराए पर लेने से पहले लीज एग्रीमेंट अवश्य करवा लें ताकि बिना किसी चिंता के आपका बिजनेस आपके द्वारा चलाया जा सके। साथ ही याद रखें कि आप ऐसी जगह पर इस बिजनेस की शुरुआत करें जहां पर बिजली, पानी की उचित व्यवस्था हो, साथ ही रोड ट्रांसपोर्ट की भी अच्छी व्यवस्था हो और यह बिजनेस ऐसे इलाके में होना चाहिए जहां पर लोगों की भीड़ रहती हो ताकि आपके दलिया के बिकने की संभावना काफी अधिक हो।

लाइसेंस लें और पंजीकरण करवाएं (License and Registration)

  • व्यक्ति के द्वारा अपनी इच्छा के अनुसार इस बिजनेस को प्रोपराइटरशिप के तहत पंजीकृत करवा करके भी शुरू किया जा सकता है, क्योंकि दलिया मैन्युफैक्चरिंग बिजनेस में ज्यादा औपचारिकता पूर्ण करने की जरूरत नहीं होती है।
  • इस बिजनेस के अंतर्गत व्यक्ति को फैक्ट्री अधिनियम के तहत अपना व्यवसाय पंजीकृत करने की जरूरत होती है.
  • साथ ही व्यक्ति को स्थानीय प्राधिकरण से ट्रेड लाइसेंस भी हासिल करने की आवश्यकता होती है।
  • यह बिजनेस फूड से संबंधित बिजनेस है। इसलिए व्यक्तियों को फूड लाइसेंस भी एफएसएसएआई से प्राप्त करने की आवश्यकता होती है।
  • अगर बिजनेसमैन की यह इच्छा है कि उसके बिजनेस में बनने वाले दलिया की खरीदारी सरकार के द्वारा भी की जाए तो व्यक्ति को अपने बिजनेस को एमएसएमई डाटा बैंक के साथ भी पंजीकृत करना चाहिए।
  • इसके अलावा इस बिजनेस के लिए व्यक्ति को कमर्शियल बिजली कनेक्शन लेना चाहिए। इसके लिए व्यक्ति नजदीकी बिजली पावर हाउस में आवेदन कर सकता है।
  • इसके अलावा व्यक्ति के पास जीएसटी पंजीकरण भी होना चाहिए।

मशीनरी कीमत एवं कहां से खरीदें (Machinery)

इस बिजनेस में लगने वाली मशीनरी और कच्चे माल की कीमत उत्पादन क्षमता के हिसाब से अलग-अलग हो सकती है। जिस मशीन के द्वारा अधिक मात्रा में उत्पादन किया जाएगा, उसकी कीमत ज्यादा होगी। सामान्य तौर पर लगाए गए आंकड़े के अनुसार दलिया मैन्युफैक्चरिंग बिजनेस में इस्तेमाल होने वाली मशीन की कीमत ₹30000 से लेकर के ₹250000 के आसपास में हो सकती है। दलिया मैन्युफैक्चरिंग बिजनेस में इस्तेमाल होने वाली मशीन की खरीदारी व्यक्ति ऑनलाइन वेबसाइट के द्वारा सप्लायर से संपर्क करके कर सकता है या फिर लोकल दुकानदार से भी खरीदारी कर सकता है। हालांकि अलग-अलग कंपनियों की मशीन की कीमत में भिन्नता होती है। दलिया मैन्युफैक्चरिंग बिजनेस में इस्तेमाल होने वाली कुछ प्रमुख मशीनरी और उपकरण की लिस्ट निम्नानुसार है।

  • दलिया बनाने वाली मशीन पल्वराइजर एवं क्रशिंग चैम्बर के साथ
  • छानने वाली मशीन
  • मिड स्टील फैब्रिकेटेड फाउंडेशन प्लेट
  • विभिन्न फ्राइंग पैन
  • पैकिंग मशीन
  • सर्किट ब्रेकर एवं फिटिंग सामग्री

कच्चा माल कहां से खरीदें (Raw Material)

दलिया बनाने वाले बिजनेस में कच्चे माल के तौर पर गेहूं की आवश्यकता होती है। हालांकि इसका पोषण बढ़ाने के लिए इसमें मिक्स ग्रेन, मक्का, हरी मटर, मूंगफली इत्यादि को भी मिलाया जाता है। तैयार दलिया की कीमत कितनी रखी जानी है यह दलिया में मिला गई चीजों पर डिपेंड करती है, साथ ही वजन के हिसाब से भी दलिया के पैकेट की कीमत तय होती है। कच्चा माल व्यक्ति को आसानी से किसानों के द्वारा प्राप्त हो जाएंगे।

कर्मचारियों की व्यवस्था करें (Required Staff)

अगर व्यक्ति के द्वारा इस बिजनेस की स्थापना ग्रामीण इलाके में की गई है तो वहां पर उन्हें काफी कम कीमत पर कच्चा माल प्राप्त हो जाएगा, साथ ही काम करने वाले मजदूर भी बहुत ही सस्ते रेट पर प्राप्त जाएंगे। सामान्य तौर पर इस प्रकार के बिजनेस की स्थापना ग्रामीण इलाके में ही की जाती है। इसलिए सरकार के द्वारा भी व्यक्ति को सहायता दी जाती है। आपको अपने दलियां मैन्युफैक्चरिंग बिजनेस में अपनी आवश्यकता के हिसाब से कर्मचारियों को काम पर रखना चाहिए। इस बिजनेस की शुरुआत आप अपने सहित लेकर के 2 से 3 कर्मचारियों के साथ कर सकते हैं। अगर बिजनेस रफ्तार पकड़ता है तो आप कर्मचारियों की संख्या को बढ़ा सकते हैं।

दलिया बनाना शुरू करें (How to Start Dalia Making)

  • दलिया का निर्माण करने के लिए कच्चे माल के तौर पर गेहूं की आवश्यकता होती है। सबसे पहले अच्छी तरह से गेहूं को साफ किया जाता है। गेहूं को धोने के लिए बहते पानी का इस्तेमाल किया जाता है, ताकि इसकी सारी गंदगी बाहर निकल जाए।
  • उसके बाद इसे पानी के अंदर ही तकरीबन 6 से 7 घंटे नरम होने के लिए छोड़ दिया जाता है।
  • पानी के अंदर 6 से 7 घंटे नरम हो जाने के बाद इसे बाहर निकाला जाता है और एक बड़ी जगह पर फैला दिया जाता है, ताकि इस पर सूरज की सीधे किरण गिरे और जल्दी से गेहूं सही प्रकार से सूख जाए।
  • गेहूं के सूख जाने के पश्चात दलिया को आटे की चक्की में डालकर पीसा जाता है या फिर दलियां पीसने वाली जो बड़ी मशीन होती है उसमें डालकर इसकी पिसाई की जाती है। हालांकि दलिया को बिल्कुल महीन नहीं किया जाता है बल्कि गेहूं के छोटे-छोटे टुकड़े किए जाते हैं।
  • इस प्रकार से दलिया तैयार हो जाता है। कुछ कंपनियां गेहूं के छोटे-छोटे टुकड़े के अलावा भी अपनी तरफ से कुछ आर्टिफिशियल चीजें इसमें शामिल करती है, ताकि इसकी पौष्टिकता को बढ़ाया जा सके।

दलिया की पैकेजिंग (Packaging)

तैयार दलिया को मार्केट में सही प्रकार से प्रस्तुत करने के लिए आपको इसकी पैकेजिंग पर भी ध्यान देना चाहिए। पैकेजिंग आपको आकर्षक बनानी चाहिए। आप यह डिसाइड कर सकते हैं कि आप दलिया को कितनी मात्रा में पैक करेंगे। जैसे कि 1 किलो का पैकेट अथवा 2 किलो का पैकेट अथवा 5 किलो का पैकेट। दलिया के पैकेट के ऊपर आपको अपनी कंपनी का नाम या फिर अपनी मैन्युफैक्चरिंग यूनिट का नाम अवश्य लिखना चाहिए, साथ ही कीमत, टोटल वजन, लाइसेंस नंबर, सामग्री इत्यादि की जानकारी भी प्रिंट करनी चाहिए।

दलिया के बिजनेस की मार्केटिंग (Marketing)

जब आपके द्वारा इस बिजनेस की शुरुआत की जाती है तब आपके बिजनेस के बारे में काफी कम लोग ही जानते हैं और इस बात से आप भली-भांति परिचित हैं कि जितना अधिक किसी चीज के बारे में लोग जानते हैं उसकी बिक्री उतनी ज्यादा होती है। इसलिए आपको दलिया मैन्युफैक्चरिंग बिजनेस की मार्केटिंग करने की आवश्यकता होगी। बिजनेस की मार्केटिंग करने के लिए आप ऑनलाइन और ऑफलाइन तरीका अपना सकते हैं। आप विभिन्न लोकल ग्रुप में अपने बिजनेस की पोस्ट शेयर कर सकते हैं। इसके अलावा अपनी फेसबुक प्रोफाइल, इंस्टाग्राम और टि्वटर प्रोफाइल से भी अपने बिजनेस से संबंधित पोस्ट शेयर कर सकते हैं।

व्हाट्सएप पर अपने बिजनेस का स्टेटस लगा सकते हैं या फिर बिजनेस का बैनर लगा सकते हैं। इसके अलावा आप अपने आसपास के इलाके में किसी व्यस्त चौराहे पर अपने बिजनेस का बड़ा सा बैनर लगवा सकते हैं। ताकि लोगों को आपके बिजनेस के बारे में पता चले, साथ ही आप पैदल रिक्शा या फिर ई रिक्शा के पीछे भी अपने बिजनेस का विज्ञापन दे सकते हैं। इसके अलावा आप छोटे-छोटे पेंप्लेट प्रिंट करवा करके भी उसका वितरण करवा सकते हैं।

दलिया के बिजनेस में जोखिम (Risk)

दलिया मैन्युफैक्चरिंग बिजनेस में जोखिम की बात की जाए तो दलिया एक ऐसी चीज है जो खुले में रहने पर काफी तेजी से खराब होती है, क्योंकि इसमें छोटे-मोटे कीटाणु लग जाते हैं। इसके अलावा इस पर पानी पड़ने पर भी यह काफी तेजी से खराब होता है। इसलिए आपको इन्हें खुली जगह पर नहीं रखना चाहिए, साथ ही जब आप इनकी पैकिंग करें तो ध्यान दे कि पैकिंग अच्छी हो और पैकिंग में किसी भी जगह से नमी प्रवेश ना कर सके।

दलिया के बिजनेस में कमाई (Earning and Profit)

प्राप्त जानकारियों के अनुसार अगर आप 100 परसेंट कैपेसिटी का इस्तेमाल दलिया बनाने के लिए करते हैं तो सालाना प्रोडक्शन 600 क्विंटल के आसपास में होगा और अगर ₹1200 के हिसाब से इसकी टोटल वैल्यू निकाली जाए तो इसकी टोटल वैल्यू ₹7,19,000 होगी। वही प्रोजेक्ट सेल्स कॉस्ट ₹8,50,000 के आसपास में होगी। इसके अलावा ग्रॉस सर प्लस ₹1,31,000 होगा साथ ही अनुमानित नेट सरप्लस ₹1,16,000 होगा अर्थात आप दलिया मैन्युफैक्चरिंग बिजनेस के द्वारा 1 साल में ₹1,16,000 की इनकम कर सकेंगे। इसे अगर महीने में काउंट किया जाए तो आपकी हर महीने की कमाई ₹13,000 के आसपास में होगी।

हालांकि बड़े पैमाने पर आपके द्वारा दलिया मैन्युफैक्चरिंग बिजनेस की शुरुआत की जाती है तो आपकी साल की कमाई इससे अधिक हो सकती है। किसी गवर्नमेंट एजेंसी के साथ हाथ मिलाने पर आप और भी अच्छे पैसे इस बिजनेस के द्वारा कमा सकेंगे।

दलिया बिज़नेस में संभावना (Scope)

दलिया पौष्टिक भोजन अथवा आहार होता है और इसे खाने की सलाह डॉक्टर के द्वारा भी दी जाती है। आप दलिए का निर्माण नमकीन या फिर मीठा किसी भी स्वाद में कर सकते हैं। इसका निर्माण करने के लिए सबसे पहले गर्म पानी में इसे भिगोया जाता है और उसके बाद इसे चूल्हे पर रखकर इसमें दूध, पानी, नमक अथवा चीनी स्वाद अनुसार मिलाई जाती है और सही प्रकार से पक जाने पर इसे खाया जाता है। भारतीय स्कूलों में मिड डे मील में भी इसका वितरण किया जाता है। इसलिए दलिया की डिमांड लगातार मार्केट में बनी रहती है। कमजोरी की अवस्था में भी इसका सेवन करना फायदेमंद होता है। इसलिए यह तेजी से बिकने वाला खाद पदार्थ है।

FAQ

Q : दलिया मैन्युफैक्चरिंग बिजनेस स्थापित करने के लिए कौन सी योजनाएं सहायक साबित होंगी?

ANS : मुद्रा, पीएमईजीपी, पीएम एफएमई, स्टैंडअप इंडिया

Q : दलिया में क्या क्या मिलाया जाता है?

ANS : गेहूं, मकई, ज्वार, बाजरा, मूंग

Q : दलिया क्या अनाज है?

ANS : दलिया गेहूं के छोटे-छोटे कण होते हैं।

Q : दलिया कैसे बनता है?

ANS : आर्टिकल में इसकी जानकारी मौजूद है।

Q : गेहूं का दलिया बनाने की मशीन की कीमत क्या है?

ANS : उत्पादन क्षमता के हिसाब से कीमत अलग-अलग होती है।

अन्य पढ़ें –

Leave a Comment