अपना खुद का डाटा एंट्री का व्यवसाय कैसे शुरू करें ?

डाटा एंट्री ऑपरेटर क्या है, अपना खुद का डाटा एंट्री का व्यवसाय कैसे शुरू करें (How to Start  Data Entry Business from Home in India in Hindi)

दोस्तों आपने अक्सर देखा होगा, कि कई महिलाएं ऐसी हैं, जो घर में ऑनलाइन कंप्यूटर पर कुछ कार्य करती हैं और ढेर सारे पैसे कमा लेती है. अब आपके मन में यह सवाल उठ रहा होगा, कि आखिर ऐसा कौन सा काम है, जो वे घर बैठे करके अच्छा खासा पैसा कमा लेती हैं, तो आपको बता दें, कि ये काम है डेटा एंट्री का काम. जी हां डेटा एंट्री एक ऐसा काम है, जिसे लोग घर बैठे कर सकते हैं, इसमें बस आपको कंप्यूटर के बारे में कुछ बेसिक ज्ञान होना आवश्यक होता है. लेकिन आपको बता दें, की डेटा एंट्री का काम आप किसी कंपनी के लिए या ऑनलाइन भी कर सकते हैं या फिर आप खुद का व्यवसाय भी कर सकते हैं. यहाँ हम आपको अपना खुद का डेटा एंट्री व्यवसाय शुरू करने के बारे में जानकारी दे रहे हैं.

Data Entry Business

डेटा एंट्री व्यवसाय क्या है ? (What is Data Entry Business Meaning)

डेटा एंट्री व्यवसाय क्या हैं, ये जानने से पहले आपको यह जानना आवश्यक हैं, कि डेटा एंट्री क्या होता हैं, तो आपको बता दें कि डेटा एंट्री एक ऐसा काम हैं जिसे आप कंप्यूटर पर करते हो. जब कोई व्यक्ति, किसी फॉर्म, रजिस्टर या अन्य किसी डाक्यूमेंट्स से डेटा को कंप्यूटर के कीबोर्ड की मदद से कंप्यूटर पर इंटर करता हैं, तो हम उसे डेटा एंट्री कहते हैं. यानी दूसरे शब्दों में यदि हम कहें, तो किसी डाक्यूमेंट्स के डेटा को डिजिटलिकृत करना डेटा एंट्री कहलाता है. वर्तमान युग डिजिटल युग है, जहाँ हर चीज को कंप्यूटराज्ड किया जा रहा है. पहले किसी भी व्यवसाय के सभी डेटा को स्टोर करके रखने के लिए अलग – अलग फाइलें बनाई जाती थी. किन्तु अब सब कुछ कंप्यूटर में सेव किया जाता है. जिसे अब डेटा एंट्री का काम कहा जाता हैं और इसे आप घर पर भी शुरू कर सकते हैं. और इसके लिए आपको पैसे भी मिलते हैं. 

अब यदि हम बात करें, डेटा एंट्री व्यवसाय की, तो जब आप कई सारी कंपनी से यह काम लेकर अपनी खुद की एक कंपनी खोलकर यह काम करते हैं, तो उसे हम डेटा एंट्री व्यवसाय कहेंगे.   

डेटा एंट्री व्यवसाय के लिए आवश्यक उपकरण एवं सॉफ्टवेयर (Data Entry Business Required Equipments and Software)

आपको अपना खुद का या ऑनलाइन डेटा एंट्री व्यवसाय शुरू करने के लिए कुछ उपकरण एवं उसमें आवश्यक कुछ सॉफ्टवेयर की जरूरत होगी, जोकि इस प्रकार है-

  • सबसे पहले तो हम इसके उपकरण की बात करें, तो इसके लिए आपके पास कम से कम एक कंप्यूटर या लैपटॉप का होना आवश्यक हैं. जिसके माध्यम से ही आप डेटा एंट्री के काम को अंजाम दे सकते हैं.
  • इसके बाद जब आप डेटा एंट्री का व्यवसाय शुरू करते हैं, तो आपको डेटाबेस सॉफ्टवेयर की आवश्यकता होती हैं, जैसे कि माइक्रोसॉफ्ट एक्सेस, माइक्रोसॉफ्ट वर्ड, माइक्रोसॉफ्ट एक्सेल या एसएपी आदि. ये सभी सॉफ्टवेयर एक बेसिक कंप्यूटर में होते ही हैं.
  • यदि आप कुछ अन्य प्रकार के डेटा एंट्री जैसे एकाउंटिंग या बहीखाता प्रोजेक्ट आदि में विशेषज्ञ हैं, तो आपको क्विकबुक सॉफ्टवेयर की आवश्यकता होगी.
  • इसके अलावा यदि आप इसे ऑनलाइन माध्यम से कर रहे हैं, तो आपको अपने क्लाइंट को प्रोजेक्ट फाइल भेजने और प्राप्त करने के लिए हाई – स्पीड इन्टरनेट डेटा की भी आवश्यकता होगी.
  • क्राउडसौर्सिंग प्रोजेक्ट पर काम करने के लिए भी आपको इन्टरनेट ब्राउज़र और तेज इन्टरनेट कनेक्शन की आवश्यकता होगी, ताकि आप किसी प्रोजेक्ट को पूरा करने के लिए किसी कंपनी के कंप्यूटरीकृत सिस्टम में लॉग इन कर सकें.

डेटा एंट्री व्यवसाय के लिए आवश्यक कौशल (Data Entry Business Required Skill)

डेटा एंट्री प्रोजेक्ट का व्यवसाय करने के लिए वैसे तो, आपको किसी प्रमाण पत्र या विशेष शिक्षा की आवश्यकता नहीं है. लेकिन अगर आपके पास इस उद्योग में उपयोग की गई टर्मिनोलॉजी का ज्ञान हैं, तो आपके लिए यह अच्छा है. यदि आप डेटा एंट्री के व्यवसाय को शुरु करना चाहते हैं, तो आपके अंदर निम्न कौशल का होना आवश्यक हैं –

  • सबसे पहले तो आपकी कंप्यूटर के कीबोर्ड पर अच्छी कमांड होनी बहुत आवश्यक है, साथ ही आपकी टाइपिंग स्पीड भी बेहतर होनी जरूरी है.
  • इसके बाद आपको कोई दस्तावेज प्रदान किया जायेगा, तो आपके पास उसे डिजिटलीकृत करने का कौशल भी होना चाहिए.
  • आपको कंप्यूटर में डेटा एंट्री से संबंधित सभी सॉफ्टवेयर के बारे में भी पता होना चाहिए, ताकि आप डेटा एंट्री अच्छे से कर सकें.
  • डेटा एंट्री में डेटा आपको किसी भी फॉर्मेट में प्राप्त हो सकता है. इसलिए आपको सभी प्रकार के डेटा को पढ़ने और उसे एंट्री करने का कौशल होना भी आवश्यक है. इसके साथ ही आपको हिंदी एवं इंग्लिश दोनों की भाषाओँ का ज्ञान होना भी आवश्यक है.
  • जब आप डेटा एंट्री खुद का व्यवसाय शुरू करने के लिए करना चाह रहे हैं, तो आपके पास व्यवसाय के प्रबंधन से संबंधित भी सभी जानकारी होना आवश्यक है. ताकि आपका व्यवसाय सही से स्थापित हो और कोई जोखिम न हो.
  • आपको डेटा मौखिक एवं लिखित दोनों रूपों में दिया या मांगा जा सकता हैं, इसलिए आपका इसमें अच्छी तरह से संचार होना आवश्यक है.
  • डेटा एंट्री करते समय आपको यह समय एवं डेडलाइन का भी ध्यान देना आवश्यक होगा.

डेटा एंट्री व्यवसाय के लिए आवश्यक प्रमाण पत्र एवं लाइसेंस (Data Entry Business Required Certification and License)

जैसा कि हमने पहले ही बताया है, कि डेटा एंट्री का काम 2 तरीके से किया जा सकता है, पहला तो ऑनलाइन वेबसाइट के लिए व्यक्तिगत रूप से, और दूसरा खुद की एक कम्पनी खोल कर. तो यदि आप डेटा एंट्री ऑनलाइन किसी कंपनी के लिए करते हैं, जैसे यदि आप फ्रीलांसर या ईलांस की वेबसाइट के लिए डेटा एंट्री करते हैं, तो आपको खुद को उस कंपनी के साथ डेटा एंट्री ऑपरेटर के रूप में रजिस्टर्ड करना होगा. लेकिन आप यदि ऑफलाइन अपना यह व्यवसाय शुरू करते हैं, जो छोटी या बड़ी कंपनियों से डेटा एंट्री करने का ऑर्डर ले और कॉर्पोरेट ग्राहकों के साथ काम करे. तो आपको इसे एक कंपनी के रूप में चलाना होगा. जिसका एक नाम भी होगा, उस नाम से आपका बैंक में एक चालू खाता होना भी आवश्यक होगा, क्योंकि उसी खाते में डेटा एंट्री से आने वाली कमाई जमा की जाएगी. इसके लिए यह भी जरुरी है कि आप अपना यह व्यवसाय कंपनी के रजिस्ट्रार में रजिस्टर करके इनकारपोरेशन प्रमाण पत्र भी प्राप्त कर लें. 

डेटा एंट्री व्यवसाय में निवेश (Data Entry Business Investments / Funding and profit)

डेटा एंट्री व्यवसाय में आपके पास यदि एक कंप्यूटर या लैपटॉप हैं और उसमें इन्टरनेट कनेक्टिविटी है, तो आपको इसके अलावा किसी अन्य चीज में निवेश करनी की आवश्यकता नहीं है. हालांकि आपको सिर्फ अपने व्यवसाय को रजिस्टर करने में कुछ शुल्क देना हो सकता है, और इन्टरनेट के कनेक्शन में भी कुछ खर्च करना पड़ सकता है. इसके साथ ही यदि आप अपनी इस कंपनी में कुछ लोगों को डेटा एंट्री करने के लिए हायर करते हैं, तो आप उन्हें इसके लिए कुछ कमिशन दे सकते हैं. इस तरह से आप डेटा एंट्री के व्यवसाय के प्रोजेक्ट में निवेश कर इसकी फंडिंग की व्यवस्था कर सकते हैं.  

डेटा एंट्री व्यवसाय का सेटअप (Data Entry Business Setup)

जब आप यह डेटा एंट्री का व्यवसाय शुरू करते हैं, तो आपको सबसे पहले एक कम्पनी शुरू करनी होगी. फिर आप छोटी या बड़ी कम्पनी से ऑर्डर लेकर यह काम शुरू कर सकते हैं. शुरुआत में आप यह काम अकेले ही कर सकते हैं. लेकिन डेटा एंट्री ऐसा व्यवसाय हैं, जिसमे समय पर एवं किसी भी नई तकनीक के आने के साथ उसे अपडेट किया जाता है. तो जब आपको बहुत अधिक मात्रा में ऑर्डर मिलने लगेंगे और उसे आपको समय पर पूरा करना पड़ेगा, तो आप अपनी कम्पनी में अपने लिए एक पार्टनर का चुनाव भी कर सकते हैं. जिसके पास डेटा एंट्री से संबंधित पर्याप्त कौशल हो. यानि कि आप इस व्यवसाय को पार्टनरशिप में भी कर सकते हैं. पार्टनरशिप में यदि यह व्यवसाय शुरू किया जाये, तो इससे आपको व्यवसाय को चलाने में आसानी होगी, और जोखिम बहुत कम होगा. इस तरह से आप डेटा एंट्री के व्यवसाय का सेटअप कर सकते हैं.

डेटा एंट्री व्यवसाय में ग्राहकों की पहचान एवं मार्केटिंग (Data Entry Business Clients and Marketing)

आपने अपने डेटा एंट्री व्यवसाय का सेटअप कर लिया इसके बाद आपको अपने ग्राहकों की पहचान करना होगा कि, आप किन ग्राहकों से एवं कंपनियों से डेटा एंट्री के लिए ऑर्डर ले सकते हैं. कई बार कई कंपनियां डेटा एंट्री जैसे कार्य करवाने के लिए भी ऐड देती हैं, ताकि लोग उनके ऐड के जरिये उन तक पहुंचे और उनके लिए डेटा एंट्री का कार्य करें. इसके लिए उन्हें कुछ कमिशन या पैसे भी दिए जाते हैं. तो यदि आप चाहते हैं कि ज्यादा से ज्यादा लोग आपकी कंपनी को डेटा एंट्री के लिए ऑर्डर दें, तो आपको इसके लिए अपने व्यवसाय की मार्केटिंग करनी होगी. आपको अपने कंपनी के विज्ञापन देने होंगे, ताकि अलग – अलग कंपनियां डेटा एंट्री का कार्य करने के लिए आपसे सम्पर्क कर आपको ऑर्डर दे सकें और आपको एवं आपके व्यवसाय को अधिक लाभ प्राप्त हो सकें.

पश्चिमी देशों की कुछ ऐसी मल्टी नेशनल कंपनियां हैं, जो डेटा एंट्री का कार्य अन्य देश के लोगों से कराती हैं, जैसे की भारत, क्योंकि उन्हें यहां के लोगों से कार्य करवाने में कम भुगतान करना पड़ता है. आप ऐसे ग्राहकों की खोज कर अधिक लाभ कमा सकते हैं, लेकिन ध्यान रहे आपको ऐसे ग्राहकों से सतर्क होना आवश्यक हैं, जो आपसे डेटा एंट्री के कार्य के लिए पैसों की मांग करते हैं. अतः इस तरह से आप अपने डेटा एंट्री के व्यवसाय में ग्राहकों की पहचान कर जोखिम से बच सकते हैं.

भारत में डेटा एंट्री व्यवसाय का स्कोप (Data Entry Business Scope in India)

भारत में डेटा एंट्री व्यवसाय का काफी स्कोप है, क्योंकि पिछले कुछ सालों से भारत का आईटी क्षेत्र में काफी विकास हुआ हैं. भारत के माननीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने कुछ साल पहले ‘डिजिटल इंडिया प्रोजेक्ट’ की शुरुआत की थी, जिसके तहत देश में नागरिकों को सभी चीजें डिजिटल फॉर्म में करने के लिए प्रेरित किया गया था, जैसे पैसों का लेनदेन, किसी योजना में ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन करना एवं कोई भी दस्तावेजों को कंप्यूटर में डिजिटल फॉर्म में सुरक्षित रखना आदि. इसके साथ ही मोदी जी ने देश में जितने भी कार्यलयों में डेटा फाइलों में उपलब्ध हैं, उसे डिजिटल फॉर्म में ट्रान्सफर करने के लिए ‘डिजिटल इंडिया प्लेटफॉर्म’ की शुरुआत की थी. इस प्लेटफॉर्म को शुरू कर सरकार का लक्ष्य सभी डेटा को डिजिटलीकृत करना एवं बेरोजगार युवाओं को घर बैठे रोजगार उपलब्ध कराना था. इसके माध्यम से लोग 10 से 20 हजार रूपये तक प्रति माह घर बैठे कमा सकते हैं. अतः इस वजह से भारत में डेटा एंट्री व्यवसाय अधिक लोकप्रिय भी हुआ है.

दोस्तों यदि आप इस व्यवसाय को भारत में रहते हुए शुरू करना चाहते हैं, तो आप इसे आसानी से कर सकते हैं, क्योंकि यह व्यवसाय आपके लिए काफी लाभ प्रदान करने वाला व्यवसाय साबित हो सकता है.

अन्य पढ़े:

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!