कार ड्राइविंग स्कूल या मोटर ट्रेनिंग स्कूल का व्यापार कैसे शुरू करें?

कार ड्राइविंग स्कूल या मोटर ट्रेनिंग स्कूल का व्यापार कैसे शुरू करें (How to Start a Car Driving training School Business or become a driving instructor, plan, profit in Hindi )

आज के समय में लोग बहुत कम पैदल यात्रा करते हैं. कहीं भी जाने के लिए ज्यादातर लोग गाड़ी का उपयोग करते हैं. इसलिए यह उनकी मुख्य आवश्यकता हो गई है. जिसके चलते गाड़ियों की खरीद भी बहुत अधिक हो गई है. लेकिन आपको बता दें, कि गाड़ियाँ तो लोग खरीद लेते हैं, लेकिन उन्हें गाड़ी चलाना सीखना भी आवश्यक होता है. बहुत से लोग ऐसे होते हैं, जो अपने पिता, रिश्तेदार, मित्र आदि से गाड़ी सीख लेते हैं, लेकिन बहुत से लोग ऐसे भी होते हैं, जो किसी प्रोफेशनल व्यक्ति से गाड़ी चलाना सीखना चाहते हैं. लोगों की गाड़ी चलाने की इच्छा एवं मांग के चलते आज बहुत से ड्राइविंग स्कूल खुल गए हैं. यदि आप एक बहुत अच्छे एवं प्रोफेशनल गाड़ी चालक हैं, तो आप भी यह व्यवसाय शुरू कर सकते हैं, जिससे आपको बहुत अच्छा लाभ प्राप्त हो सकता है. किन्तु आपको यह जानकारी होनी आवश्यक है, इस व्यवसाय को शुरू करने से पहले आपको इसके कुछ नियम के बारे में पता होना चाहिए. आइये इस लेख में हम आपको इस व्यवसाय को शुरू करने की जानकारी एवं नियम के बारे में बताते हैं.

Driving School Business

ड्राइविंग स्कूल क्या है ? (What is Driving School ?)

ड्राइविंग स्कूल का व्यवसाय शुरू करने से पहले आपके लिए यह आवश्यक है, कि आप इसके बारे में जान लें, कि आखिर ड्राइविंग स्कूल है क्या. ड्राइविंग स्कूल वह है जहाँ पर लोगों को प्रोफेशनल तरीके से वाहन चलाना सिखाया जाता है, इसमें उन्हें इस तरीके से वाहन चलाना सिखाया जाता है, कि उसमें यातायात के सभी नियमों का पालन हों. और यहां लोगों को इसके बारे में जानकरी भी दी जाती है. ताकि वे अच्छी तरह से ड्राइविंग सीख सकें, ड्राइविंग सीखने के लिए ग्राहक स्कूल में कुछ शुल्क भी देते हैं. जिससे ड्राइविंग स्कूल का व्यवसाय चलता है.

ड्राइविंग स्कूल व्यवसाय शुरू करने के लिए कुछ नियम (Car Driving School Business Rules and Regulations)

ड्राइविंग स्कूल खोलने से पहले आपको कुछ नियमों का पालन करना होगा, जोकि अलग – अलग राज्यों के लिए अलग – अलग हो सकते हैं. आपको अपने राज्य के आधार पर यह नियम अपनाने होंगे. यहाँ हम आपको इस व्यवसाय को शुरू करने से संबंधित कुछ बेसिक नियमों के बारे में बताने जा रहे हैं –

  • सबसे पहले तो यह आवश्यक है, कि ड्राइविंग स्कूल का व्यवसाय शुरू करते समय आवेदक की उम्र 21 वर्ष से कम नहीं होनी चाहिए.
  • ड्राइविंग स्कूल में प्रशिक्षण देने वाला व्यक्ति कम से कम हाईस्कूल की पढ़ाई पूरी किया हुआ होना चाहिए. साथ ही उनका विज़न भी अच्छा होना चाहिए.
  • इस व्यवसाय को केवल वे लोग शुरू कर सकते हैं, जोकि मानसिक एवं शारीरिक रूप से बिलकुल ठीक हो और वे इसकी परीक्षा में पास हो गए हो.
  • आपके ऊपर किसी भी प्रकार का अपराधिक रिकॉर्ड भी नहीं होना चाहिए. बल्कि इसमें आपका ड्राइविंग रिकॉर्ड अच्छा होना चाहिए. इसका राज्य के इंस्पेक्टर द्वारा इंस्पेक्शन भी किया जायेगा. यहाँ तक कि आपके साथ – साथ आपके स्कूल एवं आपके वाहनों का भी इंस्पेक्शन किया जायेगा.
  • इसके अलावा आपके स्कूल और सभी प्रशिक्षकों को राज्य द्वारा प्रमाणित होना चाहिये. कुछ राज्यों में, चालक सेवा विभाग सभी रक्षात्मक ड्राइविंग, ड्राइवर शिक्षा और थर्ड पार्टी टेस्टिंग प्रोग्राम की देखरेख करते हैं. और कुछ राज्यों में मोटर वाहन विभाग ड्राइविंग स्कूलों की देखरेख के लिए जिम्मेदार राज्य एजेंसी होते हैं.

ड्राइविंग स्कूल व्यवसाय के लिए आवश्यक रजिस्ट्रेशन (Driving School Business Required Registration)

ड्राइविंग स्कूल का व्यवसाय शुरू करने के लिए यह बहुत आवश्यक है, कि आपके स्कूल को सरकार द्वारा लाइसेंस प्राप्त हो, क्योंकि भले ही हर राज्य में इस व्यवसाय से संबंधित अलग – अलग गाइडलाइन्स हो, लेकिन आपका यह व्यवसाय जब तक स्थानीय अधिकारी या क्षेत्रीय परिवहन कार्यालय से लाइसेंस प्राप्त नहीं करेगा, यह गैर – कानूनी माना जायेगा. भारत में इस व्यवसाय को कॉर्पोरेट मिनिस्ट्री के तहत रजिस्टर किया जाता है. इस व्यवसाय के लिए आवेदन करने के लिए आप अपने स्थानीय एवं क्षेत्रीय परिवहन कार्यालय में जाएँ और वहां आपसे कुछ दस्तावेजों की कॉपी मांगी जायेगी और फिर सभी पेपरवर्क को पूरा करना होगा. जिसके बारे में जानकारी आपको वहां जाकर मिल जाएगी.

इस व्यवसाय को शुरू करने के लिए रजिस्ट्रेशन फॉर्म भरने के बाद सरकार द्वारा सभी चीजों जैसे आपका किस लोकेशन में यह व्यवसाय शुरू हो रहा है, आपके ऊपर कोई अपराधिक चार्ज तो नहीं है. आदि और भी सभी तरह की जाँच की जाएगी. फिर जाकर आपको इसके लिए लाइसेंस प्राप्त हो सकेगा. आप अपना व्यवसाय शुरू कर पाएंगे.

ड्राइविंग स्कूल व्यवसाय में अपने प्रतिस्पर्धी के बारे में जानकारी (Information About Competition in Driving School Business)

आपके द्वारा शुरू किये जाने वाले ड्राइविंग स्कूल व्यवसाय की लोकेशन के पास आपके कुछ अन्य प्रतिस्पर्धी भी हो सकते हैं. तो आप उनके बारे में भी जानकारी प्राप्त करें, कि वे किस तरह से ड्राइविंग स्कूल का व्यवसाय चला रहे हैं. कौन – कौन सी सेवा वे अपने ग्राहकों को दे रहे हैं और उनकी लागत कितनी है. इसी तरह की सभी जानकारी प्राप्त कर आपको अपने व्यवसाय को शुरू करने में कुछ मदद मिल सकती है.  

ड्राइविंग स्कूल व्यवसाय का सेटअप (Driving School Business Setup)

जब आपको अपने प्रतिस्पर्धी के बारे में जानकारी प्राप्त हो जाये, इसके बाद आप अपने व्यवसाय को सही तरह से शुरू करने की योजना बना सकते हैं. इसके लिए आपको मिशन, उद्देश्य, ऑपरेटिंग योजना, मार्केटिंग स्ट्रेटेजी एवं आवश्यक मैनपॉवर आदि के बारे में योजना बनानी होगी. इसके अलावा आपको प्रशिक्षण देने के लिए वाहनों की व्यवस्था भी अच्छी तरह से करनी होगी. इस तरह से यदि आप अपने व्यवसाय को शुरू करने से पहले उसकी पूरी योजना बना लेते हैं और फिर उसके अनुसार कार्य शुरू करें, तो आपका व्यवसाय अच्छी तरह से स्थापित हो जायेगा.

ड्राइविंग स्कूल व्यवसाय को शुरू करने के लिए स्थान का चयन (Select Location for Driving School Business)

अपना ड्राइविंग स्कूल शुरू करने के लिए आपको एक सही स्थान खोजने की आवश्यकता है. इसके अलावा आपके पास एक और विकल्प किराये पर जगह लेना का भी है. लेकिन अपने ड्राइविंग स्कूल के लिए जगह का चयन करते समय आप इस बात का ध्यान रखें, कि वहां इतनी जगह होनी चाहिए, जिससे आप अपने व्यवसाय के लिए कम से कम एक क्लास रूम और एक कार्यालय अवश्य बना सकें. इसके साथ ही वाहन की पार्किंग की सुविधा भी होनी चाहिए. आप स्थान का चयन ऐसे जगह पर करें, जोकि हाईवे सड़क के किनारे पर स्थित हो. जिससे लोग आसानी से आपके ड्राइविंग स्कूल को खोज पाएंगे.

ड्राइविंग स्कूल व्यवसाय के लिए आवश्यक चीजें एवं वाहन (Required Raw Material and Vehicles for Driving School Business)

आपको अपने ड्राइविंग स्कूल के लिए कुछ आवश्यक चीजों की आवश्यकता होगी, जैसे कुर्सी टेबल, एक फोन सिस्टम, आपके लॉबी या प्रतीक्षा क्षेत्र के लिए एक सोफे, फाइलिंग कैबिनेट और ऑफिस में उपयोग होने वाली कुछ आवश्यक वस्तुएं आदि हो सकती है. इसके साथ ही आप अपने ग्राहकों को ड्राइविंग का प्रशिक्षण देने के लिए ऐसे वाहन को खरीदें, जिसमें कुछ विशेष सुविधाएँ मौजूद हों. आपको अपने ड्राइविंग स्कूल के लिए ऐसी कार खरीदनी चाहिए, जोकि अपेक्षाकृत सस्ती हो, इसके अलावा इसमें सभी तरह की सुविधा जैसे इसमें ड्राइवर के बाजू वाली सीट के पास एक हैण्ड ब्रेक होना भी आवश्यक है, ताकि यदि ग्राहक को ड्राइविंग सिखाते समय वाहन कण्ट्रोल से बाहर हो जाएँ, तो प्रशिक्षण देने वाला व्यक्ति उस ब्रेक की मदद से वाहन को कण्ट्रोल कर सके. आप चाहे तो नया वाहन लेने के बजाय सेकंड हैण्ड वाहन भी खरीद सकते हैं, जोकि आपको 2 से 3 लाख रूपये में उपलब्ध हो जायेंगे, बस आपको उसमें कुछ बदलाव करने पड़ सकते हैं. आप शुरुआत से ही छोटी कार खरीदें जिससे ग्राहकों को ड्राइविंग सीखने में आसानी हो. इसके अलावा आप अपने वाहन में ऐसे कलर भी करा सकते हैं, जिससे वह वाहन दूर से समझ आ जाएँ, कि वह ड्राइविंग स्कूल का वाहन है.    

ड्राइविंग स्कूल व्यवसाय में कुल लागत (Driving School Business Total Costing)

इस ड्राइविंग स्कूल व्यवसाय को शुरू करने और उसे सेट करने में कुछ लागत की आवश्यकता पड़ेगी. इसमें आपको आपके कार्यालय में उपयोग होने वाली चीजों, जगह को किराये पर लेने पर उसका किराया एवं सबसे आवश्यक वाहन आदि पर लागत लगेगी. अतः इस व्यवसाय को शुरू करने में कुल मिला कर 10 से 15 लाख रूपये तक की लागत लग सकती है. हालांकि यदि आप सेकंड हैण्ड वाहन लेते हैं तो आपको इसकी आधी लागत लग सकती है. इसके अलावा जब आप वाहन खरीद लेते हैं उसके बाद आपको अपने ग्राहकों को प्रशिक्षण देने के लिए वाहन में पेट्रोल के लिए भी पैसे देने होंगे. इस तरह से इन सभी चीजों में आपको पैसे की आवश्यकता पड़ेगी.

अब बारी आती हैं कि यदि आपके पास इतने पैसे नहीं है, तो आप इस व्यवसाय को कैसे शुरू करेंगे, लेकिन आपको चिंता करने की कोई आवश्यकता नहीं है, क्योंकि इस व्यवसाय के लिए आप बैंक से लोन भी ले सकते हैं, क्योंकि आज कल सरकार द्वारा रोजगार से संबंधित कई सारी योजनायें शुरू की जा रही हैं, इसलिए आपको आसानी से लोन भी मिल जायेगा. आप चाहे तो क्राउड फंडिंग, एंजेल इन्वेस्टर आदि के द्वारा भी पैसों की व्यवस्था कर सकते हैं.  

ड्राइविंग स्कूल व्यवसाय में ग्राहकों से शुल्क का निर्धारण एवं लाभ (Driving School Business Pricing and Profit)

ड्राइविंग स्कूल के व्यवसाय को शुरु कर आपको यह भी निर्धारित करना होगा, कि आप अपने ग्राहकों को ड्राइविंग का प्रशिक्षण देने के लिए उनसे कितना शुल्क लेंगे. इसके लिए आप अपने अन्य प्रतिस्पर्धी की मदद ले सकते हैं. आप उनसे यह पता कर सकते हैं, कि वे अपने ग्राहकों से कितना शुल्क लेते हैं और उसके आधार पर कितने समय तक ड्राइविंग का प्रशिक्षण देते हैं. फिर उसके अनुसार आप भी शुल्क एवं समय का निर्धारण कर सकते हैं. पर आप इस व्यवसाय में शुरुआत में कम ही शुल्क निर्धारित करें, तो बेहतर होगा, जिससे ज्यादा से ज्यादा लोग आपके पास ड्राइविंग सीखने के लिए आयें. और जब आपका ड्राइविंग स्कूल बहुत अधिक प्रचलित हो जाये, उसके बाद आप शुल्क बढ़ा सकते हैं और अधिक लाभ प्राप्त कर सकते हैं. हालांकि आप स्थानीय हाईस्कूल, चर्च या अन्य सामुदायिक संगठन समुदाय को मुफ्त ड्राइवर शिक्षा सेवाएं भी प्रदान कर सकते हैं.

ड्राइविंग स्कूल व्यवसाय को बढ़ावा देने के लिए मार्केटिंग (Driving School Business Marketing)  

यदि आप चाहते हैं, कि ज्यादा से ज्यादा ग्राहक आपके ड्राइविंग स्कूल में ड्राइविंग सीखने के लिए आयें, तो सबसे पहले इसके लिए जरुरी हैं कि आपके ड्राइविंग स्कूल के बारे में लोगों को पता हो. जब तक लोगों को इसके बारे में पता नहीं होगा वे आप तक कैसे पहुँचेंगे. इसलिए जरूरी हैं कि आप अपने इस ड्राइविंग स्कूल का प्रचार करें. इसके लिए आप ब्रोशर या पैम्पप्लेट छपवायें या समाचार पत्र में भी विज्ञापन दें, और उसमें आप अपने ड्राइविंग स्कूल में दी जाने वाली सभी सुविधाओं की जानकारी एवं एक वैध सम्पर्क नंबर भी प्रदान करें, ताकि लोग इसे पढ़ कर आकर्षित हो और आपसे सीधे सम्पर्क कर सकें. इसके अलावा आप अपने इस ड्राइविंग स्कूल के नाम से एक खुद की वेबसाइट भी बना सकते हैं, और फिर सोशल मीडिया के माध्यम से लोगों को अपने ड्राइविंग स्कूल में दी जाने वाली सभी सुविधाओं के बारे में बता सकते हैं. इस सभी के साथ ही आप विभिन्न स्कूलों, हस्पतालों एवं इसी तरह की अन्य जगहों पर भी इसका प्रचार कर सकते हैं.

इस तरह से आपके ड्राइविंग स्कूल के बारे में जितने ज्यादा से ज्यादा लोगों को पता चलेगा, आपको उतना ही अधिक फायदा पहुंचेगा. क्योंकि इससे आपके पास ग्राहकों की लाइन भी लग सकती है. यदि आपके पास ड्राइविंग का बहुत अच्छा ज्ञान है तो आप जल्द से जल्द इस व्यवसाय को शुरू करें, और लोगों को इसका प्रशिक्षण दे कर कमाई करें.

अन्य पढ़े:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!