Sunday , November 18 2018

फूलों की दूकान का व्यापार कैसे करें | How to Start a Flower Shop Business Plan in hindi

फूलों की दूकान का व्यापार कैसे करें | How to Start a Flower Shop Business Plan in hindi

फूल कई तरह से काम आते हैं. किसी भी तरह के पर्व, त्यौहार में फूलों का काफ़ी प्रयोग होता है. इसके अलावा जन्म दिन, शादी की सालगिरह आदि के समय भी ताज़े फूल का प्रयोग कई तरह से किया जाता है. भारत में लगभग हर महीने किसी न किसी देवी देवताओं की पूजा अर्चना आदि होती रहती है, अतः भारत में फूल का व्यापार काफ़ी अच्छा चलने वाला व्यापार है. अपने दोस्तों को विभिन्न तरह के मौक़े पर फूलों के बुके भी दिये जाते है, जिसके लिए महंगे फूलों का इस्तेमाल होता है. अतः आप भी फूल की सहायता से अच्छा व्यापार कर सकते हैं.

फूलों की दूकान के रूप में व्यापार करने का तरीका (Flower Shop Business Ideas)

फूलों की सहायता से व्यापार निम्नलिखित तरह से किया जा सकता है.

  1. आप रंग बिरंगे फूलों को एक साथ बाँध कर गुलदस्ता बना सकते हैं और व्यापार कर सकते हैं. हालाँकि इसके लिए आपको फूलों को बाँधने की कला सीखनी पड़ती है.
  2. इस प्रक्रिया में कुछ समय लगता है, हालाँकि यदि आप एक बार फूल बांधना सीख गये, तो इसके बाद आपको विभिन्न तरह के डिजाईन के साथ भी गुलदस्ता बनाना आ जाएगा. डिजाईन जितनी बेहतर होगी गुलदस्ता उतनी अधिक क़ीमत पर बेचा जा सकेगा.
  3. आप चाहें तो दिन के हिसाब से फूल का व्यापार भी सरलता से कर सकते है. इसके लिए आपको दिनों का ध्यान रखना पडेगा. मंगलवार से पहले जावा फूल, वृहस्पतिवार के लिए गेंदा फूल आदि बड़ी सरलता से बिक जाते हैं. अतः ऐसे फूल का व्यापार किया जा सकता है.
  4. शादी विवाह अथवा अन्य अनुष्ठानों का आर्डर लेकर भी फूलों का व्यापार किया जा सकता है. ऐसे अनुष्ठानों में अच्छी सजावट की ज़रुरत होती है और अच्छी सजावट के लिए आपको विभिन्न तरह के फूलों की आवश्यकता होती है. इन स्थानों पर सजावट का आर्डर लेकर आप आसानी से फूल बेच सकेंगे और साथ ही आपको सजाने के लिए अलग से पैसे प्राप्त होंगे.
  5. आप चाहें तो किसी डेकोरेशन सिखाने वाले स्थान से इसकी ट्रेनिंग भी ले सकते हैं.
  6. व्यापार करते समय सदा ताज़े फूलों का ही प्रयोग करें और मार्केट से केवल उतने ही फूल उठायें, जितना आप बेच सकें वरना बासी फूल के कारण आपको नुकसान हो सकता है.

flower shop business

फूलों की दूकान की सहायता से व्यापार कैसे करें (How to Start a Flower Shop Business in hindi)

फूलों का व्यापार का आरम्भ करते समय निम्नलिखित बातों का ध्यान रखें.

  1. सबसे पहले आपको अपने क्षेत्र के बेहतर फूल सप्लायर और बड़े स्तर के माली से बात करने की आवश्यकता होती है.
  2. आपको इन लोगों से व्यापार के लिए अच्छे क़िस्म के फूल प्राप्त करने होंगे.
  3. इसके बाद आपको उन स्थानों में बात करनी होती हैं, जहाँ पर आप अपने फूलों का व्यापार कर सकें.

फूलों की दूकान के लिए स्थान का चयन (Flower Shop Required Place)

फूलों का व्यापार करने के लिए आवश्यक स्थान का चयन अनिवार्य है. आप यह व्यापार वैसे तो घर से आरम्भ कर सकते हैं, किन्तु यदि कम समय में अधिक लाभ प्राप्त करना हो, तो आपको घर के बाहर भी अपना व्यापार ले जाना होगा. धार्मिक स्थलों के बाहर फूलों का व्यापार सबसे अधिक होता है. आप,चाहें तो यह व्यापार शहर के किसी भी स्थान से कर सकते हैं.

फूलों की दूकान के व्यापार की कुल लागत (Flower Shop Business Cost)

इस व्यापार को आरम्भ करने के लिए न्यूनतम 15,000 से 20,000 रुपये की आवश्यकता होती है. आप चाहें तो यह व्यापर बड़े पैमाने पर भी कर सकते हैं. आप यदि फ्लावर सेलिंग के लिए शोरूम खोलना चाहते हैं, तो लागत 2 से 3 लाख रूपए तक की भी जा सकती है, जिसके अंतर्गत आप फर्नीचर, इंटीरियर आदि के हल्के फुल्के काम करा सकते हैं. हालाँकि एक साधारण स्थान से यह व्यापार अधिकतम 20,000 रूपए तक में शुरू हो जाता है.

फूलों की दूकान के व्यापार में लाभ (Flower Shop Business Benefits)

इस व्यापार में लाभ बहुत ही जल्दी प्राप्त होता है. आप फूल मंडी से थोक के भाव में फूल खरीद कर उससे बुके, माला आदि बना कर बेचे, तो आप को दुगना- तिगुना लाभ होता है. यदि आप खुदरे फूल पर 1000 रूपए खर्च करते हैं, तो आपको उन फूलों से माला आदि बना कर बेचने पर 2500 से 3000 तक का लाभ प्राप्त होता है. अतः आपका व्यापार जितना अधिक चलेगा उतना अधिक मुनाफा आपको प्राप्त होगा.

फूलों की दूकान के व्यापार की मार्केटिंग (Flower Shop Business Marketing Ideas)

आप अपने फूलों का व्यापार मंदिर के बाहर के दुकानों, बूके स्टाल, डेकोरेटर आदि के साथ मिलकर कर सकते हैं. आप चाहें तो एक होलसेलर के रूप में इन दुकानों और डेकोरेटर को अपना फूल दे कर व्यापार कर सकते हैं. आप अपने फूल व्यापार को एक वेबसाइट बना कर भी प्रमोट कर सकते हैं. आप इस वेबसाइट में अपने सबहीं तरह के बूके, खुदरे फूल, विभिन्न तरह के मालाओं के डिजाईन अपडेट करके ग्राहकों का दिल जीत सकते हैं.

फूलों की पैकेजिंग (Flowers Packaging)

अपने द्वारा बनाए गये बूके अथवा मालाओं को अथवा दिन के अनुसार फूल भी बेचते हुए आपको पैकेजिंग का ध्यान रखना अतिअवाश्यक है. आपको पैकेजिंग के समय ध्यान रखना होगा कि माला अथवा बूके कहीं से टूट न जाए. आप चाहें तो पैकेजिंग के लिए थोड़े बड़े प्लास्टिक का प्रयोग कर सकते हैं. इससे आपके बूके की सुन्दरता पर किसी तरह का फ़र्क नहीं पड़ता है.

फूलों के व्यापार में ध्यान रखने योग्य बातें (Flowers Business Precautions)

आप इस व्यापार को आरम्भ करने से पहले इस बात की पुष्टि कर लें कि आपको किसी भी तरह के फूल के सुगंध से एलर्जी न हो, क्योंकि कईं लोगों को विभिन्न तरह के फूलों से एलर्जी होती है. अतः यदि आपको फूलों के सुगंध से किसी तरह की परेशानी हो, तो यह व्यापार आरम्भ करने से पहले सोच लें.

अन्य पढ़ें –

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *