Thursday , April 19 2018
अन्य व्यापार

जिम या फिटनेस सेंटर बिजनेस आईडिया | Gym Business Ideas Or Fitness Center Business Plan in hindi

जिम बिजनेस आईडिया / फिटनेस सेंटर बिजनेस प्लान | Gym Business Ideas Or Fitness Center Business Plan in hindi

आज के समय में लाइफ स्टाइल और हेक्टिक शेड्यूल के चलते जिम जरुरत बढती जा रही है. यही वह जगह है जहाँ इंसान अपने दिन के कुछ घंटे गुजारकर दिनभर फ्रेश महसूस कर सकता है. आज के समय में हर कोई फिट दिखना और रहना चाहता है इसके लिए उसे अपनी लाइफ स्टाइल मेंटेन करने और स्वास्थय रहने की बहुत जरुरत है. देखने में आ रहा है कि जनसंख्या वृध्दि के साथ साथ लाइफ स्टाइल बीमारिया जैसे शुगर, ब्लड प्रेशर, आदि भी बढती जा रही है. प्राप्त आंकड़ो के अनुसार आजकल लगभग 10 से 15 प्रतिशत लोग सीरियस शुगर की बीमारी से झुंझ रहें है और लगभग 30 से 35 प्रतिशत लोग ब्लड प्रेशर, हार्ट प्रॉब्लम, कोलेस्ट्रोल और हाइपरटेंशन जैसी बीमारियों से झुंझ रहें है. इन सबके अलावा मोटापा आजकल की सबसे गंभीर समस्या है जिससे हर कोई ग्रस्त है. इसलिए इन सब चीजों को देखते हुए जिम की बहुत अधिक जरुरत महसूस होती है और इसिलिये जिम के बिजनेस में बहुत स्कोप भी है. अगर आप भी जिम या फिटनेस सेंटर चालू करने का सोच रहें है तो यह अच्छा आईडिया है जिसमे आप सफलता हासिल कर सकते है.

जिम या फिटनेस सेंटर बिजनेस

भारत में जिम का लाइसेंस कैसे प्राप्त करे (Getting your Gym License in India in hindi)

अपना जिम लाइसेंस प्राप्त करने के लिए या अपना जिम भारत में स्थापित करने के लिए आपको पुलिस एनओसी की जरुरत होती है. यह हर उस व्यक्ति के लिए आवश्यक है जो भारत में अपना जिम या फिटनेस सेंटर स्थापित करना चाहता है. इसे आप पर्सनली या ऑनलाइन दोनों तरीके से अप्लाई कर सकते है. यदि आप किसी छोटे शहर में रहते है तो आपके लिए दौड़ भाग करना संभव है परंतु यदि आप किसी बड़ी सिटी में रहते है तो पर्सनल जाकर दौड़ भाग करने से अच्छा होगा, कि आप यह प्रक्रिया ऑनलाइन करे. आप अपने यहाँ के लोकल पुलिस विभाग में जाकर इसके बारे में और अधिक जानकारी प्राप्त कर सकते है.

भारत में एक जिम को रजिस्टर कैसे करे? (How to Register a Gym in India?)

यदि आप जिम की शुरुआत करना चाहते है तो आपको सबसे पहले उसके लिए एक अच्छी सी जगह सुनिश्चित करनी होगी. आपको इन सबसे पहले इसमे लगने वाली लागत का कैलकुलेशन कर लेना चाहिये, जब आप यह सुनिश्चित कर ले तभी आगे की प्लानिंग करे. भारतीय सरकार आपको जिम का रजिस्ट्रेशन लिमिटेड या प्राइवेट लिमिटेड फर्म के रूप में ही प्रदान करती है. यह आपको प्रमोटरो से सुरक्षा और ट्रांसफर एबिलिटी प्रदान करता है. जब आपके पास ट्रांसफर एबिलिटी होती है, तो आपके पास जिम के ठीक से ना चलने की स्थिति में उसे किसी और को बेचने का अधिकार भी होता है.

एसएसआई रजिस्ट्रेशन (SSI Registration)

आपको अपने जिम का रजिस्ट्रेशन भारत में स्माल स्केल इंडस्ट्री के अंतर्गत अपनी नजदीकी तालुका में करवाना होता है. यह आपको भविष्य में आपके लाइसेंस और अन्य स्तर की सुरक्षा प्रदान करता है.

रजिस्ट्रेशन कि प्रक्रिया (Registration Process)

  • जिम औद्योगिक इकइयों के अंतर्गत शामिल नहीं है, इसलिए शुरुआत में आपको इसके रजिस्ट्रेशन के लिए प्रोविसनल बेसिस पर अप्लाई करना होता है. जब आपके द्वारा इसके लिए आवेदन की प्रक्रिया की जाती है तो आपको सरकार की तरफ से अस्थाई प्रोविसनल सर्टिफिकेट प्रदान किया जाता है.
  • जब आपका जिम शुरू हो जाता है और बिजनेस सेट हो जाता है तो आप इसके लिए स्थाई लाइसेंस के लिए अप्लाई कर सकते है.

जब आप स्थाई लाइसेंस के लिए अप्लाई करते है तो आपको निम्न बिंदुओ का ध्यान रखना चाहिये (Incase of applying for permanent registration you may have to consider following points.)

  • आपको एनओसी (NOC) सहित अन्य मंजूरिया मिल गयी हो, तभी आप स्थाई लाइसेंस प्राप्त करने के योग्य होते है. स्थाई लाइसेंस के लिए अप्लाई करने से पूर्व आपको स्थानीय लेवल पर सभी फॉर्मेलिटी पुरी कर लेनी चाहिये.
  • आपको अपने जिम के सभी उपकरणों और जगह के लिए किये गये निवेश के साथ साथ अन्य सभी निवेशो का भी विवरण देना होगा.
  • अगर आपके जिम के द्वारा वार्षिक टर्नओवर 9 लाख से अधिक हो, तो आपको सर्विस टैक्स के लिए अप्लाई करना अनिवार्य होगा.

फ्रेंचाइजी जिम कैसे खोले (How to open a Franchisee Gym?)

फ्रेंचाइजी जिम की शुरुआत करने से पहले आपको जिम के टाइप और फोर्मेट पर विचार करना होगा. भारत में जिम के लिए मुख्यतः दो तरह की श्रेणिया उपलब्ध है.

  • वेट लिफ्टिंग, जिम और कार्डियो उपकरणों वाला जिम : यह एक प्रचलित जिम का प्रकार है इसमे वेट लिफ्टिंग, कार्डियो और जिम के लिए उपकरण मौजूद होते है जिसके द्वारा जिमिंग करवाई जाती है. इसमे वजन कम करना, लडको के लिए बॉडी बनाना आदि ट्रेनिंग दी जाती है. इसके लिए प्रशिक्षक को इन सब चीजों और मशीनो का ज्ञान और समझ होना बहुत ही आवश्यक है.
  • फिटनेस सेंटर : यह जिम का थोड़ा एक्सपेंसिव प्रकार है, इसमे वजन बढ़ाना, घटाना और हेल्दी जीवन जीने से संबंधित प्रशिक्षण दिया जाता है. इस प्रकार के जिम में एरोबिक्स, योगा, विभिन्न तरीके के आसन, मार्शल आर्ट आदि को शामिल किया जाता है. इसलिए यह आवश्यक है की प्रशिक्षक के पास भी इन सभी चीजों का अच्छा ज्ञान हो.

यह पुर्णतः आप पर और आपकी लोकेशन पर निर्भर करता है की आप किस तरह का जिम शुरू करना चाहते है. परंतु किसी भी तरह का जिम शुरू करने से पूर्व आपको उसका पूर्ण ज्ञान होना आवश्यक है. याद रखिये किसी भी तरह के जिम को शुरू करने के लिए जो निवेश होता है वह रकम बहुत बड़ी होती है इसलिए किसी भी निर्णय पर पहुंचने से पहले पूर्णत विचार कर लेना आवश्यक है.

जिम सेट करने की प्रक्रिया (Process for set)

  • जिम या फिटनेस सेंटर एक ऐसा उद्योग है जिसमे आपको बड़े निवेश की आवश्यक्ता होती है. इसलिए इसके लिए आवश्यक है की आप अपने बिजनेस सेंटर से संबंधित प्लान पहले ठीक से तैयार करले और इस क्षेत्र में किसी वरिष्ठ व्यक्ति से सलाह और अन्य डिस्कशन कर ले.
  • जब आपका प्लान ठीक तरह से तैयार हो जाता है तो आपका अगला काम यह होता है की आप अपने लगने वाले निवेश की संपूर्ण सूचि बना कर तैयार कर ले. इससे आपको आईडिया हो जायेगा कि आपको कितने पैसो का प्रबंध करना है.
  • अब आपको अपने जिम या फ्रेंचाइजी के लिए लगने वाले सभी लाइसेंसो की कार्यवाही कर लेनी चाहिये. और इसी के साथ लोकल रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया भी कर लेनी चाहिये.
  • इसके बाद आपको अपने जिम में लगने वाले सभी उपकरणों की जानकारी और कीमत हासिल कर लेनी चाहिये. कुछ कंपनी के द्वारा उपकरणों की ट्रेनिंग और अन्य उपकरणों के लिए डिपाजिट की मांग की जाती है इसलिए यह जरुरी है की आपको इसकी जानकारी पूर्व से ही हो.
  • अगर आप अपने बिजनेस के लिए लोन चाहते है तो यह आवश्यक है कि आप विभिन्न बैंको में जाकर इससे संबंधित जानकारी लेले और इसके लिए आवेदन कर दे. आजकल सरकार के द्वारा भी कई तरह की योजनाएं चलाई जा रही है जिसके द्वारा आप अपने न्यू स्टार्टअप के लिए कम कीमत पर लोन ले सकते है. अगर आप चाहते है तो आप इसके संबंध में भी जानकारी हासिल कर इसे प्राप्त कर सकते है.

इन सब चीजों के प्रबंध के बाद आप अपना बिजनेस स्टार्ट तो कर सकते है, परंतु अब भी इसके संचालन के लिए आपको बहुत मेहनत और लगन की आवश्यक्ता होगी. तब ही आप अपने उद्देश्य में कामयाब हो सकते है.

बिना पैसे के जिम की शुरुआत कैसे करे (How to start a Gym Business with no money)

वैसे तो बिना पैसे के किसी भी बिजनेस के शुरुआत संभव नहीं है, परंतु फिर भी हम यहाँ कुछ ऐसे तरीके बता रहें है जिससे आप अपना स्वयं का जिम बिना पैसे के स्टार्ट कर सकते है.

  • अगर आपके पास पैसो की कमी है और आपके पास इन सब चीजों का अच्छा ज्ञान और अनुभव है तो आप किसी जिम या फिटनेस सेंटर में कुछ जगह रेंट पर ले सकते है और अपना काम कर सकते है. इसके अलावा आप लोगों को उनके घर जाकर भी जिम के ट्रेनिंग उपलब्ध करवा सकते है.
  • अगर आप इसी फील्ड में काम करना चाहते है तो आप किसी अच्छे और प्रसिध्द जिम या फिटनेस सेंटर में ट्रेनी की नौकरी भी कर सकते है.
  • इन सब के अलावा आप बिना किसी आधुनिक उपकरणों के अपने घर में बहुत ही छोटे लेवल पर अपना स्वयं का फिटनेस सेंटर शुरू कर सकते है. यहाँ पर आप अपने स्टूडेंट को योगा, विभिन्न आसन और एरोबिक्स और विभिन्न डांस फॉर्म के साथ ट्रेनिंग दे सकते है.
  • अगर आप चाहे तो शुरुआत में अलग अलग कॉलोनी के गार्डन में सुबह अपनी क्लास ले सकते है, जिसमे आप हर वर्ग के लोगो को योग का प्रशिक्षण दे सकते है. योग ही वह प्रारंभिक साधन है जिसके द्वारा हमारे पूर्वज फिट और स्वास्थ्य रहते थे आज भी यह बहुत प्रचलन में है जिसका उपयोग आप कर सकते है, परंतु इसके लिए आवश्यक है की आपको इसका पुरा और सही ज्ञान प्राप्त हो.

जिम उपकरणों की लिस्ट और कीमत (Gym Equipment list and prices ):

जिम के लिए जो सबसे महत्वपूर्ण चीज है वह है इसमे काम आने वाले उपकरण. आप इन उपकरणों के बारे में ऑनलाइन नेट पर घर बैठे जानकारी प्राप्त कर सकते है. हम यहाँ कुछ अच्छे ऑनलाइन जिम उपकरणों के सप्लायर्स की जानकारी आपको दे रहें है, जिसमे उपकरण की लिस्ट और प्राइस शामिल है .

कुल निवेश (Total Investment)

आपके बिजनेस का कुल निवेश आपके बिजनेस के साइज़ और लेवल पर आधारित है. नीचे पॉइंट में हम आपको आपके लगने वाले निवेश का कुछ अनुमान दे रहें है जो आपकी प्लानिंग में काम आयेंगे .

  • अगर आपका बिजनेस साइज़ मध्यम है और आप इसे लगभग 2500 से 3000 स्क्वायर फीट के एरिया में चालू करना चाहते है, तो हमारे हिसाब से आपको लगभग 70 से 80 लाख रुपय तक अपने बिजनेस में इनवेस्ट करना पड़ेगा. इन रुपयो में आपके सभी खर्चे जैसे जगह का इंटीरियर्स, उपकरणों का खर्च, मार्केटिंग और विज्ञापन का खर्चा आदि शामिल है.
  • अगर आप इससे बड़े लेवल पर बिजनेस स्टार्ट करना चाहते है और आपकी जगह का साइज़ 3000 से 3500 स्क्वायर फीट है तो आपका निवेश भी बढ़ जाता है. आपको इसके लिए लगभग 80 से 90 लाख तक खर्च करना होगा. इसमे इंटीरियर, उपकरणों का खर्च और मार्केटिंग विज्ञापन का खर्चा शामिल होगा.
  • अगर आप इससे भी बड़ी जगह लगभग 3500 से 4000 स्क्वायर फीट में शुरुआत करना चाहते है तो आपका खर्चा बड़कर लगभग 1 करोड़ तक हो जायेगा.

प्रॉफिट मार्जिन (Profit Margin)

जिम का प्रॉफिट उस लोकैलिटी पर निर्भर करता है जहाँ आपने जिम की शुरुआत की है. यह आपके जिम के कस्टमर्स की संख्या और उनकी फीस पर भी निर्भर करता है. हमारे हिसाब से यदि आप अपने जिम में 70 से 80 लाख का निवेश करते है तो आप सालाना इसमे लगभग  15 से 20 लाख की कमाई कर सकते है.

मार्केटिंग स्ट्रेटेजी (Marketing strategy)

किसी भी बिजनेस के लिए मार्केटिंग सबसे जरूरी चीज है इसके बिना आपके बिजनेस का डेवलपमेंट मुश्किल हो जाता है. नीचे कुछ पॉइंट में हम आपको मार्केटिंग के कुछ तरीके बता रहें है जो आपके काम आयेंगे .

  • किसी भी जिम या फिटनेस सेंटर की मार्केटिंग के लिए सबसे प्रचलित तरीका है – विभिन्न ऑफर. आप अपने रेगुलर कस्टमर को सालाना पैकेज देकर या न्यू कस्टमर को कुछ आकर्षक स्कीम देकर आकर्षित कर सकते है.
  • इसके अलावा आप अपने लोकल न्यूज़ चैनल पर विज्ञापन देकर या पंपलेट बाटकर भी अपने सेंटर का प्रमोशन कर सकते है. आप विभिन्न आकर्षक होर्डिंग्स के द्वारा भी अपना प्रमोशन कर सकते है.
  • आप चाहे तो विभिन्न कॉलेजों में भी अपना प्रमोशन कर सकते है. फिटनेस सेंटर के लिए प्रमोशन के सबसे अच्छी जगह है हॉस्पिटल आप यहाँ जाकर विभिन्न मरीजो को फिटनेस के फायदे बताकर अपने सेंटर का प्रमोशन कर सकते है.
  • इसके अलावा आप अपने जिम में अतिरिक्त सुविधा जैसे स्टीम बाथ, डाइटिशियन फेसिलिटी आदि देकर भी अपना प्रमोशन कर सकते है.

जिम बिजनेस के लिए मार्केटिंग एरिया (Market area For Gym Business)

  • आपके टारगेट कस्टमर कॉर्पोरेट सेक्टर से हो सकते है, जो अपनी व्यस्त दिनचर्या से अलग कुछ समय एक्सरसाइज के लिए रखना चाहते है.
  • आप कॉर्पोरेट से संबंधित व्यक्तियों और बिज़नेसमेन के अलावा हाउस वाइफ और जेंट्स को भी अपने जिम में आने के लिए आकर्षित कर सकते है.
  • आप इस सबके अलावा खिलाडियो और ऐसे युवाओं को भी अपने जिम में प्रशिक्षण के लिए आमंत्रित कर सकते है जो विभिन्न एग्जाम की तैयारी कर रहें हो और फिटनेस का प्रशिक्षण चाहते हो.

एतिहात (Precaution)

एतिहात वह चीज है जो आपको हर व्यापार में बरतनी पड़ती है ताकि आप विभिन्न नुकसान और परेशानियों से बच सके. इस बिजनेस से संबंधित कुछ बातें हम आपको बता रहें है जिसका ध्यान आपको रखना चाहिये.

  • आपको सर्वप्रथम अपने बिजनेस का प्लान पूर्ण रूप से तैयार कर लेना चाहिये, ताकि आपको आने वाली परेशानियों का अंदाजा पहले से हो जाये. क्योंकि इस बिजनेस में निवेश की रकम बहुत ज्यादा है, इसलिए आपको इन्शोरेंस और सरकारी योजनाओं की जानकारी पहले ही ले लेनी चाहिये, ताकि आपको अगर किसी तरह का लाभ मिल सकता हो तो आप उससे वंचित ना रह जाए.
  • इसके अलावा आपको अपने सेंटर में आने वाले व्यक्तियों से उनका हेल्थ सर्टिफिकेट पहले ही जमा करवा लेना चाहिये ताकि आप उनकी हेल्थ के हिसाब से उन्हें जिमिंग और अन्य गतिविधिया करवा पाये. इसके अलावा एतिहात के तौर पर आपको उनसे अपने बनाये हुए कांट्रेक्ट जिसमे सभी बाते सुनिश्चित हो उसपर भी साइन करवा लेना चाहिये.
  • आपको ध्यान रखना चाहिये की आपके जिम में प्रशिक्षण देने वाले सभी व्यक्ति ट्रेन हो साथ ही साथ आपको व्यक्तिगत तौर पर भी सभी कस्टमर का ध्यान भी रखना चाहिये की उनकी ट्रेनिंग सही हो रही या नहीं.

अन्य नए व्यापार शुरू करने के बारे में पढ़े:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *