Tuesday , June 19 2018
अन्य व्यापार

कैसे खोलें मैकडॉनल्ड्स फ्रेंचाइजी बिजनेस | How to Open a McDonald’s Franchise In India in Hindi

कैसे खोलें मैकडॉनल्ड्स फ्रेंचाइजी बिजनेस | How to Open a McDonald’s Franchise, What is cost and profit in India In Hindi

फ्रेंचाइजी खोलकर कोई भी आसानी से पैसे कमा सकता है. फ्रेंचाइजी भी एक तरह का व्यापार है, जिससे आप अच्छा खास मुनाफा कमा सकते हैं. वहीं दुनिया में ऐसी कई सारी कंपनी मौजूद हैं, जिनकी आप फ्रेंचाइजी ले सकते हैं. इन्हीं कंपनी की सूची में मैकडॉनल्ड्स कंपनी एक हैं. दुनिया में इस वक्त मैकडॉनल्ड्स को सबसे बड़ी रेस्टोरेंट श्रृंखला का दर्जा प्राप्त है. इतना ही नहीं इस वक्त दुनिया में इसके हजारों की संख्या में विक्री केन्द्र (आउटलेट) मौजूद हैं. ऐसे में अगर आप मैकडॉनल्ड्स की फ्रेंचाइजी लेने की सोच रहे हैं, तो आपके लिए ये फायदमेंद हो सकता है. वहीं हमारे इस लेख के जरिए आपको मैकडॉनल्ड्स की फ्रेंचाइजी से जुड़ी काफी फायदेमंद और मददगार चीजों के बारे में जानकारी मिल सकेगी. आज हम अपने इस लेख में आपको बताने वाले हैं कि आप किस तरह से मैकडॉनल्ड्स की फ्रेंचाइजी खोल सकते हैं.

क्या होती है फ्रेंचाइजी (What Is Franchise)

किसी भी कंपनी की फ्रेंचाइजी लेने से पहले आपको ये पता होना जरूरी है कि फ्रेंचाइजी के जरिए किस तरह से धन कमाया जा सकता है और फ्रेंचाइजी क्या होती है. दरअसल जब आप किसी कंपनी की फ्रेंचाइजी लेते है, तो आप उस कंपनी के नाम का इस्तेमाल कर उसकी शाखा खोल सकते हैं. ऐसा करने के लिए आपको उस कंपनी को कुछ शुल्क देना होता है. जिसके बाद आप उस कंपनी का सामान या उत्पाद बेच सकते हैं.

McDonald Franchise

मैकडॉनल्ड्स कंपनी का इतिहास (History Of McDonald)

मैकडॉनल्ड्स की स्थापना सन् 1940 में की गई थी और इसके स्थापक रिचर्ड और मौरिस मैकडोनाल्ड थे. वहीं साल 1955 में रे क्राक ने एक फ्रेंचाइजी एजेंट के रूप में कंपनी में शामिल होकर, मैकडॉनल्ड भाइयों से इसकी श्रृंखला खरीदना शुरू कर दिया था और इसके मालिक बन गए थे.

मैकडॉनल्ड्स का मुख्यालय हाल ही में शिकागो में स्थानांतरित करने का कार्य चल रहा है. उम्मीद की जा रही है की साल 2018 तक ये कार्य पूरा कर दिया जाएगा. वहीं मैकडॉनल्ड्स ने साल 1955 से अपनी फ्रेंचाइजी लोगों को बेचना शुरू किया था.

मैकडॉनल्ड्स द्वारा बेचे जाने वाले उत्पाद– (Mcdonald’s best selling product)

मैकडॉनल्ड्स द्वारा बेचे जाने वाले उत्पादों को सूची में शाकाहारी बर्गर, चिकन बर्गर, फ्रेंच फ्राइज, स्फॉट ड्रिंग, मिल्क शेक, सलाद, डेसर्ट, कॉफी जैसी चीजे शामिल है. वहीं इनके द्वारा बेचे जाने वाले फ्रेंच फ्राइज लोगों को खास पसंद आते हैं.

मैकडॉनल्ड्स से जुड़ी महत्वपूर्ण तथ्य  (facts about Mcdonald’s company)

  • मैकडॉनल्ड्स की शखाएं करीब 119 देशों में पाई जाती है. यानी अगर आप किसी अन्य देश में जाते हैं, तो वहां आपको जरूर मैकडॉनल्ड्स दिखेगा. इससे आप अंदाजा लगा सकते हैं कि मैकडॉनल्ड्स के व्यापार का जाल पूरी दुनिया में फैला हुआ है.
  • आकड़ों के मुताबिक मैकडॉनल्ड्स द्वारा बेचने जाने वाले खाने का सेवन हर रोज करीब 55 मिलियन ग्राहकों द्वारा किया जाता है. ये संख्या बहुत तेजी से बढ़ रही है.
  • मैकडॉनल्ड्स के इस वक्त पूरे विश्व में करीब 36,900 आउटलेट मौजूद हैं और इतना ही नहीं इसके साथ मैकडॉनल्ड्स करीब एक मिलियन से अधिक लोगों को रोजगार मुहैया करवाता है.
  • मैकडॉनल्ड्स के द्वारा खोले गए सभी रेस्टोरेंट एक जैसे होते हैं. वहीं इसके कई रेस्टोरेंट में अंदर और बाहर बैठने की सुविधा भी इसके ग्राहकों को दी जाती हैं.
  • जहां आप किसी दूसरी कंपनी की फ्रेंचाइजी लेते है, तो आपको खुद किसी स्थान को पसंद करना होता है. वहीं मैकडॉनल्ड्स कंपनी का नियम एकदम अलग है. मैकडॉनल्ड्स अचल संपत्ति (Real estate) का भी कारोबार करता है. अगर कोई मैकडॉनल्ड्स की फ्रेंचाइजी लेना चाहते हैं, तो वो मैकडॉनल्ड्स द्वारा खरीदी जगह पर अपनी फ्रेंचाइजी खोल सकता है. वहीं मैकडॉनल्ड्स एक मकान मालिक की तरह उस जगह का किराया वसूलता है.

कैसे लें मैकडॉनल्ड्स की फ्रेंचाइजी (Process Of Open a McDonald’s Franchise)

मैकडॉनल्ड्स की फ्रेंचाइजी लेने के लिए सबसे पहले आपको इसकी फ्रेंचाइजी से जुड़े महत्वपूर्ण दस्तावेज यानी फ्रेंचाइजी डिस्क्लोजर दस्तावेज (एफडीडी) को अच्छे से पढ़ने की जरूरत है. इन दस्तावेजों में इसकी फ्रेंचाइजी लेने से जुड़ी शर्तों और इसमें किस तरह आपको मुनाफा दिया जाएगा. इसके बारे में जानकारी दी होगी. अगर आप चाहे तो किसी वकील की मदद ले सकते हैं, जो कि आपको अच्छे से फ्रेंचाइजी डिस्क्लोजर दस्तावेज के बारे में जानकारी दे देगा. फ्रेंचाइजी डिस्क्लोजर दस्तावेज में फ्रेंचाइजी लेने से जुड़े समझौते को विस्तार में बताया गया है.

कहां से ले फ्रेंचाइजी डिस्क्लोजर दस्तावेज (mcdonald’s franchise disclosure document)

मैकडॉनल्ड्स के एफडीडी को आप ऑनलाइन, क्रेडिट कार्ड का उपयोग करके खरीद सकते हैं. या फिर आपको आसानी से गूगल में इससे जुड़ी एक मुफ्त पीडीएफ मिल जाएगी.  इस पीडीएफ को डाउनलोड करके आप इसे घर पर बैठकर आसानी से पढ़ सकते हैं और इसकी फ्रेंचाइजी को खोलने से जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी को आसानी से हासिल कर सकते हैं.

फ्रेंचाइजी प्राप्त करने की प्रक्रिया (mcdonald franchise procedure)

अगर आपको लगता है कि आपके पास इसकी फ्रेंचाइजी लेने के लिए धन और अनुभव है, तो आप फ्रेंचाइजी लेने के लिए आवेदन कर सकते हैं. वहीं आवेदन फार्म में आपको नाम, पता, फोन नंबर, जन्म तिथि और ई-मेल पता जैसी बुनियादी जानकारी भरनी होगी.

आपके प्रारंभिक आवेदन स्वीकार किए जाने के बाद, आपका एक फोन साक्षात्कार और एक परीक्षा होगी. वहीं इन दोनों परीक्षा को पास करने के बाद आपको मैकडॉनल्ड्स के रेस्टोरेंट में कुछ दिन बिताने होंगे. इस दौरान इनके काम करने का तरीका आपको बताया जाएगा. वहीं अंत में एक पैनल आपका इंटरव्यू लेगा और अगर आप उस इंटरव्यू को पास कर देते हैं, तो आपको इसकी फ्रेंचाइजी मिल जाएगी. इस इंटरव्यू में आप से कंपनी को किस तरह से चलाते हैं और मैकडॉनल्ड्स में कुछ दिन काम करके आपने क्या सीखा ये सब पता किया जाएगा.

मैकडॉनल्ड्स की फ्रेंचाइजी खोलने में आने वाला खर्चा (Mcdonalds franchise cost in India in rupees in hindi)

मैकडॉनल्ड्स की फ्रेंचाइजी को लेने के लिए आपको 6 से 8 करोड़ रुपए की जरूरत पड़ती है. जिसमें से फ्रेंचाइजी शुल्क 30 लाख रुपए का है. वहीं अगर आपके पास इतना धन नहीं है तो आप किसी बैंक से लोन ले सकते हैं. लोन लेने के लिए आपको बैंक को किसी जमीन के कागजात दिखाने पड़ेंगे. और इन्हीं कागजात को आपको बैंक में गिरवी रखना होगा.

भारत में कैसे लें फ्रेंचाइजी (How to get mcdonald franchise in India)

भारत में मैकडॉनल्ड्स कंपनी सीधे तौर पर अपनी फ्रेंचाइजी नहीं देती है. इसकी फ्रेंचाइजी भारत में देने का काम केवल दो कंपनियों के पास हैं. जिसमें से पहली कंपनी का नाम हार्डकैसल रेस्टोरेंट प्राइवेट है और इसके वाइस चेयरमैन अमित जाटिया है. वहीं दूसरी कंपनी का नाम विक्रम बख्शी कनॉट प्लाजा रेस्टोरेंट प्राइवेट लिमिटेड है. अगर आप पश्चिम और दक्षिण भारत में मैकडॉनल्ड्स की फ्रेंचाइजी लेना चाहते हैं तो आपको हार्डकैसल रेस्टोरेंट प्राइवेट कंपनी से संपर्क करना होगा. वहीं अगर आप उत्तर और पूर्वी भारत में फ्रेंचाइजी खोलना चाहते हैं तो आपको विक्रम बख्शी कनॉट प्लाजा रेस्टोरेंट प्राइवेट लिमिटेड कंपनी से संपर्क करना होगा. वहीं से इसकी फ्रेंचाइजी बीस साल के लिए दी जाती है.

चार तरह की लोकेशन पर खोल सकते हैं, रेस्टोरेंट (How does Mcdonalds choose their locations)

मैकडॉनल्ड्स रेस्टोरेंट की फ्रेंचाइजी चार तरह की होती है. जिनके बारे में नीचे आपको जानकारी दी गई है. वहीं नीचें दी गई जानकारी को पढ़कर आपको पता चल जाएगी की आप किस तरह की फ्रेंचाइजी ले सकते हैं.

  • ट्रेडिशनल रेस्टोरेंट – इस तरह की लोकेशन के अंदर फूड कोर्ट, फ्रीस्टैंडिंग भवन, स्टोर फ्रंट जैसी जगह आती है. ये फ्रेंचाइजी 20 वर्षों के लिए मिलती है. इस तरह की फ्रेंचाइजी में भी लोगों को दिए जाने वाले भोजन और सेवा की गुणवत्ता पर खासा ख्याल रखा जाता है.
  • सेटेलाइट लोकेशन – इस लोकेशन के अंतर्गत एयरपोर्ट, कॉलेज, हॉस्पिटल जैसे जगह आती है. यानी इन जगह पर जो फ्रेंचाइजी खुलती है, उन्हें सेटेलाइट लोकेशन फ्रेंचाइजी कहा जाता है. वहीं इन जगह पर गैर-मैकडॉनल्ड के ट्रेडमार्क वाले उत्पादों भी इन फ्रेंचाइजी में बेचे जा सकते हैं.
  • एसटीओ (STO) एंड एसटीएआर (STOR) लोकेशन –  छोटे शहरों में गाड़ी में तेल भरवाने के स्थान पर जो स्टोर खोले जाते हैं, वो इस लोकेशन के अंतर्गत आते हैं. वहीं आप लोगों ने भारत में ऐसी कई जगह देखी होंगी, जहां पर एक तरफ पेट्रोल पंप होता है और दूसरी तरह मैकडॉनल्ड का रेस्टोरेंट. वहीं एसटीओ और एसटीआर स्थानों के लिए फ्रेंचाइजी अवधि 10 साल की होती है. मतलब आप केवल 10 साल के लिए ही यहां पर अपने रेस्टोरेंट को खोल सकते हैं. अवधि खत्म होने पर आपको फिर से फ्रेंचाइजी लेने के लिए आवेदन करना होगा.
  • बिजनेस सुविधाएं लीज (बीएफएल) फ्रेंचाइजीज़: (Mcdonald’s business facility lease) – यह फ्रेंचाइजी लेने वालों को लीज में दी जाती है, जिसमें व्यापार सुविधाएं शामिल होती है. वहीं बीएफएल प्रकार की फ्रेंचाइजी तीन वर्षों के लिए दी जाती है.

जमीन से जुड़े विकल्प ( Information related to land)

मैकडॉनल्ड्स फ्रेंचाइजी खोलने के लिए जमीन लेने से जुड़े दो विकल्प मौजूद हैं. पहले विकल्प के अनुसार अगर आपके पास अपनी कोई जमीन है तो आप उस पर इसकी फ्रेंचाइजी शुरू कर सकते हैं. वहीं अगर आपके पास कोई जमीन नहीं है, तो ऑपरेटर लीज के तहत मैकडॉनल्ड्स फ्रेचांइजी को एक साल की लीज पर ले सकते हैं.

मौजूदा फ्रेंचाइजी खरीदने का विकल्प (Existing Mcdonalds franchise for sale)

आप चाहें तो पहले से चल रही किसी फ्रेंचाइजी को भी खरीद सकते हैं. ऐसा करने से आपको काफी फायदा होता है. इस तरह की फ्रेंचाइजी खरीदने से आपको ये थोड़ी सस्ती पड़ती है. वहीं अगर आपको पहले मौजूद इसकी कोई फ्रेंचाइजी नहीं मिल रही है, तो आप नए स्थान पर इसकी फ्रेंचाइजी खोल सकते हैं.

मैकडॉनल्ड्स कंपनी को देने वाला शुल्क और मुनाफा (McDonald’s Franchise Fees And Profit in India)

फ्रेंचाइजी की अवधि के दौरान मैकडॉनल्ड्स निम्नलिखित फीस अपने फ्रेंचाइजी खरीदने वालों से लेता है, नीचे इन्हीं फीस के बारे में आपको जानकारी दी गई है, जो कि इस प्रकार हैं.

  • सेवा शुल्क (Service Charge)– फ्रेंचाइजी लेने के बाद आपको मैकडॉनल्ड्स को मासिक शुल्क देना होता है. वर्तमान में मैकडॉनल्ड्स द्वारा उसके उत्पाद की ब्रिकी पर 4 प्रतिशत सेवा शुल्क लिया जाता है. वहीं 4 प्रतिशत शुल्क देने के बाद जो पैसे बचते हैं उसमें से आपका मुनाफा होता है.
  • किराया – मैकडॉनल्ड आमतौर पर संपत्ति का मालिक है और मकान मालिक के रूप में कार्य करता है. मासिक आधार पर ये आपसे किराया वसूलता है. इसलिए इसकी फ्रेंचाइजी लेने से पहले इसके दस्तावेजों को गौर से पढ़ लें, ताकि आगे जाकर आपको कोई दिक्कत ना हो.

कैसा होना चाहिए स्थान (Mcdonald’s location requirements)

मैकडॉनल्ड रेस्टोरेंट खोलने के लिए आपको कम से कम 50,000 वर्ग फुट जगह की जरूरत होती है. निर्माण के लिए कम से कम 4,000 वर्ग फुट उपलब्ध होना चाहिए. इसके अलावा आपका स्टोर दो प्रमुख सड़कों के पास होना चाहिए. साथ ही वहां पर पार्किंग की सुविधा अच्छी होनी चाहिए. इसके अलावा उस जगह के आसपास अच्छा माहौल होना जरूरी है.

मैकडॉनल्ड की फ्रेंचाइजी लेने से जुड़ी कुछ महत्वपूर्ण जानकारी (Important Information Related to Open a McDonald’s Franchise)-

  • कोई भी फ्रेंचाइजी लेने के बाद आपको परमिट के लिए आवेदन करना होता है. इसलिए अपने शहर में फ्रेंचाइजी खोलने के वक्त वहां के सरकारी स्थानीय दफ्तर से परमिट लेना ना भूलें. परमिट लेने के दौरान आपका थोड़ा खर्चा भी आता है. इसके अलावा आपको कुछ दस्तावेजों को भी वहां जमा करवाना होता है.
  • मैकडॉनल्ड द्वारा बताए गए विक्रेता से ही आपको सारा समान खरीदना होता है. क्योंकि मैकडॉनल्ड के हर रेस्टोरेंट में एक जैसा ही खाना बेचा जाता है. इसलिए कंपनी द्वारा बताए गए विक्रेता से ही आप संपर्क करें.
  • जो दूसरा सबसे महत्वपूर्ण कार्य है वो है कर्मचारियों की भर्ती करना. इस व्यापार को संचालन करने के लिए आपको रसोई श्रमिकों और काउंटर पर काम करने वाले कर्मचारियों को नौकरी पर रखना होगा और इन्हें ट्रेनिग दिलवानी होगी.

निष्कर्ष

हम उम्मीदे करते हैं ऊपर दी गई जानकारी आपके लिए मददगार साबित हो और आप अपनी फ्रेंचाइजी खोल सकें. इसके अलावा जिस कंपनी की आप फ्रेंचाइजी ले रहे हैं, उस कंपनी के नियमों और शर्तों के अच्छी तरह से समझ लें.

अन्य नए व्यापार शुरू करने के बारे में पढ़े:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *