बिज़नेस शुरू करने के लिए मुद्रा योजना से लोन कैसे पाए?

व्यापार या बिज़नेस शुरू करने के लिए मुद्रा लोन योजना, ऑनलाइन अप्लाई, सब्सिडी (Mudra Loan Yojana Interest Rate, Application, Documents, Online Apply, Scheme Form in Hindi)

सरकार के द्वारा लागू की गई नई योजना ‘मुद्रा लोन योजना’, सभी छोटे एवं सूक्ष्म व्यवसायों में लगे हुए व्यक्तियों को आर्थिक रूप से लोन देकर मदद करती है. मुद्रा बैंक लोन योजना की मदद से लोगों को अब किसी निजी व्यक्ति से ऊंची ब्याज दरों पर या फिर किसी और पर लोन के लिए निर्भर रहने की आवश्यकता नहीं है. चलिए अब हम मुद्रा लोन के बारे में विस्तार से जानते हैं और यह भी जानते हैं कि इसे कैसे प्राप्त किया जा सकता है और किस श्रेणी में लोन कितना दिया जाता है.

Mudra Loan

मुद्रा लोन क्या है ? (What is Mudra Loan)

माइक्रो – यूनिट्स डेवलपमेंट एंड रिफाइनेंस एजेंसी उन प्रमुख इकाईयों में से एक है, जिसके द्वारा सरकार से मुद्रा लोन योजना के तहत न्यूनतम रु 50,000 और अधिकतम रु 10,00,000, स्टार्ट-अप उद्यमों और छोटी व्यावसायिक इकाइयों को दिए जाते हैं. मुद्रा ने उधार देने वाले संस्थानों के अलावा क्षेत्रीय और राज्य स्तर के बैंकों, और सूक्ष्म वित्त संस्थानों (MFI) के साथ भागीदारी की है.

मुद्रा लोन के प्रकार (Mudra Loan Types)

मुद्रा लोन को लोन की कीमत, बिजनेस का प्रकार के हिसाब से तीन अलग – अलग श्रेणियों में विभाजित किया जा सकता है :-

  • शिशु श्रेणी :- इस श्रेणी में केवल लघु उद्योग वाले लोगों को ही लोन मिल सकता है. सरकार की योजना के अनुसार इस श्रेणी में लघु उद्योग वाले लोगों को 50,000 रुपए तक का लोन देने का प्रावधान है. यह श्रेणी उन लोगों के लिए है, जो कि अपना छोटे पैमाने पर उद्योग की शुरुआत करना चाहते हैं. लोन लेने वाले व्यक्ति को अपना आइडिया अर्थात् विचार उस समय बैंक में प्रस्तुत करना पड़ता है.
  • किशोर श्रेणी :- यह श्रेणी उन लोगों के लिए है, जिन्होंने अपना पहले से ही उद्योग लगा रखा है और अपने बिजनेस को एक एंटरप्राइज बनाना चाहते हैं. सरकार द्वारा इस योजना में किशोर श्रेणी में लोन की कीमत 50,000 रुपए न्यूनतम और 5,00,000 रुपए अधिकतम रखी गई है.
  • तरुण श्रेणी :- इस श्रेणी के अनुसार उन उद्योगों को लोन दिया जाता है, जो पहले से ही स्थापित हों और उन्हें विशाल स्तर पर कारोबार करना है. तरुण श्रेणी में लोन की कीमत सबसे अधिकतम है, क्योंकि इस श्रेणी में इस योजना में जो अधिकतम लोन की राशि निश्चित की गई है, यानि 10 लाख रूपये उतने तक का लोन इसमें दिया जाता है.

अतः हर बैंक का सभी चीजों में जैसे ब्याज दर आदि में अपना एक अलग क्राइटेरिया होता है, जिससे कि वो यह निर्धारित करता है, कि आपको लोन दिया जाए या नहीं.

मुद्रा लोन का मुख्य उद्देश्य (Mudra Loan Yojana Purpose)

मुद्रा लोन का मुख्य उद्देश्य छोटे और लघु स्तर पर काम करने वाले लोगों के लिए सस्ती ब्याज दरों पर लोन दिलवाना है, ताकि कृषि क्षेत्र पर से भार कम हो सके. मुद्रा लोन का यह भी उद्देश्य है, कि लोग किसी के अंदर काम करने वाले न बनकर काम देने वाले बनें.

मुद्रा लोन का प्रमुख कार्य (Mudra Loan Working Capital)

रोजगार के नए नए तरीके खोजने और बेरोजगारों को रोजगार देने के लिए मुद्रा लोन दुकानदारों, विक्रेताओं, परिवहन व छोटे उद्योग वालों को दिया जाता है.

  • दुकानदारों और विक्रेताओं के लिए मुद्रा लोन :- जो लोग कृषि में कार्यरत नहीं है और कृषि में नहीं जाना चाहते हैं, मुद्रा लोन उन लोगों को 50,000 रुपए तक का लोन देकर उनका एक नया व्यवसाय खुलवा सकता है. यह लोन उन्हें आसानी से मिल जाता है.
  • टेक्सटाइल उद्योग में मुद्रा लोन :- टेक्सटाइल में एक आधुनिक मशीन जैसे प्रोजेक्टाइल, एयरजेट की कीमत 30,00,000 रुपए से शुरुआत होती है, और इन्हें लगाना आसान नहीं है. परन्तु एक हैंडलूम की कीमत लगभग 5,00,000 रुपए है, तो वो इसे खरीद सकते हैं. और मुद्रा लोन की सहायता से अपने एक लघु उद्योग की शुरुआत कर सकते हैं.
  • कृषि में मुद्रा लोन :- अब कृषि में भी आधुनिक उपकरणों का इस्तेमाल होता है. कृषि में जो काम पहले 2 दिन में हुआ करता था, वो आज चंद घंटों में पूरा किया जा सकता है. मुद्रा लोन की सहायता से एक किसान नए उपकरणों को खरीद कर अपनी आमदनी बढ़ा सकता है.

मुद्रा लोन का लाभ एवं विशेषताएं (Mudra Loan Features and Benefits)

  • मुद्रा लोन के अंतर्गत कोई न्यूनतम ब्याज राशि नहीं है. कोई भी योग्य व्यक्ति 50,000 से लेकर 10,00,000 रुपए तक का लोन ले सकता है. उसके लिए उसे बैंक के द्वारा निर्धारित सभी शर्तों में सफल होना पड़ेगा.
  • शिशु श्रेणी में ऋण लेने के लिए आवेदक को संपत्ति का हिस्सा गिरवी रखने की आवश्यकता नहीं है. इसकी वजह से जिन लोगों के मन में अपनी जमीन को गिरवी रखने का डर था. इसके कारण बहुत सारे लोगों को लोन लेने में आसानी हुई है.
  • कोई भी कृषि से संबंधित और अन्य लघु उद्योगों में लगे हुए लोग इसका लाभ ले सकते हैं. वो इस लोन का उपयोग कीटनाशक लेने, नए उपकरण लेने, खाद लेने आदि में इस्तेमाल कर सकते हैं. इससे किसानों को काम समाप्त करने में कम समय लगेगा और आमदनी भी ज्यादा होगी.

मुद्रा लोन के लिए योग्यता (Mudra Loan Eligibility)

  • व्यापार के मालिक :- ऐसे व्यक्ति जो कि सामान एक जगह से लेते हैं और दूसरी जगह भेजते हैं, उनके लिए मुद्रा लोन की आवश्यकता सबसे अधिक होती है. इस प्रकार से काम करने वालों को शुरुआत में हमेशा ही पैसे की ज़रूरत रहती है और अगर पैसा ना हो, तो वो अपना काम नहीं कर पाते हैं और उनका व्यापार ख़त्म हो जाता है. इस तरह की समस्या का निदान सरकार के द्वारा दिए जा रहे मुद्रा लोन से आसानी से हो सकता है.
  • दुकानदार :- बहुत सारे लोगों के पास अपने कारोबार को बढ़ाने के लिए आइडिया तो होता है, परंतु पैसे के आभाव में वो कुछ कर नहीं पाते हैं और उनका कारोबार एक जगह तक सीमित रहता है. मुद्रा लोन के द्वारा अगर इन व्यक्तियों को लोन मिल जाए, तो ये अपने कारोबार को आसमान की ऊंचाइयों तक ले जा सकते हैं.
  • स्टार्टअप उद्यमी :- इसमें वो लोग आते हैं, जिनके पास अपना नया उद्यम करना होता है, परन्तु पैसे नहीं होते हैं. ये लोग नौजवानों के लिए नए नए अवसर प्रदान करते हैं. ये लोग एक क्रांति की तरह होते हैं, छोटे पैमाने पर काम शुरू करते हैं और अपने कारोबार को विकसित करते हैं.
  • लघु निर्माता :- ये लोग छोटे कारोबारी होते हैं, जो एक छोटी सी जगह पर काम करते हैं, इनके पास काम तो होता है और ये अपने काम को विकसित भी कर सकते हैं, परन्तु पैसे न होने की वजह से ऐसा नहीं कर पाते हैं. इन लोगों को अगर पैसा मिल जाए तो ये अपनी श्रेणी में अव्वल आ सकते हैं.
  • कृषि में लगे हुए व्यक्ति :- पहले एक खेत की जुताई में कई दिन लग जाते थे, परन्तु आज कल ऐसे औजार आ गए हैं, कि आप अपना काम बहुत जल्दी समाप्त कर सकते हैं. इन औजारों की कीमत ज्यादा होती है. मुद्रा लोन योजना के तहत अगर किसानों को लोन मिल जाए, तो उनका काम कम समय में और जल्दी पूरा हो सकता है.

बैंक जो मुद्रा लोन प्रदान करते हैं (Mudra Loan Bank List)

निम्नलिखित ऋण संस्थाएं एवं बैंक हैं जो कि मुद्रा लोन योजना में ऋण प्रदान करती हैं :

  • सूक्ष्म वित्त संस्थान (MFI) :- इसमें लघु उद्यम और छोटे व्यवसायों में लगे हुए व्यक्तियों को MFI द्वारा उनके व्यवसायों के लिए लोन दिया जाता है. एमएफआई सभी दस्तावेजों को जांचती है और अंत में फैसला करती है, कि आवेदक को मुद्रा लोन दिया जाना चाहिए या नहीं.
  • क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक (RRB) :- केंद्रीय सरकार 50% और संबंधित राज्य सरकार 15% पूंजी क्षेत्रीय ग्रामीण बैंकों को देते हैं. फिर ये बैंक मुद्रा लोन के तहत लघु उद्यमियों और किसानों को मुद्रा लोन प्रदान करते हैं.
  • निजी बैंक :- सरकार ने बहुत सारे निजी बैंकों को भी मुद्रा लोन देने के लिए कहा है. ये बैंक लोन देने के लिए कोई भी प्रक्रिया चुन सकते हैं, परन्तु ब्याज की दरें मुद्रा लोन के अंतर्गत ही आनी चाहिए.
  • लघु वित्त (SFB’S) :- ये बैंक मुख्य तौर पर लघु उद्यमियों, सूक्ष्म उद्यमों के लिए मुद्रा लोन देते हैं. 50,000 रुपए या इससे कम लोन के लिए कोई भी चीज बैंक में गिरवी नहीं देनी होती है. PAN कार्ड की जरूरत को अब नजरअंदाज कर दिया गया है और अब बिना PAN कार्ड के भी लोन मिल सकता है.
  • सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक :- कुछ सवर्जनिक क्षेत्र के बैंक भी हैं, जो केंद्र सरकार की इस लोन योजना के तहत लोगों को लोन की सुविधा दे सकते हैं. और लोन की रकम 50,000 से लेकर 10,00,000 रुपए तक हो सकती है.

मुद्रा लोन के लिए दस्तावेज (Mudra Loan Documents Required)

मुद्रा लोन में लोन लेने का वही तरीका है, जो कि अन्य बिजनेस लोन लेने के लिए किया जाता है. नीचे वह जरूरी दस्तावेजों की सूची है, जिनके बिना लोन नहीं लिया जा सकता है :

  • पहचान पत्र (जैसे कि आधार कार्ड, वोटर आईडी कार्ड, पासपोर्ट, टेलीफोन बिल इत्यादि),
  • निवास स्थान का प्रमाण (आधार कार्ड, पासपोर्ट, मतदाता पहचान पत्र, टेलीफोन बिल, बैंक विवरण इत्यादि),
  • जो व्यक्ति लोन ले रहा है, उनका जाति प्रमाण पत्र (वह किस श्रेणी से सम्बन्धित है एससी, ओबीसी, एसटी, अल्पसंख्यक समुदाय इत्यादि में से एक),
  • व्यावसायिक उपयोग के लिए लोन लेना चाहते हो, तो उस उद्यम का स्थाई पते का प्रमाण.
  • लोन के लिए आवेदन देने वाले के हालही में खिंचे गए 2 पासपोर्ट आकार के फोटो.

मुद्रा लोन के लिए कैसे आवेदन करें (How to Apply for Mudra Loan)

आवेदन के लिए आपको एक फॉर्म भरना पड़ता है, जो कि www.mudra.org.in कि वेबसाइट पर उपलब्ध है. वहां से फॉर्म डाउनलोड करने के बाद आप उसे भर दें. हर बैंक की अपनी एक अलग प्रणाली होती है, जिसके अंतर्गत वो आवेदक को लोन देते हैं. आपका जिस बैंक में खाता पहले से ही खुला हुआ हैं, आप वहां भी आवेदन दे सकते हैं.

मुद्रा लोन से संबंधित कुछ मुख्य बिंदु (Mudra Loan Important points)

  • ब्याज दर और ऋण लेने की प्रक्रिया हर बैंक की अलग हो सकती है. परंतु ब्याज की दरें शिशु, किशोर और तरुण श्रेणी में ही आती हैं. परंतु कोई भी बैंक मुद्रा लोन के द्वारा तय की गई ब्याज दर से ज्यादा ब्याज नहीं ले सकता है.
  • आपके द्वारा लिए हुए लोन को आप 5 सालों में कभी भी चुका सकते हैं.
  • यूनाइटेड महिला उद्यमी योजना के तहत महिलाओं को लोन दिया जाता है. इसमें वो महिलाएं लोन के लिए आवेदन दे सकती हैं जिनकी कम्पनी में 50% या उससे अधिक शेयर हों.

मुद्रा कार्ड क्या होता है ? (What is Mudra Card)

मुद्रा कार्ड बैंकों के द्वारा दिया जाने वाला एक कार्ड है, जिसके द्वारा वह व्यक्ति जिसने मुद्रा लोन ले रखा हो पैसे निकाल सकता हैं. दरअसल अगर किसी का मुद्रा लोन स्वीकार हो जाता है, तो बैंक उस व्यक्ति का खाता मुद्रा लोन खाते के नाम से खोल देता है और उसे मुद्रा कार्ड प्रदान कर दिया जाता है. बैंक उस व्यक्ति के खाते में लोन की रकम डाल देता है और फिर वह व्यक्ति विशेष अपने मुद्रा कार्ड से पैसे निकाल सकता है.   

निष्कर्ष (Conclusion)

मुद्रा लोन योजना सरकार की एक क्रांतिकारी योजना है, जिसके तहत सरकार उन वर्गों को भी शामिल करना चाहती है, जिसे समाज ने नजरअंदाज कर रखा है. सरकार इस योजना में उन युवाओं को ऋण देती है, जिनके पास बेहतरीन व्यवसाय के आइडिया हैं, परन्तु पैसे के ना होने की वजह से उनका इस्तेमाल नहीं कर सकते हैं. इस योजना से देश में कृषि के उपर से इतने सालों से चला आ रहा भार भी कम किये जाने का लक्ष्य है.

अन्य पढ़े:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!