Home Blog कंपनी कैसे शुरू करें,भारत में कंपनी रजिस्टर करने की प्रक्रिया

कंपनी कैसे शुरू करें,भारत में कंपनी रजिस्टर करने की प्रक्रिया

कंपनी कैसे शुरू करें और भारत में कंपनी रजिस्टर करने की प्रक्रिया (How to Start A Company and step by step guide to registering company India, in Hindi)

कंपनी वह होती है, जो कुछ प्रशिक्षित लोग मिलकर बनाते हैं, जिसका उपयोग विभिन्न तरह के सामान बेचने व खरीदने के लिए या सेवाओं को प्रदान करने या फिर लेने के लिए किया जाता है. आज के समय में भारत देश में बहुत सी ऐसी कंपनी है, जो नंबर वन पर है, लेकिन बहुत सी ऐसी कंपनी है, जो आज तक संघर्ष कर रही हैं, क्योंकि आज के समय में बाजार में इतनी अधिक प्रतियोगिता बढ़ गई है, कि कोई भी बाजार में संतुलन नहीं बना पा रहा है. आज हम आपको विस्तारपूर्वक बताएंगे कि कंपनी क्या होती है और वह किस तरह से कार्य करती है, साथ ही बताएंगे कंपनी के कितने प्रकार होते हैं.

Register company

कंपनी क्या है (What is a Company)

कुछ चुने हुए प्रशिक्षित अधिकारी जब एक संगठन को मिलकर चलाते हैं, तो वह एक कंपनी बन जाती है. कंपनी में मौजूद शेयरधारकों द्वारा सामान बेचने व खरीदने के लिए या फिर सेवाओं का आदान प्रदान करने के लिए उस कंपनी का निर्माण किया जाता है. कुछ कंपनियां लाभकारी संगठन से जुड़ी होती है और कुछ कंपनियां गैर-लाभकारी संगठन के लिए भी कार्य करती हैं. एक अकेला इंसान किसी भी कंपनी को नहीं चला सकता है, उसे उस कंपनी को चलाने के लिए कई सारे श्रमिकों की आवश्यकता होती है, जिसके लिए वे कई लोगों को रोजगार प्रदान करती हैं. कंपनियों को हक होता है, कि वे दूसरी कंपनियों के शेयर खरीद कर उन्हें अपने नाम कर सकती हैं व जरूरत पड़ने पर दूसरी कंपनियों पर मुकदमा भी कर सकती हैं. इसके अतिरिक्त एक कंपनी अपनी पूंजी वृद्धि के लिए बाजार से पैसा उधार भी लेती है व अपने शेयर बेच कर पैसे इकट्ठा भी करती है. यदि कानूनी रूप से देखा जाए, तो सभी प्रकार की कंपनियों के पास समान अधिकार व जिम्मेदारियां होती हैं. साथ ही उनके पास जिम्मेदारी के तौर पर कुछ कानूनी नियम भी होते हैं, जिनका अनुसरण करना उनके लिए अनिवार्य होता है. यदि कोई भी कंपनी कानून के बनाए हुए नियमों का उल्लंघन करती है, तो वे उनके लिए दंडनीय अपराध होता है.

कंपनी के प्रकार (Types of Company)

आमतौर पर कंपनी के कई सारे प्रकार होते हैं, जो निम्नलिखित है :-

Back

4. एकल व्यक्ति कंपनी (One Person Company) :-

एक कंपनी सदस्यों के आधार पर भी बनाई जाती है, लेकिन कई बार ऐसा होता है कि कुछ लोग अपना व्यवसाय आरंभ करने की ही सोच रहे होते हैं, पर उस समय उनके पास उपयुक्त पूंजी नहीं होती है. ऐसे में वे अकेले ही युवा उद्यमियों को प्रोत्साहित करने के लिए एक नई कंपनी का अविष्कार करते हैं और अपने व्यवसाय को धीरे-धीरे बढ़ावा देते हैं.

Back

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read

New Business : ये व्यापार बना सकता है आपको बड़ा बिजनेसमैन,...

0
बांस की बोतल बनाने का व्यवसाय शुरू करें, बिज़नेस, कैसे बनाई जाती है, तरीका, लागत, कच्चा माल, लाभ, मुनाफा (Bamboo Bottle Making...