सहजन की खेती कैसे करें | Drumstick Farming in Hindi

सहजन की खेती, कैसे करें, व्यवसाय, लाभ, तरीका, जानकारी, कब करें (Drumstick Farming Business, Sehjan ki Kheti, Guide, Profit in Hindi)

कोरोना वायरस ने भारत की ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया भर के सभी देशों की अर्थव्यवस्था को हिला कर रख दिया हैं. ऐसे में कई कारोबार ऐसे हैं जोकि पूरी तरह से बंद हो गए हैं तो कुछ ऐसे हैं जो बंद होने की कगार पर हैं. ऐसे में उन कारोबार से जुड़े लोगों को अपनी नौकरी के ऊपर मंडरा रही तलवार को देख कर डर लग रहा हैं जोकि कभी भी गिर सकती हैं और उनकी नौकरी उनसे छिन सकती है. लेकिन हम उनके लिए कुछ ऐसे व्यवसाय की जानकारी के साथ इस लेख को लेकर आये हैं जिससे उनकी परेशानी ख़त्म हो सकती हैं. वह व्यवसाय हैं सहजन की खेती. यह क्या होती हैं कैसे की जाती हैं और इससे लोग कितने रूपये तक की कमाई कर सकते हैं, यह सब कुछ आपको हमारे इस लेख में देखने को मिल जायेगा. तो इसके साथ बने रहिये आखिरी तक.

सहजन की खेती क्या है (Drumstick Farming)

सहजन जिसे अंग्रेजी भाषा में ड्रमस्टिक कहा जाता हैं, यह एक औषधीय पौधा होता है. इसका वैज्ञानिकों की भाषा में मोरिंगा ओलीफेरा नाम रखा गया है. हलाकि अलग – अलग क्षेत्रों में इसे अलग – अलग नाम से भी जाना जाता है.

हर्बल खेती का व्यवसाय शुरू कर 1 एकड़ जमीन में पायें 3 लाख रूपये तक की आमदनी का मौका जानने के लिए यहाँ क्लिक करें.

सहजन की खेती के व्यवसाय की बाजार में मांग (Market Demand)

इस पौधे से कई तरह की औषधियां बनाई जाती हैं इसलिए इसकी मांग देश में ही नहीं विदेशों में भी बहुत अधिक रहती हैं. इसकी खेती करने के बाद इसका निर्यात का कार्य भी काफी अधिक होता है. इसलिए सहजन की खेती करना आपके लिए काफी लाभकारी व्यवसाय साबित हो सकता है. इसकी फसल की बुवाई बहुत ही कम लागत करके काफी अधिक पैसा कमाया जा सकता है.

सहजन की खेती की मुख्य विशेषताएं एवं लाभ (Features and Benefit)

  • सहजन यानि ड्रमस्टिक के पौधों की मुख्य विशेषता यह है कि इसके बीज की एक बार बुवाई कर देने के बाद यह चार साल तक चलता है यानि चार साल तक इसमें कोई बुवाई करने की आवश्यकता नहीं होती है. यह हर साल अपने आप पनपता जाता है.
  • न ही इसमें अधिक जमीन की आवश्यकता होती हैं, न ही ज्यादा पानी की और न ही इसका ज्यादा रखरखाव करना पड़ता है. यानि कुल मिलाकर कर इसकी खेती करना काफी आसान एवं लाभकारी है.
  • सहजन की खेती करने के लिए आपको अलग से जमीन लेने की आवश्यकता भी नहीं होती हैं, आप अन्य फसलों के साथ भी इसका उत्पादन कर सकते हैं.
  • सहजन की खेती के लिए विशेष ध्यान यह रखना पड़ता है कि इसकी खेती गर्म स्थान पर की जाये. क्योकि ठंडी जगह पर यह अच्छे से नहीं पनपते हैं.
  • सहजन के फूल भी खेलते हैं जोकि 25 से 30 डिग्री सैल्सियस से ज्यादा के तापमान में ही खिलते है. इसके फूल का इस्तेमाल लोग सब्जी बनाने में करते हैं.
  • सहजन की फसल की बुवाई साल में 2 बार ही की जाती है. इसके लिए मिट्टी सूखी या चिकनी बालूदार होनी चाहिये, क्योकि इसमें इसकी खेती अच्छे से होती है.
  • सहजन के पेड़ की उम्र 10 साल होती हैं, जिसमें वह अच्छी तरह से फलता- फूलता है.
  • सहजन की मुख्य किस्में कोयंबटूर 2, रोहित 1, पी. के. एम. 1, एवं पी. के. एम. 2 आदि हैं.
  • सहजन के फूल के साथ – साथ इस फल की भी सब्जी बनाई जाती है, यहाँ तक कि लोग इसकी पत्तियों की सलाद भी बनाकर खाते हैं, अतः सहजन के फूल, फल एवं पत्तियों सभी में औषधीय गुण होने की वजह से लोग इसे खाना काफी पसंद करते हैं, और यह स्वास्थ्य के लिए काफी अच्छा भी होता है.
  • आयुर्वेद चिकित्सकों के अनुसार यह एक ऐसा पौधा हैं जोकि 300 से भी अधिक बीमारियों से बचाव करता है. यह आपकी इम्युनिटी को भी काफी मजबूत बनाता है. सहजन के बीज से निकाले जाने वाले तेल का उपयोग कई तरह की दवाइयां बनाने में किया जाता है.
  • सहजन के पौधों में पाए जाने वाले पोषक तत्वों की बात करें तो इसमें 90 विटामिन, 46 एंटी – ओक्सिडेंट एवं 18 प्रकार के एमिनो एसिड निहित रहते हैं.    

हिमाचल प्रदेश सरकार ने शुरू की वन संरक्षण जन संरक्षण योजना, औषधीय पौधे उगाकर कर सकते अहिं पैसों की कमाई, कैसे इसके लिए यहाँ क्लिक करें

सहजन की खेती कैसे करें (How to do Drumstick Farming)

सहजन की खेती आप 1 एकड़ जमीन में कर सकते हैं इसमें आप कम से कम 1200 बीज बो सकते हैं. सहजन की खेती करने के लिए आपको इसके बीज को दिन के समय में बोना होगा, इसकी बुवाई आप सूखी मिट्टी में करें. इसके लिए आपको 1 फुट चौड़ा एवं गहरा गड्ढा करना होगा. और वहाँ इसकी बुवाई करनी होगी. इसके बाद इसे ढीली मिट्टी से भर दें और साथ में खाद भी डालें. 2 बीज की दूरी 5 सेमी से कम न रखें. इसके बाद इसमें थोड़ा – थोड़ा पानी देते रहें ध्यान रहे ज्यादा पानी की आवश्यकता इसे नहीं होती है. 12 दिनों के अंदर पौधा उगना शुरू हो जायेगा. इसकी बुवाई करने के बाद इसका थोड़ा बहुत रख – रखाव करना ही बहुत होता है. बुवाई करने के बाद जब यह अच्छे से पनप जाये तो इसके बाद इसकी कटाई एवं छटाई करें और इसे बाजार में अच्छी कीमत में बेच कर कमाई करें.

सहजन की खेती के व्यवसाय में कुल लागत (Cost)

सहजन की खेती से लेकर इसे बेचने तक के पूरे काम के लिए आपको केवल 50 से 60 हजार रूपये तक का ही निवेश करने की आवश्यकता है. आपको इसके लिए कोई कर्मचारी रखने की भी आवश्यकता नहीं क्योकि यह काम आप अकेले भी कर सकते हैं.

खजूर की खेती कर पैसे कमाने का मौका प्राप्त करने के लिए यहाँ क्लिक करें.

सहजन की खेती के व्यवसाय से मुनाफा (Profit)

सहजन की खेती करने में मुनाफा बहुत अधिक होता है. क्योकि इसमें आप सहजन के फल, फूल एवं पत्तियों तीनों को बेचकर कमाई कर सकते है, क्योकि ये तीनों ही बाजार में बिकते हैं. तीनों चीजों की काफी मांग भी रहती है. यदि आप इसे 1 एकड़ की जमीन में भी लगाते हैं, तो इससे आप प्रतिवर्ष 6 लाख रूपये तक की कमाई आसानी से कर सकते हैं. 

इस तरह से सहजन की खेती करने के व्यवसाय से आप कम पैसों में अधिक फायदा प्राप्त कर सकते हैं. यह काफी लाभकारी पौधा होता हैं क्योंकि इसमें औषधीय गुण पाए जाते हैं. इसलिए इसकी बाजार में मांग भी काफी अधिक होती है. इसलिए आप अपनी नौकरी छूटने के बाद इस व्यवसाय को शुरू कर पैसा कमा सकते हैं.

FAQ

Q : सहजन की खेती कब करें ?

Ans : यह एक गर्म मौसम में लगाया जाने वाला व्यवसाय है इसलिए इसे ठंडी के मौसम के बाद जब गर्मी आनी शुरू होती हैं तब लगाया जा सकता है.

Q : सहजन की खेती कैसे करें ?

Ans : सहजन की खेती के लिए आपको बीजों की बुवाई करनी होगी. बीजों की बुवाई के लिए आपको यह ध्यान रखना होगा कि मिट्ठी सूखी एवं चिकनी हो.

Q : सहजन की खेती में क्या करना होता है ?

Ans : सहजन की खेती करना ज्यादा कठिन काम नहीं है, क्योकि इसे एक बार आप लगाकर छोड़ सकते हैं, इसमें ज्यादा रखरखाव की आवश्यकता नहीं होती है.

Q : सहजन का पौधा कितने दिनों में उगना शुरू हो जाता है ?

Ans : सहजन का पौधा बुवाई के बाद 12 दिनों के अंदर उगना शुरू हो जाता है.

Q : 1 एकड़ जमीन में सहजन की खेती करने से कितना मुनाफा मिलेगा ?

Ans : यदि आप 1 एकड़ जमीन में सहजन की खेती करते हैं तो आप प्रतिवर्ष लाखों रूपये तक की कमाई कर लखपति बन सकते हैं.

अन्य पढ़ें –

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *