कपड़े की सिलाई का व्यवसाय शुरू कर हजारों रूपये प्रतिमाह कमाने का मौका प्राप्त करें

टेलरिंग व्यवसाय, मशीन, कोर्स, जॉब (Tailoring Business Ideas, Material, Plan, Proposal, Names, Loan, Machinery, Cost, Profit Margin, Earning in Hindi)

यदि बात आती है फैशन की तो आजकल के लोगों की पहचान उनके कपड़ों उनके स्टाइल और उनके फैशन से होती है. आज के समय में यदि कहीं पर आपको हर प्रकार का रंग और आकर्षक कपड़े देखने को मिलेंगे तो वह हमारा भारत देश ही है. जो फैशन के मामले में रंग बिरंगा और बहुत ज्यादा विविधताओं भरा है. आज के समय में देखा जाए तो डिजाइनर कपड़े और फैशन की इतनी ज्यादा मांग भारतीय बाजारों में बढ़ चुकी है कि दिन-प्रतिदिन प्रतियोगिता भी बढ़ती जा रही है. ऐसे में यदि आप एक सिलाई – कढ़ाई का व्यवसाय आरंभ करने का मन बना चुके हैं या बनाना चाहते हैं तो हमारी यह पोस्ट पढ़ कर उसे जरूर फॉलो करें.

Tailoring Buisness

सिलाई व्यवसाय में स्कोप (Tailoring Business Scope)

आप जानते ही होंगे कि महिलाओं को कपड़े पहनने का कितना ज्यादा शौक होता है और उन्हें अगर हर रोज एक नई ड्रेस मिल जाए पहनने को तब तो वे बहुत खुश हो जाती हैं. ऐसे में एक छोटा सा कोई भी फंक्शन अगर घर में हो तो महिलाओं के लिए तो नए कपड़े खरीदने का एक मौका होता है. कुछ महिलाएं डिजाइनर कपड़े बनवाकर पहनना पसंद करती हैं तो कुछ रेडीमेड स्टोर में बेचे जाने वाले बने बनाए कपड़े खरीदना पसंद करती हैं. इसका सीधा और सरल शब्द यह है कि कपड़ों को लेकर बाजार में व्यवसाय करना कितना ज्यादा फायदेमंद हो सकता है. यदि इस व्यवसाय के बारे में सोचा जाए या फिर आरंभ करा जाए तो इस व्यवसाय में आपको आराम से बाजार में बहुत अच्छी शुरुआत मिल सकती है. इस व्यवसाय में निपुण होना बेहद आवश्यक है क्योंकि यदि आप निपुण नहीं होंगे तो आपके पास इतनी आसानी से कोई भी महिला कपड़े सिलवाने या खरीदने नहीं आएगी. क्योंकि महिलाओं को नए कपड़ों के साथ एक नया फैशन और नया डिजाइन हमेशा ही चाहिए होता है. ऐसे में यदि आप उन्हें संतुष्ट नहीं कर पाएंगे तो आपके लिए इस व्यवसाय को आसानी से चला पाना मुश्किल होगा.

विभिन्न तरह की डिज़ाइन वाली टी – शर्ट प्रिंट करने वाला व्यवसाय शुरू करें और 90 रूपये की एक टी – शर्ट पर 220 रूपये कमाने के लिए यहाँ क्लिक करें.

सिलाई व्यवसाय को शुरू करने की योजना बनाएं (Tailoring Bussiness Plan)

अब आप यह तो जानते हैं कि जिस काम की शुरुआत उचित तरीके से और सही योजना बनाकर की जाती है, उसमें लाभ कमाना कोई मुश्किल काम नहीं होता है. ऐसे में यदि आप दर्जी का व्यवसाय आरंभ करना चाहते हैं तो उसके लिए आपको एक सुव्यवस्थित योजना बनाने की बहुत ज्यादा आवश्यकता है. जिसे आप हमारे द्वारा बताए गए निम्नलिखित तरीकों से कर सकते हैं तो चलिए आरंभ करते हैं योजना के प्रमुख चरणों से –

  • प्रशिक्षण और शिक्षा :- सिलाई कढ़ाई जैसे काम सिर्फ एक व्यवसाय नहीं बल्कि कला होते हैं. और इस कला में पारंगत होने के लिए आपको एक सही प्रशिक्षण और उचित शिक्षा की आवश्यकता होती है. ऐसे में सबसे पहले यह जरूरी है कि आप एक ऐसा मार्ग दर्शक चुने जो इस काम में पूरी तरह से पारंगत हो और सिलाई कढ़ाई की कलाकारी के बारे में बखूबी जानता हो. आप चाहे तो सिलाई कढ़ाई की विभिन्न नई तकनीकों को ऑनलाइन भी सीख सकते हैं जिसके लिए आपको गूगल पर कई सारी ऑनलाइन साइट्स मिल जाएंगी. और यूट्यूब वीडियोस मिल जायेंगे, क्योंकि आजकल बहुत से लोग यूट्यूब चैनल पर वीडियोस बनाकर अपलोड करते हैं और पैसे भी कमाते हैं.
  • व्यवसाय से जुड़ी आवश्यकताओं की सूची बनाएं और लिखें :- किसी भी व्यवसाय में काफी सारी चीजों की जरूरत होती है ऐसे में यदि आपको उनके बारे में जानकारी नहीं होगी तो आप अपने व्यवसाय को एक सुव्यवस्थित ढांचा प्रदान नहीं कर पाएंगे. तो इसलिए व्यवसाय आरंभ करने के लिए सबसे पहले आप अपने व्यवसाय से जुड़ी सभी जानकारियां अपने आसपास के बाजार से एकत्रित अवश्य कर लें. उन सभी आवश्यकताओं से जुड़ी सूची बनाएं और उन्हें सुव्यवस्थित ढंग से कार्यरत करें.
  • पंजीकरण :- जब आप अपने व्यवसाय से जुड़ी सभी आवश्यकताओं को प्राप्त कर लेते हैं तो उसके बाद आपको अपने व्यवसाय को पंजीकृत कराना बेहद आवश्यक है. एक पंजीकृत व्यवसाय होने का आप यह लाभ उठा सकते हैं कि आपके फैशन, स्टाइल और तकनीक को कोई भी चुरा नहीं सकता उस पर केवल आपका ही कॉपीराइट रहेगा. यदि आप अकेले ही इस व्यवसाय को आरंभ करना चाहते हैं तो आपको एकल व्यवसाय के लिए पंजीकरण करना होगा और इसके अतिरिक्त यदि आप अपने किसी दोस्त या सगे संबंधी को पार्टनर के रूप में अपने साथ इस व्यवसाय में जोड़ना चाहते हैं तो आपको एक साझेदारी कंपनी के लिए पंजीकरण भरना होता है.
  • दुकान की स्थापना :- अब आपको एक दर्जी का व्यवसाय चलाने के लिए एक स्थान की भी आवश्यकता होगी ऐसे में आप चाहे तो अपने घर में भी इस व्यवसाय को चला सकते हैं या फिर एक दुकान किराए पर लेकर उसमें भी इस व्यवसाय को आरंभ कर सकते हैं. यदि आप किराए पर दुकान ले रहे हैं तो ध्यान रखें कि उसके लिए आप किराया समझौता अवश्य बनवा लें. ताकि आप लंबे समय तक उस दुकान पर बने रहें और अपना व्यवसाय सुचारू रूप से चलाते रहें. दुकान को उसी तरह से डिजाइन कराएं जिस तरह से एक कपड़ा डिजाइनर की दुकान होनी चाहिए. इसके अतिरिक्त आपको कच्चा माल रखने के लिए अधिक जगह टेबलेट, हैंगर आदि जैसी चीजों की भी आवश्यकता होगी.
  • आवश्यक उपकरण और कच्चे माल की खरीद :- आपको अपने  इस व्यवसाय को आरंभ करने के लिए किन वस्तुओं की आवश्यकता होगी उसकी लिस्ट आपको पहले से तैयार कर लेनी चाहिए ताकि जब आप सामान खरीदने बाजार जाए तो कुछ भी चीज छूट ना जाए. इस व्यवसाय को आरंभ करने के लिए आपको मशीन, अलग-अलग रंगों के और अलग-अलग तरीके के कपड़े एवं धागे, कैची, इंच टेप, सैंपल कपड़ों के विभिन्न प्रकार, प्रिंटिंग, सिलाई का सामान, पैटर्न और भी कई प्रकार की वस्तुएं खरीदनी होंगी.
  • मूल्य सूची बनाएं :- ग्राहकों के सामने प्रस्तुत करने के लिए आपकी खुद की एक मूल्य सूची होनी आवश्यक है. यदि आप ग्राहकों को अपनी ओर ज्यादा आकर्षित करना चाहते हैं तो आपके लिए सबसे ज्यादा जरूरी है कि आप बाजार के मूल्यों का आंकलन करने के बाद बाजार के अनुसारया फिर उससे कम ही मूल्य रखें, ताकि ग्राहक आपकी ओर ज्यादा आकर्षित हो सकें.

सिलाई व्यवसाय के प्रकार (Tailoring Business Types)

मुख्य रूप से सिलाई व्यवसाय को दो भागों में वर्गीकृत किया जाता है जिनमें से एक सिलाई और वैकल्पिक व्यवसाय है और दूसरा सिलाई और डिजाइनिंग व्यवसाय –

  • सिलाई और वैकल्पिक व्यवसाय :- यह एक ऐसा व्यवसाय होता है जिसमें आप घर बैठकर अपने जीवनभर के लिए आमदनी जुटा सकते हैं. इसके अंतर्गत आप सिलाई कढ़ाई का प्रशिक्षण लेकर घर पर ही मशीनों के द्वारा कपड़ों को काट काट कर के नए कपड़े बना सकते हैं और अपने आसपास के लोगों को अपनी सेवा प्रदान कर सकते हैं.
  • सिलाई और डिजाइनिंग व्यवसाय :- इस प्रक्रिया के अंतर्गत कुछ प्रोफेशनल डिजाइनर कपड़ों को नए-नए रूप में डिजाइन करते हैं और इंटरनेशनल लेवल पर भी बेचते हैं. उनकी बड़ी-बड़ी कंपनीज होती है और उनका खुद का एक अलग नाम होता है वे पूरी तरह से प्रशिक्षण लेकर खुद को तैयार करते हैं और बड़े बड़े ब्रांड के नाम पर नए-नए डिजाइन तैयार करते हैं. 

महिलायें घर बैठे बुटिक का व्यवसाय शुरू कर अच्छा खासा लाभ कमा रही हैं, यदि आपको भी इसका लाभ कमाना है तो इसके लिए यहाँ क्लिक करें.

सिलाई व्यवसाय के लिए सही स्थान (Tailoring Business Right Location)

सिलाई व्यवसाय आरंभ करने के लिए आपको एक सही स्थान का चयन करना बेहद आवश्यक है क्योंकि यदि आपका व्यवसाय सही स्थान पर नहीं होगा तो आपको उपभोक्ता भी नहीं मिल पाएंगे. आपको एक ऐसा मुख्य बाजार या आवासीय स्थान के बीच में एक ऐसा क्षेत्र खोजना होगा जहां पर आपको आसानी से उपभोक्ता मिल सकें. इसके अतिरिक्त यदि आप किसी कार्यालय के आसपास इस व्यवसाय को आरंभ करेंगे तो वहां पर आपको उपभोक्ता मिलने में परेशानी हो सकती है.

सिलाई व्यवसाय के लिए ज्ञान और कौशल की आवश्यकता (Tailoring Business Required Skills)

वैसे तो प्रत्येक व्यवसाय को आरंभ करते समय उचित ज्ञान और कौशल की आवश्यकता होती है ऐसे ही सिलाई के व्यवसाय में भी कुछ बुनियादी कौशल की आवश्यकता होती है जो निम्नलिखित है:-

  • सबसे पहले इस व्यवसाय में यदि आप दर्जी बनना चाहते हैं तो उसके लिए आपको एक नॉर्मल सिलाई मशीन चलानी आनी चाहिए.
  • कपड़ों की कटिंग किस तरह से की जाती है और किस तरह से उन्हें नए-नए आकारों में बदलकर नए डिज़ाइन तैयार किए जाते हैं इन सभी बातों से जुड़ी जानकारी भी आपको एकत्रित करनी चाहिए.
  • किसी उपभोक्ता का माप लेना सबसे महत्वपूर्ण कार्य इस व्यवसाय में माना जाता है. एक संपूर्ण रूप से प्रशिक्षित दर्जी वही होता है जो एक उपभोक्ता के शरीर का सही माप लेना जानता हो. यदि वह माप सही तरीके से लेगा तो कोई भी कपड़ा बनाने के लिए उसे ज्यादा परेशानी नहीं होगी और वह एक सही फिटिंग के साथ एक नई डिजाइनर ड्रेस बना पाएगा.
  • नए-नए पेटर्न्स को देखकर उन्हें सीखना एक डिजाइनर का काम होता है ताकि वह उपभोक्ताओं को हर बार एक नया डिजाइन प्रस्तुत कर सके.
  • कपड़े के किस भाग को किस तरीके से काटना है इस बात की जानकारी भी एक सिलाई मास्टर को होनी आवश्यक है.
  • किस तरह का कपड़ा किस तरह से रखकर कटिंग किया जाता है और किस तरह से उसे बनाया जाता है. इसके लिए सबसे ज्यादा जरूरी यह है कि उसे कपड़ों के प्रकार की जानकारी होनी चाहिए और किस कपड़े का क्या गुण होता है इस बारे में भी विस्तृत जानकारी एक दर्जी के पास होनी आवश्यक है.
  • किस उपभोक्ता को किस तरह की फिटिंग ज्यादा पसंद है और एक कपड़े पर किस तरह की फिटिंग होनी चाहिए, यदि इस बात की जानकारी एक दर्जी को नहीं होती है तो वह कोई भी ड्रेस को खूबसूरत नहीं बना सकता है.
  • सिलाई के व्यवसाय में किसी भी दर्जी को 3 महीने से लेकर 6 महीने तक का पूरा कोर्स करना आवश्यक है क्योंकि इस व्यवसाय में निपुणता के साथ-साथ कलाकारी होनी भी आवश्यक है और जितनी अधिक प्रेक्टिस आप इस व्यवसाय में करेंगे उतने और अधिक निपुण आप धीरे-धीरे होते रहेंगे.
  • इसके अतिरिक्त यदि आप एक मालिक के रूप में इस व्यवसाय को करना चाहते हैं और सिलाई कटिंग का काम करने के लिए एक सहायक रखना चाहते हैं तो इसके लिए आपको सिलाई सीखने की आवश्यकता है.

यदि आप जानते हैं इंटीरियर डेकोरेट करना, तो शुरू करें इसका व्यवसाय और इसमें 20 – 25 % तक का मुनाफा प्राप्त करने के लिये यहाँ क्लिक करें.

सिलाई व्यवसाय में लगने वाली लागत (Tailoring Business Cost)

यदि आपके पास पर्याप्त मात्रा में धन उपलब्ध है तो इस व्यवसाय में आप जितना चाहे उतना इन्वेस्ट कर सकते हैं, लेकिन यदि देखा जाए तो आमतौर पर इस व्यवसाय में अधिक धन की आवश्यकता पड़ती नहीं है. सबसे पहले प्रशिक्षण लेने के लिए आपको 3 या 6 महीनों तक कुछ फीस की राशि का भुगतान करना होगा. उसके बाद आप इस व्यवसाय को आरंभ करने के लिए कच्चा माल एवं मशीन आदि खरीदने के लिए धन एकत्रित कर सकते हैं. यदि आप एक महिला हैं और यह व्यवसाय करने के लिए आपके पास धन मौजूद नहीं है, तो सरकार आपको इसके लिए महिला समृद्धि योजना के तहत लोन प्रदान करेगी. इसके अलावा आप किसी भी सहकारी बैंक के पास जाकर अपने व्यवसाय को आरंभ करने के लिए ऋण प्राप्त कर सकती हैं. मात्र 30 से 50 हजार तक की राशि में आप इस व्यवसाय को आरंभ कर सकती हैं, इसलिए आपको ज्यादा लोन लेने या धन एकत्रित करने की आवश्यकता नहीं होती है.

सिलाई व्यवसाय को आरंभ करने के लिए आवश्यक मशीनरी एवं उपकरण (Tailoring Business Required Machinery and Equipment)

सिलाई व्यवसाय को आरंभ करने के लिए मशीन और मेज के अलावा भी कुछ अलग उपकरण खरीदने आवश्यक होते हैं जो निम्नलिखित हैं:-

  • सिलाई व्यवसाय में सबसे महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाली चीज होती है सिलाई मशीन, इसके बिना आप सिलाई व्यवसाय कभी शुरू नहीं कर पाएंगे. 
  • इसके बाद आपको कपड़ों की कटिंग के लिए कपड़ों पर निशान लगाने के लिए चौक की आवश्यकता पड़ेगी. बाजार में विभिन्न रंगों में चौक उपलब्ध होती है जो कपड़ों के लिए ही बनाई गई है.
  • कपड़ा मापने के लिए आपको इंच टेप भी खरीदना होगा.
  • नई नई डिजाइन बनाने और तैयार करने के लिए आपको पैटर्न पेपर की भी आवश्यकता पड़ेगी.
  • तुरपाई और छोटे-मोटे कपड़ों को जोड़ने के लिए आपको विभिन्न प्रकार की सुइयां की भी आवश्यकता होती है. वह भी कई प्रकार की आती हैं जिन्हें देख परख कर ही आप बाजार से ले.
  • कुछ अलग प्रकार के औजारों की आवश्यकता भी आपको पड़ेगी जिसमें हेमिंग और पिकोट जिनकी सहायता से आप विशेष दबाव की सिलाई कपड़ों पर लगा सकते हैं.
  • विभिन्न प्रकार के धागे और उनको रखने के लिए एक सुव्यवस्थित रूप से बना हुआ डिब्बा उसकी आवश्यकता भी आपको होगी ताकि धागे एक दूसरे मे मिलकर उलझ ना जाएं.
  • आपको दुकान में कुछ डिजाइनर कपड़े लगाने व अपने बनाए हुए डिजाइन लगाने के लिए हैंगर की भी आवश्यकता पड़ेगी.
  • कपड़े व कच्चे माल को सही तरीके से रखने के लिए आपको स्टैंड और रैक भी अपनी दुकान में रखने होंगे.
  • कपड़े की कटिंग करने से पहले उसको इस्री के पूरी तरह से ठीक करना होता है ताकि कपडा काटते समय वह टेड़ा मेडा ना कटे और कपड़े को सिलाई करने के बाद उसे इस्री करके सुंदर बनाकर ही उपभोक्ता को दिया जाता है. जिसके लिए आपको इलेक्ट्रिक डिवाइस की भी आवश्यकता अपनी दुकान में होगी.

खुद का व्यवसाय शुरू करे रहे हैं तो ध्यान रखने योग्य कुछ आवश्यक बातें जानने के लिए यहाँ क्लिक करें.

सिलाई व्यवसाय के लिए नाम चुने (Choose Name for Tailoring Business)

एक आकर्षक नाम व्यवसाय की ओर उपभोक्ताओं को खींच लाता है. इसी प्रकार यदि आप अपने सिलाई व्यवसाय का नाम एक आकर्षक ढंग से चुनेंगे, तो आपको अधिक फायदा होने की संभावना है. ऐसे में आप अपने व्यवसाय के लिए एक ऐसा सरल और आकर्षित नाम चुने जिसे सुनने और पहचानने में वक्त ना लगे. एक सही नाम आपको एक सही पहचान दिलाने में सहायक होता है इसलिए अपने व्यवसाय के लिए एक उचित नाम चुनना आपके लिए अति आवश्यक है.

सिलाई व्यवसाय चलाने के लिए आवश्यक एंप्लॉय (Tailoring Business Required Employee)

यदि आप इस व्यवसाय को मात्र एक निदेशक के रूप में आरंभ करना चाहते हैं तो इस व्यवसाय की थोड़ी सी जानकारी भी आपके लिए बहुत है. और आप चाहते हैं कि आप अपने इस व्यवसाय को चलाने के लिए एक एंप्लॉय भी रखें, तो उसके लिए आपको एक प्रशिक्षित व्यक्ति की आवश्यकता पड़ेगी जो आपके व्यवसाय में आपको पूरा सहयोग कर सकें. ध्यान रखें कि वह व्यक्ति पूरी तरह से प्रशिक्षित और कलाकार होना चाहिए, जो नए-नए प्रकार के डिजाइन बना सके और इसके जरिए आने वाले उपभोक्ताओं को संतुष्ट और प्रसन्न कर सके.

घर बैठे गृहणियों के लिए विभिन्न तरह के रोजगार के अवसर मौजूद हैं इसकी जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें.

सामान्य सिलाई व्यवसाय में रेट का निर्धारण (Rates in Common Tailoring Business)

यदि बात की जाए कपड़े सिलाई के बदले दिए जाने वाले कीमत की तो उसके बारे में तो महिलाओं को बहुत अच्छे से पता होता है. मुख्य रूप से महिलाएं सिलाई की कीमत नहीं सिलाई के डिज़ाइन को महत्व देती है, परंतु ऐसे में कुछ जगह पर कीमत को भी देखा जाता है. यदि बात करें एक साधारण रेट लिस्ट की तो किसी आम जगह पर सिम्पल सूट और ब्लाउज सिलवाने के लिए ₹300 का भुगतान करते हैं. इसके अतिरिक्त यदि उनमें किसी अलग प्रकार का डिजाइन डलवाया जाता है तो उसके लिए डिजाइन के अनुसार पैसों का भुगतान किया जाता है. अतः आप इन्हीं के अनुसार रेट का निर्धारण कर सकते हैं.

सिलाई व्यवसाय की मार्केटिंग (Tailoring Business Marketing)

बाजार में प्रत्येक व्यवसाय के लिए सैंकड़ों प्रतियोगी मौजूद हैं ऐसे में आपको कुछ ऐसे और साधारण तरीके अपनाने होंगे ताकि आप अपने व्यवसाय की ओर ग्राहकों को अधिक आकर्षित कर सके.

  • जैसा कि आप देख ही रहे हैं कि आजकल ऑनलाइन मार्केटिंग का दौर चल पड़ा है ऐसे में यदि आप अपने व्यवसाय को सोशल मीडिया और कुछ अन्य ऑनलाइन प्लेटफॉर्म के जरिए लाएंगे और उपभोक्ताओं तक पहुंचाएंगे तो आपकी ओर आकर्षित होते हुए बहुत सारे ग्राहक आपकी तरफ आएंगे.
  • महिलाओं के बारे में तो आप जानते ही हैं उन्हें जिस भी चीज पर छूट प्राप्त होती है तो वे जल्द ही उसको खरीद लेती हैं. ऐसे में आपके लिए बेहद जरूरी हो जाता है कि आप अपने व्यवसाय का प्रमोशन करते वक्त उन्हें उनकी पहली खरीद पर या अपनी पहली सेवा पर कुछ डिस्काउंट जरूर दें, ताकि वह आपकी तरफ आकर्षित हो और आपके एक परमानेंट ग्राहक बन जाए.
  • किसी भी कलाकार की पहचान उसकी कलाकारी होती है ऐसे में यदि आप अपने ग्राहकों को हर दिन एक नया सुझाव देने के लिए प्रस्तुत रहेंगे, तो अपने आप आपकी तरफ कई सारे ग्राहक आकर्षित होंगे. और एक ग्राहक जब आपके काम से संतुष्ट होगा, तो वह अपने आप ही आपके पास दूसरे ग्राहक को भी लेकर आएगा. ऐसे में आपकी मार्केटिंग और ज्यादा बढ़ जाती है और आपकी मांग दिन प्रतिदिन बढ़ने लगती है.

आपके पास इन्टरनेट हैं तो एफिलिएट मार्केटिंग करें और पैसे कमाने के लिए यहाँ क्लिक करें.

एफएक्यू’स (FAQs)   

Q : क्या सिलाई व्यवसाय लाभदायक है?

Ans : जी हां, सिलाई व्यवसाय बहुत ज्यादा लाभदायक है क्योंकि इस व्यवसाय में लागत भी कम है और लाभ कमाने के अवसर बहुत ज्यादा अधिक हैं.

Q : क्या सिलाई व्यवसाय आरंभ करने के लिए लाइसेंस और पंजीकरण की आवश्यकता होती है?

Ans : यदि आप अपने घर पर ही सिलाई व्यवसाय आरंभ करना चाहते हैं तो इसके लिए आपको किसी प्रकार के लाइसेंस व पंजीकरण की आवश्यकता नहीं होती है. परंतु यदि आप यदि आप एक प्रोफेशनल डिजाइनर बनना चाहते हैं तो उसके लिए आपको पंजीकरण कराना ही फायदेमंद होगा.

Q : क्या रेडीमेड कपड़े सिलाई कराने से ज्यादा सस्ते पड़ते हैं?

Ans : यदि बात की जाए रेडीमेड कपड़ों की तो वे पहले से ही बड़े-बड़े डिजाइनर द्वारा डिजाइन किये जाते हैं जो उनके डिजाइन के अनुसार ही लागत मूल्य पर बेचे जाते है. परंतु यदि आप एक डिजाइनर ड्रेस बनवाना चाहते हैं तो उसके लिए आपको पहले अपने पसंदीदा कपड़े को खरीदना होगा जिसके लिए आपको निर्धारित मूल्य चुकाना होता है उसके बाद आप जिस प्रकार का डिजाइन बनवाना चाहते हैं उसके अनुसार आपको कीमत का भुगतान करना होता है. इसलिए यदि बात करें कपड़े की सिलाई की कीमत की तो वह एक डिजाइनर ड्रेस बनाने के लिए आपको ज्यादा देनी होगी बजाय इसके कि आप एक रेडीमेड बनी हुई डिजाइनर ड्रेस खरीद लें. किन्तु कई बार आपको जो चाहिए रेडीमेड कपड़ों में नहीं मिलता है तो ऐसे में आपको सिलाई करवाना ज्यादा अच्छा विकल्प हो सकता है. इसलिए यह कहना मुश्किल है कि रेडीमेड कपड़े सिलाई करने से ज्यादा सस्ते पड़ते है या नहीं. 

Q : क्या सिलाई सीखना बहुत मुश्किल काम है?

Ans : वैसे तो कोई भी काम सीखना ज्यादा मुश्किल काम नहीं होता है बस किसी भी काम को सीखने के लिए आपको ज्यादा से ज्यादा प्रैक्टिस और धैर्य की आवश्यकता होती है. ठीक इसी प्रकार यदि आप धैर्य के साथ सिलाई सीखते हैं तो आप बहुत जल्दी और आसानी से सिलाई सीख पाते हैं.

Q : क्या सिलाई का व्यवसाय एक अच्छा धन कमाने का जरिया बन सकता है?

Ans : सिलाई के व्यवसाय को यदि एक प्रोफेशनल दर्जी द्वारा आरंभ किया जाता है तो वह एक अच्छा धन कमाने का जरिया उसके लिए बन सकता है. वहीं यदि आप निवेशक के रूप में इस व्यवसाय को आरंभ करना चाहते हैं तो यह अति आवश्यक है कि आपके पास सिलाई व्यवसाय का संपूर्ण ज्ञाता एंपलॉयर के तौर पर होना चाहिए ताकि वह आपके व्यवसाय को लाभ की चरम सीमा तक पहुंचा सके.

अन्य पढ़ें –

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *