Success Story : विदेश से लौटे इस शख्स ने 50,000 में शुरू किया तांबे के बर्तन का बिज़नेस और कमा रहा है 80 लाख रूपये, जाने इनकी कहानी

0

अपनी पढ़ाई पूरी करने के बाद लोग अपना करियर बनाने के लिए बड़े सिटीज में जाना पसंद करते हैं. कुछ लोग विदेशों में भी नौकर के अवसर ढूंढते हैं. लेकिन आज हम एक ऐसे शख्स की कहानी आपके साथ इस लेख के माध्यम से साझा करने जा रहे हैं जिन्होंने विदेश में जाकर अपना करियर बनाने का निर्णय लिया था, लेकिन वे वहां से लौट आये और भारत आकार केवल 50 हजार रूपये में तांबे के बर्तन बनाने का बिज़नेस शुरू किया और आज इनका 80 लाख रूपये तक का सालाना टर्नओवर हो गया है. इस शख्स का नाम है अदनान अली खान. आइये जानते हैं इनकी सफलता की कहानी.

tambe ke bartan success story

गोबर से लकड़ी बनाने की मशीन का निर्माण करने वाले यूपी एक व्यक्ति की सफलता की कहानी यहाँ पढ़ें.  

कौन है अदनान अली खान

अदनान अली खान अलीगढ के रहने वाले है, और तांबे के बर्तन बनाने का व्यवसाय करके पैसे कमाते हैं. इस बिज़नेस की शुरुआत इन्होने पिछले 2 साल पहले ही की थी. इस बिज़नेस को शुरू करने में उन्हें केवल 50 हजार रूपये की लागत लगी थी. और उन्होंने शुरुआत में ही 30 से 35 लाख रूपये का सलाना लाभ प्राप्त कर लिया था. और धीरे – धीरे यह 70 से 80 लाख रूपये के टर्नओवर में बदल गया. आज वे 4 शहरों में 18 लाख रूपये का ऑर्डर लेकर काम कर रहे हैं.

अदनान अली खान की कहानी

अदनान एक मध्यम वर्गीय परिवार से संबंध रखते हैं और उसी में पले बढ़े हैं. इनकी परवरिश में इन्हें किसी भी चीज की कमी नहीं हुई, लेकिन फिर भी छोटी – छोटी चीजों को लेकर अपने परिवार को संघर्ष करते इन्होने देखा था. इसी के चलते उन्होंने 6 वीं कक्षा में ही यह निर्णय ले लिया था कि वे अपना खुद का बिज़नेस करेंगे. और उनकी इसमें काफी रुचि भी थी. अदनान ने अपनी अलीगढ़ यूनिवर्सिटी से ग्रेजुएशन की पढ़ाई पूरी करने के बाद विदेश में रहने वाले एक मित्र ने उन्हें एमबीए करने की सलाह दी. वे पढ़ाई में बहुत अच्छे थे जिसके चलते उन्हें लगभग 40% तक की फीस कम देनी पड़ी. उन्हें एमबीए की पढ़ाई करने में कम से कम 10 से 12 लाख रूपये तक खर्च करने पड़ते, लेकिन 40% तक फीस माफ़ होने के चलते उनकी केवल 5 से 6 लाख रुपये में ही पढ़ाई पूरी हो गई. सन 2017 में फिर वे यूके चले गये. शुरूआती दिनों में वे कुछ दोस्तों के साथ रहे. उन्होंने वहां जाकर इंटर्नशिप की. जिससे मिलने वाले पैसे से वे अपने लिए रहने एवं खाने का इंतेजाम करने लगे थे. उन्होंने अतिरिक्त कमाई के लिए वेयर हाउस एवं अमेजन में भी काम किया.

मशरूम कीड़ा जड़ी खेती करने वाले किसं की सफलता की कहानी यहाँ पढ़ें.

बिज़नेस करने का आईडिया

अपनी पढ़ाई पूरी करने के बाद उनकी बचपन से बिज़नेस करने की इच्छा थी. यूके में वे अपने दोस्तों के साथ विभिन्न होटल्स एवं रेस्तौरेंट जाया करते थे. वहन पर उन्होंने देखा कि वहां किस तरह से मैनेजमेंट होता हैं एवं वहां पर जिन बर्तनों में खाना सर्व किया जाता हैं वह कितना आकर्षक है. वहन पर मौजूद बर्तनों को देख उन्होंने उस पर रिसर्च की. और उन्हें पता चला कि वहां जिन बर्तनों का इस्तेमाल हो रहा है उनका मुख्य मटेरियल यानि कि तांबा एवं पीतल भारत से ही आता है. खास कर क्राफ्ट वाले बर्तन. इसके बाद ही उनके मन में यह विचार आया कि उन्हें अपना खुद का बिज़नेस शुरू करना चाहिए. पढ़ाई के दौरान उन्हें जॉब भी मिल रही थी लेकिन वे जॉब छोड़कर घर वापस आ गये. और अपना इस बिज़नेस में करियर बनाने के लिए संघर्ष करने लगे.

बिज़नेस की रिसर्च

अपनी बिज़नेस की शुरुआत करने से पहले उन्होंने इसके बारे में सभी तरह की रिसर्च की. इसके लिए उन्हें काफी संघर्ष भी करना पड़ा. उन्होंने अपने परिवार वालों के साथ ही इस बिज़नेस को करने की बात की. पूँजी नहीं होने कारण इस बिज़नेस को करना रिस्की लग रहा था. लेकिन उन्होंने फिर भी यह रिस्क लेना चाहा. मुरादाबाद में तांबे एवं पीतल का बढ़ा करोबार है. अदनान वहन गये और वहां जाकर इस बिज़नेस को करने वाले लोगों से बात की. वहां जाकर उन्हें पता चला कि जो शहर तांबे एवं पीतल के बर्तनों के लिए इतना ज्यादा प्रसिद्ध है, वहां यह अब बिलकुल ठप्प हो गया है. इसके बाद उन्होंने इसे समझने की पूरी कोशिश की. अदनान ने देखा कि वहां पर लोग ज्यादातर मशीनों से बर्तनों पर नक्काशी करते हैं. लेकिन यह पूरी तरह से शुद्ध नहीं होता है. उन्होंने इस बिज़नेस की सभी तरह की बारीकियों को जाना और फिर अपने पिता से इस बिज़नेस की शुरुआत करने के लिए 50 हजार रूपये की मांग की.

खास किस्म के अमरुद की खेती करने वाले एक किसान की सफलता की कहानी यहाँ पढ़ें.

बिज़नेस में मिलने वाले ऑर्डर

अदनान पहले मुरादाबाद जाकर बर्तनों के फोटो वीडियो बनाकर इकठ्ठे किये. फिर फिर इसके माध्यम से एक कैटेलोग का निर्माण किया. और फिर बर्तन का निर्माण करना शुरू कर दिया. उन्होंने इसे बड़े होटल्स के साथ शुरुआत करने का फैसला किया. वे उनसे अपने बर्तनों की क्वालिटी के बारे में बात किये. धीरे – धीरे करके 10 शहरों के लगभग 50 होटल में जाकर अपने बर्तन के सैंपल दिए और फिर जाकर उन्हें 50 हजार का एक ऑर्डर प्राप्त हुआ. फी यह धीरे – धीरे बढ़ता चला गया. उन्होंने पूरी ईमानदारी के साथ अपने बर्तनों का निर्माण कर इसे सप्लाई किया जिसके बाद उन्हें ऑर्डर मिलना शुरू हो गये. अदनान ने अपने बनाये हुए बर्तनों को कंट्री क्राफ्ट नाम दिया और अपनी कंपनी शुरू कर दी. इस बिज़नेस को करने में उन्होंने कड़ी से कड़ी मेहनत की. इसका काफी अधिक प्रचार प्रसार भी किया. इसके लिए उन्हें कभी – कभी तो घर से बाहर ही रहना पड़ता था कभी बस स्टैंड तो कभी स्टेशन में भी सोये.

इंटरनेशनल मार्केट में कदम बढ़ाया

अदनान ने अपने बिज़नेस को इंटरनेशनल मार्केट में भी बढ़ाया. क्योंकि मुरादाबाद में बनने वाले बर्तन काफी दूर – दूर तक सप्लाई होते थे. उन्होंने इंटरनेशनल मार्केट में अपने बिज़नेस को बढ़ाने के लिए ऑनलाइन तरीका अपनाया. अदनान ने एक वेबसाइट डेवेलोप की. इसके बाद श्रीलंका के साथ अन्य देशों से ऑर्डर लेने शुरू कर दिए. इसके बाद 4 – 5 देशों में उनका काम शुरू हुआ.

फ्री में अपनी वेबसाइट बनाने का बिज़नेस शुरू करें और 1 से 1.5 लाख रूपये प्रतिमाह की कमाई करें.

अदनान ने अपने व्यवसाय में 20 कर्मचारियों को रखा था. कोरोनाकाल के चलते लगे लॉकडाउन में वे अपने बिज़नेस को लेकर काफी डर गये थे. लेकिन उन्होंने हार नहीं मानी. उन्होंने अपने कर्मचारियों को भी नौकरी से नहीं निकाला एवं उन्हें सभी सुविधाएँ भी दी.

कंट्री क्राफ्ट कंपनी  

अदनान की कंट्री क्राफ्ट कंपनी 3, 5 स्टार होटल्स एवं रेस्तौरेंट को टेबल वेयर प्रोडक्ट्स सप्लाई करने कर रही है. मुरादाबाद में यह छोटे छोटे कारीगरों को टेबल वेयर बनाने के लिए ऑर्डर देती है. और उन प्रोडक्ट्स को आगे सप्लाई करती है. इससे वहां के छोटे कारोबारियों को बेहतर रोजगार के अवसर मिले.

मुरादाबाद है इसका बड़ा केंद्र

आधुनिक समय में हाथ से बने बर्तनों को लोग मशीन के द्वारा बनाते हैं, और जैसे जैसे समय बीत रहा हैं आगे जाकर मशीनों का उपयोग और भी ज्यादा बढ़ता जायेगा. मुरादाबाद हाथ से बड़े तांबे एवं पीतल के बर्तनों के निर्यात के लिए बहुत ही प्रसिद्द हैं. यह बर्तनों का एक बड़ा केंद्र बन गया है.

दोना पत्तल बनाने का बिज़नेस इन दिनों हो रहा है काफी लाभकारी, जानें कैसे शुरू करें यह बिज़नेस.

इस तरह से विदेश में नौकरी छोड़कर अदनान नाम के इस व्यक्ति ने भारत में आकार 50 हजार से बिज़नेस शुरू किया और अब लाखों की कमाई कर रहा है. इनकी सफलता की कहानी को पढ़कर आप भी अपने बिज़नेस की शुरुआत करने के बार में विचार कर सकते हैं.

अन्य पढ़ें –

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here