टाइल्स और मार्बल का बिजनेस कैसे शुरू करें (Tiles and Marble Business in Hindi)

0

टाइल्स और मार्बल का बिजनेस कैसे शुरू करें, बिज़नेस प्लान, लाइसेंस, लागत, प्रॉफिट (Tiles and Marble Business in Hindi) (Plan, License, Cost, Profit)

अगर आप टाइल्स और मार्बल का बिजनेस स्टार्ट करना चाहते हैं, तो इसके लिए आपको काफी ज्यादा निवेश करने की जरूरत हो सकती है, क्योंकि यह एक इन्वेस्टमेंट वाला बिजनेस है। आप चाहें तो टाइल्स और मार्बल बिजनेस को किसी भीड़भाड़ वाले इलाके में चालू कर सकते हैं।अगर आप ऐसा करते हैं, तो आपका बिजनेस काफी लंबे समय तक चलेगा और आपकी सेलिंग भी तगड़ी होगी। अगर आप उचित दाम पर अपने ग्राहकों को टाइल्स और मार्बल की सेलिंग करते हैं, तो आपके ग्राहक आपके साथ बंध जाएंगे, जिसके कारण आपको अपने बिजनेस में प्रॉफिट होगा।

tiles and marble business in hindi

Table of Contents

टाइल्स और मार्बल का बिजनेस कैसे शुरू करें (Tiles and Marble Business in Hindi)

टाइल्स बिजनेस से हमारा मतलब टाइल्स की मैन्युफैक्चरिंग या फिर इसका निर्माण नहीं है,बल्कि हम यहां पर ऐसे बिजनेस के बारे में बात कर रहे हैं जिसमें आपको अपनी दुकान या फिर अपने शोरूम की सहायता से टाइल्स और मार्बल को बेचकर मुनाफा कमाना होता है। इसीलिए इस प्रकार का बिजनेस स्टार्ट करने में उतना ज्यादा खर्चा तो नहीं आता है, जितना कि टाइल्स और मार्बल को बनाने के लिए यूनिट स्थापित करने में आता है। इस बिजनेस में व्यक्ति अपने बजट के अनुसार अपने शोरूम या फिर अपनी दुकान में माल भर सकता है और धीरे-धीरे अपने शोरूम अथवा अपनी दुकान में माल की बढ़ोतरी कर सकता है। चलिए अब जानते हैं टाइल्स और मार्बल का बिजनेस कैसे स्टार्ट करें।

टाइल्स और मार्बल बिज़नेस का मार्केट विश्लेषण (Market Research)

हमारे आस पास हमेशा किसी ना किसी व्यक्ति का मकान अथवा घर बनता ही रहता है और जहां तक टाइल्स और मार्बल की बात है, तो इसकी आवश्यकता सिर्फ नए मकान बनाने वाले लोगों को ही नहीं बल्कि पुराने मकानों में रहने वाले लोगों को भी पड़ती है। इसीलिए टाइल्स और मार्बल का बिजनेस स्टार्ट करने वाले व्यक्ति को चाहिए कि वह जिस एरिया में इस प्रकार के बिजनेस को स्टार्ट करना चाहता है, वहां पर नए मकान बन रहे हो या फिर वहां पर ऐसे मकान हो जिनके मालिक अपने मकान में टाइल्स और मार्बल लगाने की इच्छा रखते हो। टाइल्स और मार्बल के बिजनेस को स्टार्ट करने से पहले व्यक्ति को औद्योगिक फील्ड का पूरा ज्ञान हासिल करना चाहिए। इसके लिए वह चाहे तो जहां पर वो टाइल्स और मार्बल की दुकान खोलना चाहता है,वहां पर पहले से ही स्थित किसी टाइल्स और मार्बल की दुकान में कुछ महीने काम कर ले और इस बिजनेस के बारे में सारी बारीकियों को अच्छे से समझ ले। दुकान में काम करते करते व्यक्ति को इस बात का एक्सपीरियंस हो जाएगा कि आखिर उस एरिया में टाइल्स और मार्बल की दुकानों में कस्टमर किन उद्देश्य से आते हैं,कस्टमर दुकानदार से क्या अपेक्षा रखते हैं,उस एरिया में टाइल्स और मार्बल का सबसे अच्छा और बढ़िया सप्लायर कौन है?

टाइल्स और मार्बल बिज़नेस के लिए जगह (Tiles and Marble Business Location)

लोकेशन का सर्वे करने के बाद टाइल्स और मार्बल का बिजनेस स्टार्ट करने के लिए व्यक्ति को अगले कदम के तौर पर अपनी दुकान को चालू करने के लिए ऐसे किसी एरिया में दुकान किराए पर लेनी चाहिए,जहां पर लोगों की ज्यादा भीड़ रहती हो या फिर वह ऐसी जगह पर भी अपनी दुकान किराए पर ले सकता है, जहां पर बिल्डिंग मटेरियल प्रदान करने के लिए ज्यादा दुकान ना हो। अगर व्यक्ति टाइल्स और मार्बल का बिजनेस शोरूम में स्टार्ट करना चाहता है, तो इसके लिए उसे ज्यादा जगह की आवश्यकता पड़ेगी। दुकान या फिर शोरूम को किराए पर लेते समय व्यक्ति को दुकान अथवा शोरूम के मालिक के साथ रेंट एग्रीमेंट अवश्य कर लेना चाहिए, ताकि बाद में आप दोनों के बीच कोई विवाद उत्पन्न ना हो। इसके अलावा टाइल्स और मार्बल का बिजनेस स्टार्ट करने वाले व्यक्ति को इस बात का भी ध्यान रखना चाहिए कि वह जहां पर भी अपना शोरूम या फिर अपनी दुकान स्टार्ट करें,वहां पर आवागमन की अच्छी सुविधा हो,ताकि जब आप बाहर से टाइल्स और मार्बल अपनी दुकान में मंगाए,तो टाइल्स और मार्बल को लेकर आने वाली ट्रक सीधा आपकी दुकान पर बिना किसी रूकावट के आ जाए, ताकि आप सुरक्षित तौर पर अपने माल को लेबर के द्वारा उतरवाकर अपने शोरूम अथवा अपनी दुकान में शिफ्ट कर सकें।

टाइल्स और मार्बल बिज़नेस के लिए लागत (Tiles and Marble Business Cost)

बिजनेस को स्टार्ट करने में आने वाला खर्चा बिजनेस के टाइप, उसके आकार और उसके प्रकार पर निर्भर करता है। अगर हम टाइल्स और मार्बल बिजनेस के बारे में बात करें, तो इसे व्यक्ति अपनी सुविधा के अनुसार किसी भी बजट यहां तक कि ₹200000 से लेकर ₹300000 तक में भी स्टार्ट कर सकता है। यह इसलिए पॉसिबल है क्योंकि इस बिजनेस को स्टार्ट करने में आने वाला मुख्य इन्वेस्टमेंट मार्बल और टाइल को खरीदने में ही होता है,क्योंकि यही आपका मुख्य प्रोडक्ट होता है,जिसकी आपको सेलिंग करनी होती है और फायदा कमाना होता है। अगर व्यक्ति टाइल्स और मार्बल सप्लायर से ज्यादा मात्रा में माल की डिमांड करता है, तो कभी-कभी टाइल्स और मार्बल सप्लायर उसे डिस्काउंट भी देता है। अगर टाइल्स और मार्बल सेलिंग बिजनेस स्टार्ट करने वाले व्यक्ति के पास कम बजट है, तो उसे शुरुआत में कम माल खरीद कर ही अपनी दुकान में रखना चाहिए और जैसे-जैसे उसके माल की सेलिंग होती जाए, वैसे वैसे उसे और माल खरीदना चाहिए।

टाइल्स और मार्बल बिज़नेस लाइसेंस एवं रजिस्ट्रेशन (Tiles and Marble Business License and Registration)

अगर व्यक्ति टाइल्स एंड मार्बल सेलिंग बिजनेस छोटे लेवल पर चालू करना चाहता है, तो इसके लिए उसे किसी भी प्रकार के लाइसेंस या फिर रजिस्ट्रेशन की जरूरत नहीं पड़ेगी, परंतु यह बिजनेस कंस्ट्रक्शन Field से जुड़ा हुआ बिजनेस होता है, जहां पर किसी भी एक कस्टमर को भी बड़ी मात्रा में टाइल्स और मार्बल की जरूरत होती है। ऐसे में व्यक्ति का सालाना टर्नओवर आसानी से जीएसटी की छूट की लिमिट को क्रॉस कर सकता है। इसीलिए व्यक्ति को अपनी दुकान को जीएसटी के तहत रजिस्टर्ड करवा लेना चाहिए। इसके अलावा उसे इस बात का भी पता कर लेना चाहिए कि लोकल लेवल पर उसे टाइल्स और मार्बल के बिजनेस को स्टार्ट करने के लिए कहीं किसी प्रकार के लाइसेंस अथवा रजिस्ट्रेशन की आवश्यकता तो नहीं है। वैसे टाइल्स और मार्बल बिजनेस को स्टार्ट करने के लिए आपको निम्न लाइसेंस की आवश्यकता पड़ सकती है।

• नगर निगम से परमिशन

• एमएसएमई रजिस्ट्रेशन

• जीएसटी रजिस्ट्रेशन

टाइल्स और मार्बल सप्लायर का चयन (Supplier Selection)

सप्लायर का सिलेक्शन करने से पहले व्यक्ति को उस एरिया में उपलब्ध मार्बल एंड टाइल्स की डिमांड का विश्लेषण करना होगा। मतलब की टाइल्स और मार्बल का बिजनेस स्टार्ट करने वाले व्यक्ति को इस बात की जानकारी हासिल करनी होगी कि उस विशेष एरिया में लोग अपने घर और अपनी बिल्डिंग पर किस प्रकार के मार्बल या फिर टाइल्स को लगाना पसंद करते हैं? और क्या उस पार्टिकुलर एरिया में कोई कंपनी पहले से ही इस फील्ड में फेमस है या नहीं। टाइल्स एंड मार्बल सप्लायर का सिलेक्शन करने से पहले व्यक्ति को कम से कम 5 या फिर 6 टाइल्स एंड मार्बल सप्लायर से कोटेशन मंगा लेना चाहिए। वर्तमान के समय की बात की जाए तो वर्तमान के समय में ट्रेड इंडिया, just dial और इंडियामार्ट जैसी वेबसाइट का इस्तेमाल करके व्यक्ति ऑनलाइन किसी भी वस्तु के सप्लायर के बारे में आसानी से इंफॉर्मेशन प्राप्त कर सकता है और उनसे कोटेशन की डिमांड ऑनलाइन कर सकता है। कोटेशन प्राप्त होने के बाद व्यक्ति विश्लेषण करके अपनी पसंद के अनुसार सप्लायर का सिलेक्शन कर सकता है।

टाइल्स और मार्बल बिजनेस मार्केटिंग (Tiles and Marble Business Marketing)

टाइल्स एंड मार्बल सेलिंग बिजनेस के बारे में ज्यादा से ज्यादा इंफॉर्मेशन प्राप्त करने के लिए व्यक्ति को इसके मैन्युफैक्चरर्स से मिलना चाहिए। इसके अलावा उसे टाइल्स एंड मार्बल एग्जिबिशन में भी जाना चाहिए। क्योंकि अपने बिजनेस को प्रमोट करने के लिए उसे टाइल्स एंड मार्बल सेलिंग बिजनेस के बारे में पूरी जानकारी होनी चाहिए, ताकि वह अपने ग्राहकों के द्वारा पूछे गए हर सवाल का जवाब दे पाए और अपने ग्राहकों को संतुष्ट कर पाए। इसके अलावा टाइल्स एंड मार्बल सेलिंग बिजनेस को स्टार्ट करने वाले व्यक्ति को उस एरिया में मौजूद कांट्रेक्टर, प्रॉपर्टी डीलर,बिल्डर, प्लंबर, कारपेंटर और मिस्त्री के साथ संपर्क बना लेना चाहिए, जहां पर वह अपनी दुकान स्टार्ट करता है। ऐसा करने से यह लोग आपको ग्राहक लाकर देंगे, जिससे आपकी सेलिंग अच्छी होगी और आपको टाइल्स एंड मार्बल बिजनेस में फायदा होगा।

टाइल्स और मार्बल बिज़नेस स्कोप (Tiles and Marble Business Scope)

जैसा कि आप जानते हैं कि घर लोगों की पहली आवश्यकता होती है और रोजाना हमारे पूरे भारत भर में कहीं ना कहीं घर बनता ही रहता है।जब लोगों का परिवार बड़ा हो जाता है, तो वह अपने पुश्तैनी घर से निकलकर दूसरे घर का निर्माण करते हैं। ऐसे में लोग अपने घर की साज सजावट पर विशेष तौर पर ध्यान देते हैं। लोग अपने घर की फर्स को अच्छा बनाने के लिए पहले के समय में पलस्तर का इस्तेमाल करते थे परंतु वर्तमान के समय में लोग पलस्तर की जगह पर टाइल्स और मार्बल को अपने घर में लगवाना पसंद करते हैं। इसीलिए इस बिजनेस के सफल होने के काफी ज्यादा चांस है।

टाइल्स और मार्बल बिजनेस में निवेश (Tiles and Marble Business Investment)

टाइल्स और मार्बल सेलिंग बिजनेस को स्टार्ट करने में कितना इन्वेस्टमेंट आ सकता है, यह इस बात पर निर्भर करता है कि आप अपने बिजनेस को कितने बड़े लेवल पर चालू करना चाहते हैं। अगर आप इस बिजनेस को छोटे लेवल पर चालू करना चाहते हैं तब भी आपको कम से कम चार लाख से ₹5,00000 तक का इन्वेस्टमेंट टाइल्स और मार्बल सेलिंग बिजनेस को स्टार्ट करने में लग सकता है। इसके अलावा अगर आप इस बिजनेस को बड़े लेवल पर यानी किसी शोरूम में चालू करना चाहते हैं,तो आपको कम से कम 20 लाख से 25 लाख रुपए तक का इन्वेस्टमेंट इस बिजनेस को चालू करने में करना पड़ सकता है।अगर आपका बजट कम है, परंतु फिर भी आप बड़े लेवल पर इस बिजनेस को चालू करना चाहते हैं तो आप बैंकों से अथवा प्राइवेट इंस्टिट्यूट से इस बिजनेस को स्टार्ट करने के लिए लोन के लिए अप्लाई कर सकते हैं।

टाइल्स और मार्बल बिजनेस में फायदा (Tiles and Marble Business Profit)

अगर आपकी दुकान की सेलिंग अच्छी है और आपने अच्छे ग्राहक बना लिए हैं, तो आपको काफी ज्यादा फायदा इस बिजनेस के कारण हो सकता है। इस बिजनेस में अगर आप ब्रांडेड और अच्छी क्वालिटी का टाइल्स और मार्बल बेचते हैं, तो आपको 5% से लेकर 15% तक का फायदा हो सकता है। इसके अलावा इस बिजनेस में फायदा इस बात पर आधारित होता है कि आप अपने मार्बल और टाइल्स को किस दाम पर बेच रहे हैं और आपकी सेलिंग मनी तथा आपकी मार्जिन मनी क्या है।

टाइल्स और मार्बल की पैकेजिंग (Tiles and Marble Packaging)

देखिए टाइल्स और मार्बल की पैकेजिंग की कोई आवश्यकता नहीं होती है, क्योंकि यह चीजें लोगों को दिखाने के लिए ओपन रखी जाती हैं। हालांकि अगर कोई व्यक्ति आपकी दुकान अथवा आपके शोरूम से टाइल्स और मार्बल की बुकिंग करता है, तो आपकी यह जिम्मेदारी होती है कि उस व्यक्ति के घर तक टाइल्स और मार्बल सही सलामत पहुंचे। इसके लिए आपको टाइल्स और मार्बल को सही सलामत व्यक्ति के घर तक पहुंचाने के लिए आवश्यक प्रबंध करने चाहिए।आप चाहे तो इसके लिए व्यक्ति से भाड़ा भी चार्ज कर सकते हैं।

टाइल्स और मार्बल बिजनेस में जोखिम (Tiles and Marble Business Risk)

अगर इस बिजनेस में जोखिम यानी कि रिस्क की बात की जाए तो इस बिजनेस में जोखिम काफी कम होता है, क्योंकि टाइल्स और मार्बल ऐसी चीजें होती हैं जो जल्दी खराब नहीं होती हैं।हालांकि आपको इस बात का ध्यान रखना पड़ता है कि आपकी दुकान अथवा आपके शोरूम में मौजूद टाइल्स और मार्बल टूटने ना पाए।

FAQ

Q : टाइल्स और मार्बल बिज़नेस कैसे शुरू करें ?

Ans : इसके लिए आपको योजना एवं निवेश करने की आवश्यकता होगी.

Q : टाइल्स और मार्बल बिज़नेस में कितना निवेश करना होगा ?

Ans : कम से कम 5 लाख तक का.

Q : टाइल्स और मार्बल बिज़नेस में कितना लाभ होगा ?

Ans : 5 से 15 % तक का लाभ होगा.

Q : टाइल्स और मार्बल बिज़नेस में क्या लाइसेंस की आवश्यकता होगी ?

Ans : जी हां बिलकुल.

Q : टाइल्स और मार्बल बिज़नेस में क्या जोखिम की संभावना है ?

Ans : जी हां, क्योकि यह हर समय एक सा नहीं चलता है.

अन्य पढ़ें –

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here